scriptdo you know which bird drinks only rain water | ये चिड़िया पीती है सिर्फ बारिश का पानी, जानें और क्या है इसकी विशेषताएं | Patrika News

ये चिड़िया पीती है सिर्फ बारिश का पानी, जानें और क्या है इसकी विशेषताएं

इस धरती पर मौजूद सभी प्राणियों को जिंदा रहने के लिए पानी बहुत ही जरूरी है। पानी के बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। हालांकि कुछ जीव कम पानी पीकर ही गुजारा करते हैं लेकिन सभी को पानी चाहिए। एक पक्षी ऐसा भी है जो प्यासा रह सकता है। लेकिन नदी या तालाब का पानी नहीं पीता है।

नई दिल्ली

Published: February 11, 2022 01:12:50 pm

इस धरती पर मौजूद सभी प्राणियों को जिंदा रहने के लिए पानी बहुत ही जरूरी है। पानी के बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। हालांकि कुछ जीव कम पानी पीकर ही गुजारा करते हैं लेकिन सभी को पानी चाहिए। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि एक पक्षी ऐसा भी है जो प्यासा रह सकता है। लेकिन नदी या तालाब का पानी नहीं पीता है। बहुत से लोग इस पक्षी के बारे में नहीं जानते हैं। चलिए आज आपको इस पक्षी का नाम और इसकी विशेषता बताते हैं। इस पक्षी का नाम चातक है। चातक प्यासा रह सकता है लेकिन बारिश के पानी के अलावा कोई और पानी नहीं पीता है।

jacobin_cuckoo
jacobin_cuckoo

काफी स्वाभिमानी होता है चातक
चातक पक्षी सिर्फ बारिश के पानी को ही पीता है। अगर ये पक्षी काफी प्यासा है और इसे साफ पानी की झील में डाल दिया जाए, तब भी ये अपनी चोंच पानी पीने के लिए नहीं खोलेगा। कहा जाता है कि यह पक्षी प्यारा मर जाएगा लेकिन बारिश के अलावा कहीं और पानी नहीं पीता है। पानी पीने के मामले में यह पक्षी काफी स्वाभिमानी है। बारिश के अलावा दूसरे किसी तरीके से जल ग्रहण नहीं करता है।

यह भी पढ़ें

महिला ने सड़क पर कराई डॉगी को पॉटी, 6 महीने बाद आया इतने हजार का नोटिस





स्वाति नक्षत्र में बरसने वाले पानी को पीता है
चातक पक्षी सिर्फ एशिया और अफ्रीका महाद्वीप में पाया जाता है। भारत में ये पक्षी मुख्यतः उत्तराखंड में पाया जाता है। गढ़वाल में इस पक्षी को चोली नाम से पुकारते है। बारिश में भी ये पक्षी सिर्फ स्वाति नक्षत्र में बरसने वाले जल को ही पीता है।

यह भी पढ़ें

जुड़वां बहनों की जुड़वां भाइयों से रचाई शादी, अब बच्चे भी हुए एक साथ




जानिए अन्य विशेषता
इस पक्षी को राजस्थान में मघवा और पपिया के नाम से जाना जाता है। ये प्यासा मर जाएगा लेकिन दूसरे किसी तरह से पानी नहीं पीता है। इस पक्षी के बारे में लोगों कहते है कि ये सिर्फ आकाश में टकटकी लगाए रहता है। चातक लगभग 15 इंच लंबा काले रंग का पक्षी है, जिसका निचला भाग श्वेत रहता है। चातक का मुख्य भोजन कीड़े मकोड़े और इल्लियाँ हैं। चातक कुक्कू कुल का प्रसिद्ध पक्षी है। वह अपनी चोटी के कारण इस कुल के अन्य सब पक्षियों से अलग नजर आता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Rajasthan: तीसरी कक्षा के दलित छात्र को निजी स्कूल के शिक्षक ने पानी का कंटेनर छूने को लेकर पीटा, मौत के बाद तनाव, इंटरनेट सेवा बंदJ-K: स्वतंत्रता दिवस से पहले आतंकियों का ग्रेनेड से हमला, कुलगाम में पुलिसकर्मी शहीदNashik News: कंबल में लेटाकर प्रेग्‍नेंट महिला को पहुंचाया गया हॉस्पिटल, दिल दहला देने वाला वीडियो हुआ वायरल14 अगस्त स्मृति दिवस: वो तारीख जब छलनी हुआ भारत मां का सीना, देश के हुए थे दो टुकड़ेबीजेपी अध्यक्ष ने LG को लिखा लेटर, कहा - 'खराब STP से जहरीला हो रहा यमुना का पानी, हो रहा सप्लाई'सलमान रुश्दी पर हमला करने वाले की ईरान ने की तारीफ, कहा - 'हमला करने वाले को एक हजार बार सलाम'58% संक्रामक रोग जलवायु परिवर्तन से हुए बदतर: प्रोफेसर मोरा ने बताया, जलवायु परिवर्तन से है उनके घुटने के दर्द का संबंधआरएसएस नेता इंद्रेश कुमार का बड़ा बयान, बापू की छोटी सी भूल ने भारत के टुकड़े करा दिए
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.