scriptKnow story of coach indian hockey team piyush dubey | हाथरस से ताल्लुक रखते हैं हॉकी टीम के कोच पीयूष, घर-बार छोड़ हॉकी टीम को ही माना परिवार | Patrika News

हाथरस से ताल्लुक रखते हैं हॉकी टीम के कोच पीयूष, घर-बार छोड़ हॉकी टीम को ही माना परिवार

पीयूष दुबे के अलावा भी उनके घर में खेल प्रेमी हैं। पीयूष के दादा खेमकरण सिंह दुबे अपने जमाने के बेहतरीन रेसलर थे।

हाथरस

Updated: August 06, 2021 05:48:53 pm

हाथरस. खेल प्रेमियों की निगाहें इनदिनों टोक्यो ओलंपिक(Tokyo Olympics) पर टिकी हुई है। भारतीय हॉकी टीम(Indian Hockey Team) ने 41 साल बाद ओलंपिक(Olympics) का कोई मेडल जीता कर इतिहास रचा है। पूरा देश टीम के खिलाड़ियों का हौसला अफजाई कर रहा है। उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) के हाथरस(Hathras) जिले में भी जश्न का माहौल है क्योंकि टीम को इस मुकाम पर लाने वाले भारतीय हॉकी टीम के कोच पीयूष दुबे(piyush dubey) हाथरस के सादाबाद इलाके के रसमई गांव के रहने वाले हैं। हॉकी में पदक जीतने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने पीयूष फोन कर जीत की बधाई दी। पीयूष दुबे की सफलता से परिवार के साथ—साथ पूरा गांव व जिला गर्व महसूस कर रह है। पीयूष पिछले तीन साल से अपने परिवार से नहीं मिले हैं, दिन-रात एक करके टीम को तैयार करने में लगे थे।
piyush_dubey.jpg
यह भी पढ़ें

यूपी में बाढ़ ने मचा रखा है हाहाकार, जलशक्ति मंत्री बोले, ‘पूरी तरह से सुरक्षित है प्रदेश’

भाई के सलाह पर खेलना शुरू किया हॉकी

भारतीय हॉकी टीम के कोच पीयूष के पिता गवेंद्र सिंह दुबे सरकारी नौकरी में थे और इनकी माता भी स्कूल में बच्चों को पढ़ाती थीं। 1994 में पिता गवेंद्र की पोस्टिंग प्रयागराज में थी। बड़े भाई श्रवण दुबे की सलाह पर पीयूष ने हॉकी खेलना शुरू किया था। पीयूष ने स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI) कोच प्रेमशंकर शुक्ला को अपना गुरु माना। कुछ ही दिनों में वह टीम के कप्तान बन गए। पीयूष ने प्रयागराज विवि और प्रदेश स्तर पर भी खेला है।
कैसे कोच बने पीयूष ?

पीयूष दुबे ने 2003 में पंजाब के पटियाला से कोच की परीक्षा पास की, उन्हें पहली पोस्टिंग भी पटियाला में ही मिली। 2004 में पीयूष दुबे वहां के केंद्रीय विद्यालय की हॉकी टीम के कोच बने। इसके बाद उन्होंने प्रयागराज विवि विद्यालय की हॉकी टीम की कोच के रूप में 2008 काम किया। यहां से पीयूष ने साई के कोच की परीक्षा में टॉप किया, इन्हें हरियाणा के सोनीपत स्थित सेंटर का कोच बनाया गया। यहां से पीयूष ने कई खिलाड़ियों को नेशनल, इंटरनेशनल के लिए तैयार किया।
गांव में जश्न का माहौल

पीयूष दुबे की अगुवाई में ही पहली बार साई की टीम ने राष्ट्रीय स्तर पर हॉकी में पदक जीता है। इससे पहले कभी साई की टीम ने कोई पदक नहीं जीता था। 2019 से पीयूष लगातार भारतीय हॉकी टीम के कोच हैं। पीयूष की अगुवाई में ही 2020 टोक्यो ओलंपिक में बेहतरीन प्रदर्शन कर 4 दशक का सूखा खत्म किया और पदक दिलाया।
पीयूष के खून में है खेल

पीयूष दुबे के अलावा भी उनके घर में खेल प्रेमी हैं। पीयूष के दादा खेमकरण सिंह दुबे अपने जमाने के बेहतरीन रेसलर थे। पीयूष के दादा की तरह ही उनके पिता गवेंद्र सिंह और भाई श्रवण कुमार दुबे भी रेसलर रहे हैं, तो वहीं उनके चाचा उदयवीर सिंह तैराक हैं। पीयूष के भाई लखन सिंह दुबे भी खेल से जुड़े हुए हैं। जबकि उनका भतीजा जगत युवराज दुबे मुक्केबाज है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मस्जिद मामलाः सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हुई एक और याचिका, जानिए क्या की गई मांगऑक्सफैम ने कहा- कोविड महामारी ने हर 30 घंटे में बनाया एक नया अरबपति, गरीबी को लेकर जताया चौंकाने वाला अनुमानसंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजरबिहार में भीषण सड़क हादसा, पूर्णिया में ट्रक पलटने से 8 लोगों की मौतश्रीनगर पुलिस ने लश्कर के 2 आतंकवादियों को किया गिरफ्तार, भारी संख्या में हथियार बरामदGood News on Inflation: महंगाई पर चौकन्नी हुई मोदी सरकार, पहले बढ़ाई महंगाई, अब करेगी महंगाई से लड़ाईकोरोना वायरस का नहीं टला है खतरा, डेल्टा-ओमिक्रॉन के बाद अब दो नए सब वैरिएंट की दस्तक से बढ़ी चिंताNEET UG 2022: 3 घंटे से ज्यादा मिलेगा समय, टाइ ब्रेकिंग रूल और मार्किंग पैटर्न भी बदला, 14 विदेशी केंद्रों में भी होंगे Exam
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.