पूरी तरह से उबर नहीं पाया है telecom sector, Sunil Bharti Mittalने लगाई सरकारी मदद की गुहार

sunil bharti mittal की सरकार से मांग लंबे समय से चले आ रहे हैं कानूनी विवादों को बंद कर देना चाहिए ।

By: Pragati Bajpai

Published: 28 Jul 2020, 05:54 PM IST

नई दिल्ली : टेलीकॉम सेक्टर ( telecom sector ) को बनाए रखने के लिए इस क्षेत्र की अलग-अलग सड़कों को तर्कसंगत बनाया जाना चाहिए और इसके साथ ही साथ कामकाज पर बुरा असर डालने वाले लंबे समय से चले आ रहे हैं कानूनी विवादों को भी बंद कर देना चाहिए । यह कहना है भारती एयरटेल ( Bharti Airtel ) के चेयरमैन सुनील भारती मित्तल ( sunil bharti mittal ) का ।

Pradhanmantri Awas Yojana से हो सकता है लाखों का लाभ, घर खरीदने से पहले जांचे योग्यता

भारती एयरटेल ( Bharti Airtel ) की वार्षिक रिपोर्ट प्रस्तुत करते हुए मित्तल ने कहा कि यह स्पष्ट है कि टेलीकॉम सेक्टर अपने बेहद बुरे दौर से निकल चुका है लेकिन यह समझना कि अब सेक्टर में किसी भी तरह की समस्या नहीं है यह बहुत ही जल्दबाजी भरा कदम होगा ।

कंपनी की 2019 -20 की रिपोर्ट में मित्तल ने कहा है कि भारत में दुनिया भर के लिहाज से डाटा पर सबसे कम शुल्क लिया जा रहा है ऐसे में उद्योग का अपनी लागत निकाल पाना बेहद मुश्किल हो जाता है दूरसंचार उद्योग ( Telecom sector ) इसकी गहरी वित्तीय नुकसान की भरपाई के लिए काफी समर्थन की जरूरत है इसके लिए निकट भविष्य में टेक्नोलॉजी में इन्वेस्ट करना जरूरी होगा ।

Google का बड़ा फैसला, 30 जून 2021 तक Work From Home करेंगे कर्मचारी

मित्तल ने कहा कि सरकार को अपने स्तर पर तुरंत ही कुछ कदम उठाने चाहिए ।क्षेत्र के विकास के लिए सरकारी कदमों को उठाने से एक अरब से ज्यादा भारतीयों की डिजिटल ख्वाहिशें पूरी की जा सकेंगी ।Covid-19 के संकट ( Covid-19 Crisis ) पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि इस समय दुनिया अचानक से आए इस कोरोनावायरस संकट के दौर से गुजर रही है इस महामारी ( Corona Pandemic ) से अर्थव्यवस्था कारोबार और जीवन पर बेहद बुरा असर पड़ा है उन्होंने कहा कि इस स्थिति से उबरने का रास्ता लंबा होगा लेकिन मुझे उम्मीद है कि इस महामारी की दवा जल्दी उपलब्ध होगी और दुनिया नहीं परिस्थितियों के साथ चलना सीख लेगी

Bharti Airtel
Pragati Bajpai
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned