GST चोरी रोकने के लिए सरकार का बड़ा कदम, अब से मल्टीप्लेक्स में मिलेंगे सिर्फ ई-टिकट

GST चोरी रोकने के लिए सरकार का बड़ा कदम, अब से मल्टीप्लेक्स में मिलेंगे सिर्फ ई-टिकट

Shivani Sharma | Updated: 22 Jun 2019, 12:05:17 PM (IST) इंडस्‍ट्री

  • मल्टीप्लेक्सेज (Multiplexes E-ticket) में अब से सिर्फ ई-टिकट ही मान्य होंगें
  • केंद्र सरकार ने शुक्रवार को इस बारे में जानकारी दी है
  • सरकार ने कहा जीएसटी की चोरी ( GST Fraud ) को रोकने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ( Central Govt) ने शुक्रवार को जीएसटी ( GST ) की चोरी को रोकने के लिए बड़ा कदम उठाया है। सरकार ने जानकारी देते हुए बताया कि अब से मल्टीप्लेक्सेज ( Multiplexes ) में मूवी देखने वालों के लिए सिर्फ इलेक्ट्रॉनिक टिकट ही मान्य होगा। सरकार ने कहा कि अब से हम इलेक्ट्रॉनिक टिकटिंग प्रणाली को ही अपनाएंगे। सरकार के इस कदम से जीएसटी की चोरी को रोकने में सहायता मिलेगी।


जीएसटी चोरी पर लगेगी लगाम

सरकार के इस कदम पर सीनियर अधिकारियों ने जानकारी देते हुए कहा कि रजिस्टर्ड मल्टीप्लेक्सेज को अब से इलेक्ट्रॉनिक टैक्स इनवॉयस जारी करना होगा। इस इनवॉयस में जितने भी टिकट बेचे जाएंगे उन सभी की जानकारी होगी। इसके अलावा जितने भी इलेक्ट्रॉनिक टिकट की बिक्री होगी उन सभी को टैक्स इनवॉयस माना जाएगा। सरकार के इस कदम से मल्टीप्लेक्सेज में हो रही जीएसटी की धांधली को रोका जा सकेगा।


यह भी पढ़ें: Walmart पर 1,964 करोड़ का जुर्माना, भारत-चीन जैसे देशों में रिश्वत खिलाने का आरोप


PVR सिनेमा पहले से फॉलो कर ई-टिकट सिस्टम

आपको बता दें कि पीवीआर की अगुवाई वाले मल्टीप्लेक्स में पहले से ही इस सिस्टम को फॉलो किया जा रहा है, जिसके कारण वहां पर किसी भी तरह की टैक्स चोरी नहीं हो रही है। इसी को देखते हुए सरकार ने ये कदम उठाया है। वहीं, टैक्स कल्सटैंट्स ने जानकारी देते हुए कहा कि आने वाले समय में सभी जगह पर ई-टिकट सिस्टम लागू कर दिया जाएगा चाहे वह पीवीआर सिनेमा हो या फिर सिंगल स्क्रीन थियेटर। सभी जगहों पर इसी सिस्टम से ग्राहकों को टिकट दिए जाएंगे।


डेलॉयट इंडिया पार्टनर ने दी जानाकरी

डेलॉयट इंडिया पार्टनर एमएस मणि ने कहा मल्टीप्लेक्सेज में हुए इस बदलाव से सभी लोगों को फायदा होगा। ग्राहकों को भी किसी भी टिकट के लिए एक्सट्रा पैसा नहीं देना होगा। ई-इनवॉयसिंग सिस्टम से संभावित रूप से बिजनेस टू कंज्यूमर ट्रांजेक्शंस के लिए अनिवार्य ई-इनवॉयसिंग प्रणाली की शुरुआत है। सरकार के इस कदम से कलर्ड टिकट भी इतिहास बन जाएंगे।


यह भी पढ़ें: PM modi आज अर्थशास्त्रियों के साथ आर्थिक वृद्धि और रोजगार का ब्लू प्रिंट तैयार करेंगे


टैक्स चोरी से काले धन को मिलता था बढ़ावा

टैक्स एक्सपर्ट्स का इस सिस्टम पर मानना है कि बिजनेस टू कंज्यूमर ट्रांजेक्शंस एक लीकेज पॉइंट है क्योंकि इस सिस्टम में सबी लोग कैश में पेमेंट करते थे, जिसके कारण टैक्स चोरी होने की ज्यादा संभावनाएं होती थीं। इस सिस्ट में ट्रांजेक्शंस पूरी तरह किया भी नहीं जाता था, जिसके कारण टैक्स की चोरी होती थी और देश में काले धन को भी बढ़ावा मिलता था।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned