कोरोना मरीजों पर इस्तेमाल की जा रही ये खास दवा, सामने आ रहे सकारात्मक नतीजे

इंदौर में इस महामारी के मध्यम लक्षणों वाले मरीजों पर वायरसरोधी दवा रेमडेसिवीर का इस्तेमाल शुरू किया गया है। डॉक्टरों का कहना है कि, इसके शुरुआती तौर पर सकारात्मक नतीजे सामने आ रहे हैं।

By: Faiz

Published: 29 Jun 2020, 11:18 PM IST

इंदौर/ देशभर में कोरोना वायरस के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। विशेषज्ञों का कहना है कि, जब तक संक्रमण के लिए पर्याप्त दवा या वैक्सीन नहीं बनती तब तक संक्रमण पर रोकथाम ही सबसे बेहतर विकल्प है। हालांकि, देश के चिकित्सक कोविड-19 ( COVID-19 ) और आमजन के बीच इन दिनों एक दीवार के समान खड़ हैं। देश के सबसे अधिक संक्रमित जिलों में से एक इंदौर (Indore) में इस महामारी के मध्यम लक्षणों वाले मरीजों पर वायरसरोधी दवा रेमडेसिवीर ( Remdesivir ) का इस्तेमाल शुरू किया गया है। डॉक्टरों का कहना है कि, इसके शुरुआती तौर पर सकारात्मक नतीजे सामने आ रहे हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- अब 31 जुलाई तक बंद रहेंगे प्रदेश के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूल, आदेश जारी


7 मरीजों पर किया जा रहा रेमडेसिवीर का इस्तेमाल

इंदौर के श्री अरबिंदो इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (सैम्स) के छाती रोग विशेषज्ञ और विभाग के प्रमुख डॉ. रवि डोसी के मुताबिक, पहले चरण में कोविड-19 के मध्यम लक्षण वाले ऐसे सात मरीजों पर रेमडेसिवीर का इस्तेमाल शुरू किया गया, जो आईसीयू (ICU) में भर्ती हैं, उन्हें सांस लेने में बड़ी दिक्कत के कारण कृत्रिम ऑक्सीजन पर निर्भर हैं। सातों मरीजों को प्रोटोकॉल के तहत अन्य दवाएं भी दी जा रही हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- बाबा महाकाल की शाही सवारी में इस बार शामिल नहीं हो सकेंगे भक्त, बस इस तरह किये जा सकते हैं दर्शन


कुछ मरीज अन्य बीमारियों से भी ग्रस्त

डॉ. डोसी के मुताबिक, ये मरीज 28 से 68 वर्ष की उम्र के हैं। इनमें से पांच मरीज पहले से अन्य बीमारियों से भी ग्रस्त हैं। इसमें मधुमेह, उच्च रक्तचाप और गठिया के मरीज शामिल हैं। उन्होंने बताया कि इन मरीजों को इंजेक्शन के माध्यम से रेमडेसिवीर इसलिये दी जा रही है ताकि हम उनकी हालत बिगड़ने से रोक सकें और उन्हें जीवन रक्षक यंत्र (वेंटिलेटर) पर रखने की नौबत न आने पाय।

 

पढ़ें ये खास खबर- इस किसान के लिए सोना बन गया काला गेहूं, सिर्फ भारत से ही नहीं विदेशों से भी आती है भारी डिमांड


नतीजे सकारात्मक

डॉ. डोसी के मुताबिक, सातों मरीजों को पिछले तीन दिन से रोज़ाना रेमडेसिवीर का एक-एक इंजेक्शन दिया जा रहा है। चिकित्सकों के मुताबिक, ये डोज कोरोना संक्रमित मरीज को इंजेक्शन फॉर्म में पांच दिनों तक लगाए जाने हैं। उन्होंने बताया कि शुरुआती रूप से इन मरीजों पर रेमडेसिवीर का परिणाम उत्साहजनक रहा है। हालांकि, पांच दिन का डोज पूरा होने के बाद ही इस विषय में पुख्ता तौर पर कुछ कहा जा सकेगा।

 

पढ़ें ये खास खबर- कोरोना वायरस का तेजी से पता लगाता है ये खास टेस्ट, इस शहर से शुरु होगी टेस्टिंग!


शहर में आज ये हैं हालात

29 जून को जारी मेडिकल बुलेटुन के मुताबिक, इंदौर में अब तक कोविड-19 के कुल 4,664 मरीज सामने आ चुके हैं। इनमें से 226 मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है, जबकि 3,435 लोग उपचार के बाद स्वस्थ हो चुके हैं।

coronavirus prevention COVID-19
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned