scriptCoronavirus Survivors facing eyesight loss, health experts worried by Mucormycosis fungus virus | कोरोना से ठीक होने वाले लोगों को अपना शिकार बना रहा यह खतरनाक वायरस | Patrika News

कोरोना से ठीक होने वाले लोगों को अपना शिकार बना रहा यह खतरनाक वायरस

  • राजधानी दिल्ली के एक अस्पताल में Mucormycosis fungus के दर्जन से ज्यादा मामले।
  • आंखों की रोशनी का स्थायी रूप से चले जाना और आधे मरीजों की मौत का भी बना कारण।
  • स्टेरॉयड की अधिकता और इम्यूनिटी में कमी के चलते आसानी से शिकार बना रहा फंगस।

नई दिल्ली

Updated: December 14, 2020 08:39:40 pm

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से ठीक होने के बाद तमाम मरीजों में कई तरह की परेशानियां देखने को मिल रही हैं। राजधानी दिल्ली स्थित सर गंगाराम अस्पताल में ईएनटी सर्जनों ने 12 से अधिक मरीजों में कोरोना से ठीक होने के 15 दिनों के भीतर इस वायरस के चलते घातक Mucormycosis fungus संक्रमण देखा है। यह फंगस आंखों की रोशनी खत्म होने, नाक और जबड़े की हड्डी हटाने और मस्तिष्क से जुड़े मामलों में 50 प्रतिशत मृत्यु दर का कारण बनता है।
Coronavirus Survivors facing eyesight loss, health experts worried by Mucormycosis fungus virus
Coronavirus Survivors facing eyesight loss, health experts worried by Mucormycosis fungus virus
कोरोना वायरस से ठीक होने वाले मरीजों में सामने आ रहे हैं ऐसे लक्षण, डॉक्टरों ने बताया क्या करें

सर गंगा राम की ईएनटी और आई टीम को पिछले एक पखवाड़े में लगभग 10 रोगियों में रिसेक्शंस प्रोसिजर अपनाना पड़ा, जिसमें से लगभग 50 प्रतिशत ने अपनी आंखों की रोशनी स्थायी रूप से खो दी थी। इनमें से पांच रोगियों को अन्य संबंधित जटिलताओं के चलते सीसीयू की जरूरत पड़ी। गंगा राम अस्पताल के आधिकारिक बयान के अनुसार अब तक इस इस समूह में पांच लोगों की मौत हो गई।
विशेषज्ञों के अनुसार COVID-19 मरीजों में इस वायरस के होने की संभावना अधिक होती है क्योंकि यह हवा में है। वे कहते हैं कि यह एक सर्वव्यापी फंगस है और पौधे, जानवर और हवा में मौजूद रहता है लेकिन यह कोविड से ठीक होने वाले मरीजों पर हमला कर रहा है क्योंकि उन्हें स्टेरॉयड दिए गए हैं और उनमें पहले से कई बीमारियों हैं, जो कि इसे और भी बदतर बना देती हैं।
कोरोना वायरस से ठीक होने के बावजूद करना पड़ रहा है तकलीफों का सामना, अपनाएं ये शानदार उपाय

सर गंगा राम अस्पताल के वरिष्ठ ईएनटी सर्जन डॉ. मनीष मुंजाल ने बताया, "यह एक वायरस है और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों पर हमला करता है। यह फंगस शरीर में आता है और जहां से यह आता है, उस हिस्से को नष्ट कर देता है। कोविड-19 के बाद मरीजों को साइटोकिन को कम करने के लिए स्टेरॉयड की एक बड़ी खुराक दी जाती है जो शरीर में प्रवेश करने के लिए घातक म्यूकोर्मोसिस (Mucormycosis fungus) जैसे फंगल संक्रमण की अनुमति देता है।"
डॉ. मुंजाल ने कहा, "यह Mucormycosis को नाक की जड़ के माध्यम से आंखों और मस्तिष्क में पहुंचने का मौका देता है और अगर इसका पता ना चले तो यह कुछ ही दिनों में 50 प्रतिशत से अधिक मामलों में मौत का कारण बन सकता है। इससे पहले से आंखें, जबड़े की हड्डियां और कॉस्मेटिक डिसफिगरमेंट जैसी पहले से मौजूद बीमारी को नुकसान भी हो सकता है।"
नए शोध में कोरोना वायरस के नए लक्षण का हुआ खुलासा, सामने आई वो परेशानी जिससे थे सब अंजान

अगर इसकी शुरुआत में पहचान कर ली जाए, तो इससे होने वाले नुकसान को रोका जा सकता है। सर गंगा राम अस्पताल की वरिष्ठ नेत्र सर्जन डॉ. शालू बगेजा के अनुसार, "ऑर्बिटल भागीदारी इस बीमारी के बढ़ने में एक गंभीर विकास है और न केवल आंखों की रोशनी के स्थायी नुकसान की संभावना की ओर इशारा करती है, बल्कि जीवन के साथ-साथ मस्तिष्क की भागीदारी भी Mucormycosis में मृत्यु का प्रमुख कारण है।"
इसके लक्षणों में चेहरे का सुन्न होना, एक तरफ की नाक में रुकावट या आंखों में सूजन या दर्द होना शामिल है। यहां ईएनटी सर्जन सैंपल लेते हैं और निश्चित चिकित्सा उपचार शुरू करते हैं जो चिकित्सा हानि को रोक सकता है। हालांकि, डॉक्टरों ने कहा कि इलाज जल्दी और शीघ्र होना चाहिए क्योंकि कोविड की वजह से मरीज पहले से ही कमजोर हो जाते हैं और उन्हें लंबे समय तक अस्पताल में भर्ती रहने की आवश्यकता होती है।
newsletter

अमित कुमार बाजपेयी

पत्रकारिता में एक दशक से ज्यादा का अनुभव. ऑनलाइन और ऑफलाइन कारोबार, गैज़ेट वर्ल्ड, डिजिटल टेक्नोलॉजी, ऑटोमोबाइल, एजुकेशन पर पैनी नज़र रखते हैं. ग्रेटर नोएडा में हुई फार्मूला वन रेसिंग को लगातार दो साल कवर किया. एक्सपो मार्ट की शुरुआत से लेकर वहां होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनियों-संगोष्ठियों की रिपोर्टिंग.

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

नोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेरपुलिस में मामला दर्ज, नाराज कांग्रेस विधायक का इस्तीफा, जानें क्या है पूरा मामलाडिकॉक-राहुल ने IPL में रचा इतिहास, तोड़ डाला वार्नर और बेयरेस्टो का 4 साल पुराना रिकॉर्डDelhi LG Resigned: दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिया इस्तीफा, निजी कारणों का दिया हवालाIndia-China Tension: पैंगोंग झील पर बॉर्डर के पास दूसरा पुल बना रहा चीन, सैटेलाइट इमेज से खुलासाHeavy rain in bangalore: तेज बारिश से दो मजदूरों की मौत, मुख्यमंत्री ने की मुआवजे की घोषणाज्ञानवापी मस्जिद: नौ तालों में कैद वजूखाना, दो शिफ्टों में निगरानी कर रहे CRPF जवान, महंतो का नया दावापाकिस्तान व चीन बॉडर पर S-400 मिसाइल तैनात करेगा भारत, जानिए क्या है इसकी खासियत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.