डेंगू से जंग जनता के संग : CM शिवराज ने छिड़का कीटनाशक, हरी झंडी दिखाकर शुरु किया अभियान

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने फागिंग मशीन चलाई और कीटनाशक भी छिड़का। हरी झंडी दिखाकर प्रदेश स्तरीय डेंगू रोधी अभियान का शुभारंभ किया।

By: Faiz

Published: 15 Sep 2021, 01:24 PM IST

भोपाल. मध्य प्रदेश में अब डेंगू तेजी से अपने पाव पसार रहा है। यहां मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। बीते 24 घंटों के दौरान भोपाल में 9 नए मामले सामने आए हैं, इसके बाद जिले में डेंगू के कुल मरीजों की संख्या 203 हो गई है। इसी कड़ी में बुधवार से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 'डेंगू से जंग-जनता के संग' अभियान की शुरुआत की है। सीएम ने भोपाल के नेहरू नगर स्थित पलकमती कॉलोनी में हरी झंडी दिखाकर इस अभियान का शुभारंभ किया। साथ ही, सीएम ने खुद कीटनाशक का छिड़काव किया, साथ ही फॉगिंग मशीन भी चलाई।


बता दें कि, अभियान के तहत जनता को जोड़कर सप्ताह में एक दिन पानी किसी एक स्थान की सफाई करने के लिये प्रेरित किया जा रहा है। साथ ही, ये अभियान प्रदेश में एंटी लार्वा गतिविधियों को तेज करने की भी एक कवायद है। अभियान के तहत जनता को घरों में कूलर, वॉटर टैंक और आसपास गड्‌ढों में जमा पानी की सफाई कर स्वच्छता अभियान चलाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। साथ ही, आवश्यक स्थानों पर फॉगिंग भी की जा रही है।

 

पढ़ें ये खास खबर- प्लेन को बम से उड़ाने की धमकी, पुलिस ने जारी किया लुकआउट नोटिस


शहर में तेजी से पैर पसार रहा डेंगू

News

अगर सिर्फ राजधानी भोपाल की ही बात करें, तो बीते 24 घंटों के दौरान यहां डेंगू के 9 नए केस सामने आए हैं। इसके साथ ही जिले में डेंगू के मरीजों की कुल संख्या 203 पर पहुंच गई है। इससे बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग शहर के विभिन्न क्षेत्रों, अति संवेदनशील क्षेत्रों, स्लम एरिया और अन्य बस्तियों में डेंगू लार्वा, मलेरिया, रैपिड टेस्ट, ब्लड स्लाइड कलेक्शन और कोरोना से बचाव की जानकारी आदि कार्य कर रहा है।


क्या कहते हैं जिम्मेदार?

जिला मलेरिया अधिकारी अखिलेश दुबे ने बताया कि मलेरिया की रोकथाम के लिए विभिन्न क्षेत्रों में दल नियुक्त कर अभियान चलाया जा रहा है। भोपाल जिले में 312 लोगों की रैपिड टेस्ट से मलेरिया की जांच की गई। इनमें भोपाल शहर में 168 और बैरसिया में 53 से अधिक लोगों की मलेरिया जांच के लिए नमूने लिए गए। शहर के विभिन्न क्षेत्रों में डेंगू के लार्वा के लिए 38 टीमों का दल नियुक्त किया गया है। इनके द्वारा 1428 घरों का सर्वे कर किया गया। 138 घरों में लार्वा पाया गया। अलग-अलग जगह 10 हजार से अधिक बर्तनों में लार्वा सर्वे किया गया, जिसमें केवल 159 बर्तनों में लार्वा पाया गया। डेंगू के लार्वा को टेमोफॉस डाल कर नष्ट किया गया।

 

पढ़ें ये खास खबर- सड़क पर हुई महिला की डिलीवरी, कुछ घंटों पहले ही अस्पताल से हुई थी डिस्चार्ज


शहर के डेंगू सेंसेटिव जोन

भोपाल में साकेत नगर, बरखेड़ा पठानी, बागसेवनिया, कमला नगर, निजामुद्दीन कॉलोनी, लालघाटी सेंसेटिव इलाके हैं। यहां 5 से ज्यादा डेंगू मरीज मिले हैं। जनवरी से अब तक भोपाल में 1 लाख 65 हजार घरों की जांच की जा चुकी है। इनमें से करीब 14 हजार घरों में लार्वा पाया गया, जिसे जांच टीम द्वारा नष्ट किया गया।


प्रदेश में यहां बढ़ रहे केस

मध्य प्रदेश में डेंगू से सबसे अधिक प्रभावित जिला मंदसौर है। यहां अब तक डेंगू के 800 से अधिक मरीज सामने आ चुके हैं। इसके बाद जबलपुर, रतलाम, आगर मालवा, भोपाल और सिवनी में डेंगू के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं।


इन बातों का रखें खास ध्यान

News

-मच्छरों को दूर रखने के लिए मच्छर भगाने वाले क्रीम और स्प्रे करें, मच्छरदानी का इस्तेमाल जरूर करें।
-बाहर जाते समय लंबी बाजू की शर्ट और पैंट पहनें।
-पानी को घर के पास एकत्रित न होने दें।
-कूलर, गमले, पक्षियों के लिए रखे बर्तन का पानी बार-बार बदलें।

 

पढ़ें ये खास खबर- मध्य प्रदेश में सांप्रदायिक तनाव फैलाने की साजिश! इंटेलिजेंस की रिपोर्ट के बाद अलर्ट पर पुलिस


ये लक्षण दिखें, तो तुरंत कराएं जांच

तेज बुखार, ठंड गलना, जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द, आंखों के पीछे दर्द, थकान, ऐंठन, शरीर पर लाल चकते।


डेंगू का इलाज

अगर आााप खुद य आपके आसरास किसी व्यक्ति में डेंगू के लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत ही उसे डॉक्टर के पास ले जाएं। डेंगू से जल्दी ठीक होने के लिए, ज्यादा से ज्यादा आराम करें, तरल पदार्थों का सेवन अधिक करें।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned