scriptIndependence day 2021:freedom fighters descendant work for making new | Independence day 2021: स्वतंत्रता सेनानियों के वंशज नया भारत गढऩे में लगा रहे दम | Patrika News

Independence day 2021: स्वतंत्रता सेनानियों के वंशज नया भारत गढऩे में लगा रहे दम

Independence day 2021: देश को स्वाधीनता दिलाने के लिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पहले रियासत के राजाओं ने जमकर लड़ी थी आजादी की जंग।

इंदौर

Updated: August 15, 2021 07:31:35 am

Independence day 2021: इंदौर. देश को स्वाधीनता दिलाने के लिए देश में लम्बी लड़ाई लड़ी गई थी और आजादी की जंग के अनेक सिपाही तो गुमनाम ही रह गए। आज आपको बताने जा रहे है कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पहले देश की रियासत के राजाओं ने भी अंग्रेजी हुकूमत से जमकर लड़ाई लड़ी थी।

independence_day_2021_indore.jpg

Must See: काकोरी कांड में फोड़े गए थे ग्वालियर के बम

फिरंगियों को नाको चने चबाने की पहचान बनाने वाले राघौगढ़ रियासत के राजा दौलतसिंह राठौर की 7वीं पीढ़ी के युवा सदस्य इसी पहचान को बचाने के लिए संघर्षरत हैं। शहर से 50 किमी दूरी पर इंदौर-चापड़ा के बीच स्थिति राघौगढ़ में क्रांतिकारियों का खजाना छिपा कर रखा था। रानी लक्ष्मीबाई, तात्या टोपे ने खजाना संभालने की जिम्मेदारी राजा दौलतसिंह को दी थी, उन्होंने पूरी शिद्दत से सुरक्षा की और अंग्रेजों के हाथ नहीं लगने दिया। खजाने के स्थान को स्मारक बनाने और पहचान दिलाने का जिम्मा दौलतसिंह की सातवीं पीढ़ी के टिकेंद्र सिंह राठौर ने लिया है।

Must See: independence day 2021: प्रदेश के मीडिया संस्थानों पर साइबर अटैक की आशंका अलर्ट जारी

टिकेंद्र सिंह राठौर बताते हैं, केंद्र व राज्य सरकार दोनों को कई बार चिठ्ठी लिख चुके हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री को अवगत करा दिया, लेकिन उपेक्षित नजरिए के चलते वहां अतिक्रमण हो रहा है। राठौर का कहना है, हमारे पूर्वज खजाने की कहानी पूरी प्रामाणिकता के साथ बताते हैं। क्रांति के समय के बहुत ही कम स्थल देश में बचे हैं। यह सघन जंगल का इलाका था, क्रांतिकारी यहां आकर रणनीति बनाते थे। तात्या टोपे अनेक बार यहां आए। एक बार रानी लक्ष्मीबाई भी आई थी। सिंधिया और होलकर स्टेट के बीच राघौगढ़ 22 गांव की स्वतंत्र रियासत थी।

Must See: आजादी की खातिर इंदौर के 39 दीवानों ने कर दिए थे प्राण न्योछावर

indore.jpg

डाउनिंग स्ट्रीट से लड़ी जाती थी आजादी की लड़ाई
उन दिनों किसी तरह का संगठन बनाने पर पांबदी थी। इस समस्या को हल करने के लिए हम कुछ मित्रों ने लोकसेवा परिषद समूह बनाया और आंदोलन को आगे बढ़ाया। 1935 में होलकर राज था। माणिकबाग रेलवे गेट पर गदर हुआ था। हमारे साथी और पुलिस अधिकारी के बीच झड़प हो गई। जमकर गोलियां और पत्थर चले। यह सीन एक-दो बार नहीं कई बार बने, तब यह आजादी मिली है। किशनलाल गुप्ता बुजुर्ग जरूर हो गए, लेकिन आंदोलन यादों से जोश से भर जाते हैं। आंदोलन का मुख्य केंद्र खजूरी बाजार होता था। यहां 10 डाउनिंग स्ट्रीट थी, जहां से आजादी की लड़ाई लड़ी जाती थी। नई पीढ़ी को इसे बताना जरूरी है।

Must See: पकिस्तान ने दो साल तक 15 अगस्त को ही मनाया अपना स्वतंत्रता दिवस, ये थी वजह

chobey.jpg

अब जमीन पर हक पाने का युद्ध
स्वतंत्रता के लिए आदिवासियों को एकजुट करने के जुर्म में जेल गए स्वतंत्रता संग्राम सेनानी प्रभुदयाल चौबे ने मालवा-निमाड़ के आंदोलन में महती भूमिका निभाई थी। सेनानियों का समूह जो काम देता पिताजी में उसे मैदान में जाकर करने का माद्दा था। उनके इसी साहस और माद्दे ने उनकी पीढ़ियों को भी प्रेरित किया। यह परिवरा अब जीरापुर बांध परियोजना में अपनी जमीन देने वाले गरीब वर्ग के किसानों की जमीन को बापस दिलाने के लिए काम कर रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमी100-100 बोरी धान लेकर पहुंचे थे 2 किसान, देखते ही कलक्टर ने तहसीलदार से कहा- जब्त करोराजस्थान में यहां JCB से मिलाया 242 क्विंटल चूरमा, 6 क्विंटल काजू बादाम किशमिश डालेShani Parvat: हाथ में मौजूद शनि पर्वत बताता है कि पैसों को लेकर कितने भाग्यशाली हैं आपफरवरी में मकर राशि में ग्रहों का महासंयोग, मेष से लेकर मीन तक इन राशियों को मिलेगा लाभNew Maruti Wagon R : अनोखे अंदाज में आ रही है आपकी फेवरेट कार, फीचर्स होंगे ख़ास और मिलेगा 32Km का माइलेज़2 बच्चों के पिता और 47 साल के मर्द पर फ़िदा है ‘पुष्पा’ की 25 साल की एक्ट्रेस, जाने कौन है वो

बड़ी खबरें

7 मार्च तक चुनावी एक्ज़िट पोल पर रोक, 2 साल की जेलJammu Kashmir: अनंतनाग के हसनपोरा में आतंकी हमला, पुलिस हेड कांस्टेबल अली मोहम्मद शहीदभरोसा बनाए रखें, प्रिंट मीडिया को कोई खतरा नहींः प्रो. संजय द्विवेदीUP Assembly Elections 2022: राजा भैया के खिलाफ कुंडा से समाजवादी के बाद बीजेपी ने घोषित की प्रत्याशी, जाने कौन है सिंधुजा मिश्रा जो राजा को देगी टक्करमहिला आयोग के नोटिस के बाद झुका SBI, विवादित सर्कुलर लिया वापसBeating the Retreat: गणतंत्र दिवस समारोह के समापन पर विजय चौक पर भव्य शो, 300 साल पुरानी है 'बीटिंग द रिट्रीट' परंपराभाजपा MLA की ‘जाति’ पर सवाल,हाईकोर्ट ने कहा- 90 दिन में सरकार करे समाधानराजनीतिक संरक्षण में हुआ है रीट परीक्षा का पेपर आउट,मंत्रिमंडल तक जुड़े हैं तार-राठौड़
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.