जब दफन के 3 दिन बाद कब्र से निकाला गया शव, हैरान कर देगा कारण

इंदौर में हत्या के शक में कब्र से निकाला गया शव, 3 दिन पहले हुई थी बुजुर्ग की मौत। मृतककी भतीजी ने आरोप लगाया कि, चाचा के शरीर पर चोट के निशान थे।

By: Faiz

Published: 15 Sep 2021, 03:02 PM IST

इंदौर. मध्य प्रदेश की आर्थिक नगरी इंदौर के रावजी बाजार इलाके में स्थित कब्रिस्तान के बाहर उस समय लोगों में अफरा तफरी मच गई, जब तीन दिन पहले दफनाए गए शव को बाहर निकालने पुलिस कब्रिस्तान पहुंची। दरअसल, मृतक के परिजन का आरोप है कि, बुजुर्ग की हत्या की गई थी। लेकिन कुछ लोगों ने घटना को दबाने के लिए उसे सामान्य मौत दर्शाकर शव को दफना दिया। फिलहाल, मंगलवार को एसडीएम से अनुमति मिलने के बाद पुलिस की निगरानी में शव को कब्र से निकालकर पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया गया है। पुलिस का कहना है कि, रिपोर्ट आने के बाद ही स्थिततियां स्पष्ट हो सकेंगी।

रावजी बाजार थाना प्रभारी प्रीतम ठाकुर ने इस संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि, 11 सितंबर को थाना क्षेत्र में आने वाले चंपा बाग के रहवासी 60 वर्षीय असलम की मौत हो गई थी। वो अकेले चंपा बाग में किराए के मकान में रहते थे। मौत के बाद आसपास के रहने वाले रहवासियों ने बुजुर्ग के शव को लुनियापुरा कब्रिस्तान में दफना दिया गया। वहीं, असलम की भतीजी को दफन से जुड़ी तस्वीरें और वीडियो दे दी थी। भतीजी नाजिम शेख ने फोटो और वीडियो को ध्यान से देका, तो उन्हें असलम के शरीर पर मारपीट के निशान नजर आए। साथ ही नाक पर खून दिखा। नाजिम ने मकान मालिक के परिवार के लोगों पर मारपीट कर हत्या करने का संदेह जताया, क्योंकि उनका विवाद चल रहा था।

 

पढ़ें ये खास खबर- डेंगू से जंग जनता के संग : CM शिवराज ने छिड़का कीटनाशक, हरी झंडी दिखाकर शुरु किया अभियान


शव को पोस्टमार्टम के लिये भेजा MY अस्पताल

News

भतीजी की शिकायत पर पुलिस और मजिस्ट्रेट महिला अधिकारी ने लुनियापुरा कब्रिस्तान पहुंचकर मजदूर की मदद से कब्र को खुदवा कर असलम के शव का बाहर निकलवाया। साथ ही, शव को पोस्टमार्टम के लिए एमवाय अस्पताल भेज दिया गया है। 3 दिन पूर्व ही बुजुर्ग के शव को दफनाया गया था। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजे दिया।

 

पढ़ें ये खास खबर- आज से खुल गए कॉलेज : क्लास में बैठने के लिये मानने होंगे ये नियम


मृतक की भतीजी का आरोप

बुजुर्ग की भतीजी नाजिम शेख ने आरोप लगाया कि, चंपा बाग में रहने वाले बुजुर्ग को मकान मालिक के भाई द्वारा लंबे समय से परेशान किया जा रहा था। मृतक का परिवार कई पीढ़ियों से मकान में रह रहा था। 2 दशकों से अधिक पुराना वह मकान था, लेकिन जिस समय बुजुर्गों की मौत हुई थी, उस वक्त उनके चेहरे से खून आ रहा था। चश्मदीदों ने शव को चूहे द्वारा खाया जाना बताया था। भतीजी ने ये भी आरोप लगाया कि, बुजुर्गों की मौत के बाद शव को दफनाने की तैयारी चल रही थी, जब वे वहां गई तो मकान मालिक के लोगों ने रोक दिया। इस दौरान उनके साथ मकान मालिक ने हाथापाई भी की थी।

 

'डेंगू से जंग जनता के संग' अभियान की शुरुआत, CM शिवराज ने की फॉगिंग, देखें वीडियो

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned