मोदी सरकार का होली तोहफा, इस त्यौहार से पहले आएगी 'PM किसान सम्मान' की 8वीं किश्त ! चेक करें लिस्ट में अपना नाम

  • मोदी सरकार किसानों को देने वाले है होली का अनमोल तोहफा
  • सरकार 8वीं किश्त का पैसा किसानों के अकाउंट में होली से पहले भेज सकती है

By: Pratibha Tripathi

Updated: 16 Mar 2021, 01:02 PM IST

नई दिल्ली। एक ओर जहां किसान आंदोलन की देश और दुनिया में चर्चा है, तो वहीं दूसरी ओर मोदी सरकार की कई बड़ी योजानाए किसानो को राहत देने का काम भी कर रही हैं। इन्हीं योजनाओं में से एक है 'पीएम किसान सम्मान निधि योजना' अब इस योजना के जरिए मोदी सरकार किसानों को होली का अनमोल तोहफा देने वाली है। इस योजना के तहत हर साल किसानों के खाते में 6000 रुपए डाले जाते हैं। हालांकि यह राशि उनके खाते में तीन किश्तों में दी जाती है। अब तक किसानों को सात किश्त प्राप्त हो चुकी है। और अब किसान 8वीं किश्त का इंतजार कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें-:“मेरा राशन ऐप” हुआ लॉन्च, अब आप देश के किसी भी कोने में ले सकते हैं राशन

जानकारी के मुताबिक मोदी सरकार किसानों की होली खुशनुमा करने वाली है। सरकार 8वीं किश्त का पैसा किसानों के अकाउंट में होली से पहले भेज सकती है। कहा तो यह भी जा रहा है कि कृषि विभाग की तरफ से राशि भेजने के लिए तैयारियां भी कर ली गई हैं। अब उम्मीद यह जताई जा रही है कि किसानों के खाते में 29 मार्च के पहले तक 8वी किश्त की राशि आ सकती है।

आंकड़ों के मुताबिक 'पीएम किसान सम्मान निधि' योजना से 12 मार्च 2021 तक कुल 11.71 करोड़ किसान जुड़ चुके हैं। यदि आप 'पीएम किसान सम्मान निधि' योजना की मिलने वाली राशि के बारे में जानना चाहते हैं तो घर बैठे लिस्‍ट देखकर अपनी स्थिति की जानकारी ले सकते हैं। इसके लिए किसानों को आधिकारिक वेबसाइट https://pmkisan.gov.in/ पर जाना होगा। आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आप अपना नाम व इस योजना की सारी डिटेल्स चेक कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:-- 7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी! खाते में आने वाली है बढ़ी हुई सैलरी

आपको बतादें कि इस योजना की शुरुआत जून 2019 में की गई थी। इस योजना से पंश्चिम बंगाल और केरल राज्यों को छोड़कर बाकी सभी राज्यों के किसान जुड़ें हुए हैं। मोदी सरकार सत्ता में आने के बाद से ही किसानों को सशक्त बनाने सहित कई ड्रीम प्रोजेक्ट को लॉन्च करना चाह रही थी, उसी के तहत इस योजना को शुरू किया गया। इस योजना को लेकर सरकार का मकसद था जो छोटे किसान फसल सूख जाने या कुदरती आपदा की वजह से खेती से वंचित रह जाते थे या सूदखोरों के जाल में फंस कर अपनी जिंदगी समाप्त कर लेते थे उन्हें इस योजना के तहत राहत प्रदान की जा सके और देश का अन्नदाता निर्बाध खेती किसानी कर सके। आज करोड़ों किसानों को इस योजना के रहत मिली है उसका असर साफ देखा जा सकता है।

Pratibha Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned