IPL 2020 के Sponsor की तलाश खत्म, Dream11 ने खरीदे 222 करोड़ में खरीदे अधिकार

  • भारतीय स्टार्टअप कंपनी ने टाटा ग्रुप और अनअकैडमी जैसी कंपनियों को छोड़ा पीछे
  • चीनी कंपनी वीवो के पीछे हटने से बीसीसीआई को थी आईपीएल के लिए मेन स्पांसर की तलाश

By: Saurabh Sharma

Updated: 18 Aug 2020, 04:23 PM IST

नई दिल्ली। बीसीसीआई की दुनिया की सबसे बड़ी टी20 क्रिकेट लीग आईपीएल 2020 ( IPL 2020 ) के लिए मेन स्पांसर की तलाश खत्म हो गई है। इसके अधिकार स्टार्टअप कंपनी ड्रीम इलेवन ( Dream11 ) ने 222 करोड़ रुपए में खरीद लिए हैं। इसकी जानकारी खुद आईपीएल चेयरमैन ब्रिजेश पटेल ( IPL Chairman Brijesh Patel ) ने दी है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस स्पांसरशिप के लिए टाटा ग्रुप ( Tata Group ) और अनअकैडमी जैसी कंपनियों की ओर से बीसीसीआई ( BCCI ) को आवेदन गए थे। खबर यह भी थी बाबा रामदेव की पंतजलि ( Patanjali ) भी मेन स्पांसरशिप की दौड़ में शामिल है, लेकिन एक आधिकारिक बयान के बाद उसने अपने आप को इस दौड़ से अलग कर लिया। आपको बता दें कि सितंबर के महीने से आईपीएल का आयोजन यूएई में होने वाला है। जो 10 नवंबर तक जारी रहेगा।

यह भी पढ़ेंः- Elon Musk ने एक ही दिन में कमा लिए 52 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा, दुनिया के बने 5वें सबसे अमीर शख्स

वीवो के बाद अब ड्रीम इलेवन
बीसीसीआई के साथ वीवो का एग्रीमेंट था, लेकिन गलवान वैली में भारतीय सैनिकों के साथ चीनी घुसपैठियों ने जो किया, उससे पूरा देश नाराज हो गया। चीनी कंपनियों और सामानों के बॉयकोट से पूरा देश गूंज उठा। जिसकी वजह से चीनी मोबाइल कंपनी वीवो ने अपने आपको सिर्फ आईपीएल से ही नहीं बल्कि प्रो कबड्डी लीग से भी अलग कर लिया। कंपनी के साथ बीसीसीआई के साथ करीब 2200 करोड़ रुपए का कांट्रैक्ट था। आपको बता दें कि टाइटल प्रायोजन आईपीएल के व्यवसायिक राजस्व का अहम हिस्सा है, जिसका आधा भाग सभी आठों फ्रेंचाइजी में बराबर बराबर बांटा जाता है।

यह भी पढ़ेंः- RBI ने Bandhan Bank के MD की Salary पर सभी पाबंदी हटाई, जानिए क्या है पूरा मामला

टाटा ग्रुप को छोड़ा पीछे
खास बात तो ये है कि इस स्पांसरशिप के लिए टाटा ग्रुप की ओर से भी आवेदन किया गया था, लेकिन बीसीसीआई ने ड्रीम इलेवन की बिड देखकर इस कंपनी को चुन लिया। वैसे इन दोनों कंपनियों के अलावा एजुकेशन आईटी कंपनी अनअकैडमी की ओर से भी एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट यानी ईओआई सौंपे थे। आईपीएल के लिए ड्रीम इलेवन कोई नया नाम नहीं है। 2018 से वो इस लीग से जुड़ा हुआ है।इसे पहले खबरें यह भी थी कि पतंजलि भी इस स्पांसरशिप को लेना चाहती है। बाद में कंपनी की ओर से इसका खंडन किया गया। शनिवार को योगगुरु बाबा रामदेव ने बयान दिया था कि पतंजलि तभी सामने आएगी जब कोई भी अन्य भारतीय कंपनी प्रायोजन के लिए तैयार नहीं होगी। अभी वित्तीय स्तर पर कोई कागजी कार्रवाई नहीं हुई है।

यह भी पढ़ेंः- Silver Price 70 हजार रुपए के पार, Gold Rate में फिर से तेजी

आधा हो गया रेवेन्यू
वैसे बात रेवेन्यू की करें तो एक साल के लिए मिला यह कांट्रैक्ट बीसीसीआई को 50 फीसदी के नुकसान में ही उठाना पड़ा है। क्योंकि वीवो के साथ डील के अनुसार वीवो प्रत्येक वर्ष बीसीसीआई को 440 करोड़ रुपए देने होते थे, ऐसे में मौजूदा डील सिर्फ 222 करोड़ रुपए में हुई है। इसका मतलब ये हुआ कि बीसीसीआई को 50 फीसदी के रेवेन्यू का नुकसान हुआ है। वैसे यह सभी मैच खाली मैदानों में खेलें जाएंगे। यह भी एक वजह से इस साल के लिए कम बिड लगी है।

ipl 2020
Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned