आज से खुल गए कॉलेज : क्लास में बैठने के लिये मानने होंगे ये नियम

बुधवार से मध्य प्रदेश के सभी कॉलेजों को खोल दिया गया है। छात्र दिशा निर्देशों का पलन करते हुए क्लास अटेंड कर सकते हैं।

By: Faiz

Published: 15 Sep 2021, 02:43 PM IST

भोपाल. मध्य प्रदेश में बुधवार से कॉलेजों को खोल दिया गया है। छात्र दिशा निर्देशों का पलन करते हुए क्लास अटेंड कर सकेंगे। कॉलेज खुलने के पहले दिन उन छात्रों को कक्षा में बैठने की अनुमति मिली, जिन्होंने वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट और अपने पेरेंट्स के सहमति पत्र की कापी कॉलेज में जमा करा दी। प्रदेश के अकसर कॉलेजेज में कई छात्र इन दोनों नियमों का पूर्णत पालन नहीं कर सके। ऐसे में कॉलेज प्रबंधन द्वारा अगले दिन वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट और पेरेंट्स के अनुमति पत्र लाने की नसीहत दी गई।


इस संबंध में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि, प्रदेश के सभी विश्वविद्यालय और महाविद्यालय की शैक्षणिक गतिविधियां बुधवार से स्टूडेंट्स की उपस्थिति के साथ शुरु कर दिये गए हैं। शैक्षणिक तथा अशैक्षणिक स्टॉफ 100 फीसदी उपस्थिति रहने की बात कही गई है। हालांकि,छात्र-छात्राएं 50 फीसदी ही प्रवेश ले सकेंगी। छात्रों को शुरुआती 10 दिन कॉलेज, कोर्स, विषय, विषय बदलने, स्कॉलरशिप और अन्य बातों की जानकारी दी जाएगी। ताकि वो क्लास शुरू होने के पहले सभी तरह की प्रक्रियाओं को समझ सकें। दस दिन बाद से क्लासेज शुरु की जाएंगी।

 

पढ़ें ये खास खबर- डेंगू से जंग जनता के संग : CM शिवराज ने छिड़का कीटनाशक, हरी झंडी दिखाकर शुरु किया अभियान

 

मंत्री मोहन यादव ने किया ट्वीट

जानिये आज क्या रही भोपाल की स्थिति

भोपाल में स्थित एमबीएम कॉलेज में कुछ छात्र बिना कंसर्न लेटर और वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट के भी पहुंच गए। उन्होंने बताया कि, उन्हें इस संबंध में जानकारी नहीं थी।पहले दिन प्रोफेसर बच्चों को एक शर्त पर प्रवेश दे रहे हैं कि, अगले दिन उन्हें ये जरूरी दस्तावेज कॉलेज प्रबंधन को जमा कराने होंगे। इस दौरान छात्रों को बताया गया कि, फर्स्ट ईयर की कक्षाएं 1 अक्टूबर से लगाई जाएंगी। इससे पहले छात्रों को विषय का चयन करने का समय दिया गया है।

 

पढ़ें ये खास खबर- मध्य प्रदेश में सांप्रदायिक तनाव फैलाने की साजिश! इंटेलिजेंस की रिपोर्ट के बाद अलर्ट पर पुलिस


ऑनलाइन क्लासेज चलती रहेंगी

मौजूदा व्यवस्थाओं के अनुसार, कई कॉलेजेस में विद्यार्थियों की संख्या अधिक है। ऐसे में सरकार की ओर से तय किया गया है कि, हर स्तर पर कोरोना सुरक्षा मानकों के आधार पर पृथक-पृथक समूह बनाकर प्रायोगिक एवं शैक्षणिक कार्यों को किया जाएगा। शिक्षण संस्थाओं द्वारा ऑनलाइन कक्षाओं का संचालन भी जारी रहेगा। छात्रों की पढ़ाई के लिए लाइब्रेरी भी शुरू की जा रही हैं। यहां पर प्रवेश से पहले कर्मचारियों/विद्यार्थियों का कोविड प्रोटोकॉल के तहत शारीरिक तापमान, आवश्यक रूप से मास्क का इस्तेमाल, हाथों को सेनेटाइज करने तथा पुस्तकालय में सोशल डिस्टेंसिंग रखी जाएगी। साथ ही, कॉलेज में 50 फीसदी क्षमता के साथ के साथ, जो क्लास लगलाई जाएगी, उसे ऑनलाइन भी जारी रखा जाएगा, ताकि पढ़ाई को सुचारू रखा जा सके।


हॉस्टल और मैस भी जल्द खोले जाएंगे

विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों में हॉस्टल और मैस भी जल्द ही खोले जाएंगे। इस कार्य को चरणबद्ध रूप से शुरु किया जाएगा। पहले चरण में यूजी अंतिम वर्ष एवं पीजी तृतीय सेमेस्टर के छात्रों के लिए छात्रावास खोले जाएंगे। हॉस्टल परिसर में सोशल डिस्टेंसिंग, सेनिटाइजेशन एवं सभी विद्यार्थी की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। डायनिंग हॉल, रसोई, स्नानागार और शौचालय की स्वच्छता की सतत निगरानी होगी। हॉस्ल में विश्वविद्यालय/महाविद्यालय के स्टॉफ के अलावा अनावश्यक लोगों को एंट्री नहीं दी जाएगी।

 

'डेंगू से जंग जनता के संग' अभियान की शुरुआत, CM शिवराज ने की फॉगिंग, देखें वीडियो

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned