scriptUS market is more important than India for india, know why? | भारत से ज्यादा जरूरी है टिकटॉक का अमरीकी बाजार, जानिए क्यों? | Patrika News

भारत से ज्यादा जरूरी है टिकटॉक का अमरीकी बाजार, जानिए क्यों?

  • अमरीकी कंपनियों और Tiktok के बीच चल रही है बातचीत, जल्द लिया जा सकता है फैसला
  • रेवेन्यू जेनरेशन के मामले में भारत से कहीं बड़ा बाजार है Tiktok के लिए अमरीका

नई दिल्ली

Updated: September 04, 2020 04:42:32 pm

नई दिल्ली। जब टिकटॉक भारत से बंद हुआ था तो एक यूजर्स की संख्या को छोड़ दें तो चीनी कंपनी बाइटडांस ( Bytedance ) को ज्यादा फर्क नहीं पड़ा था। कुछ ही दिनों के बाद टिकटॉक ( Tiktok ) और बाइटडांस को अमरीका से बाहर जाने के लिए बोला जाता है तो ऐसा लग रहा है कि जैसे कंपनी के पैरों तले से जमीन खिसका दी हो। कंपनी के सीईओ तक को रिजाइन करना पड़ जाता है। क्या वाकई बाइटडांस के लिए यूएस से एग्जिट अस्तित्व के खतरे की निशानी है। क्या वाकई भारत के मुकाबले यूजर्स कम होने के बाद भी बाइटडांस के लिए यूएस काफी जरूरी है। आइए आपको भी बताते हैं कि आखिर भारत से ज्यादा अमरीका बाइटडांस के लिए क्यों जरूरी है।

US market is more important than India for india, know why?
US market is more important than India for india, know why?

यह भी पढ़ेंः- 2024 तक करीब 6.50 लाख करोड़ रुपए का हो जाएगा Online Gambling and Betting Market

भारत से ज्यादा अमरीका जरूरी क्यों?
अमरीकी मार्केट रिसर्च फर्म फॉरेस्टर की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में चीनी एप टिकटॉक पर प्रतिबंध लगाए जाने के साथ भले ही कंपनी के हाथ से एक बड़ा कारोबार निकल गया है, लेकिन यह अमरीका में अपना बिजनेस खोने से ज्यादा नुकसानदेह नहीं है। कंपनी के वरिष्ठ विश्लेषक जियाओफेंग वांग का कहना है कि डाउनलोड के मामले में भारत के बाद अमरीका टिकटॉक का दूसरा सबसे बड़ा बाजार है। भारत में इसके करीब 12 करोड़ यूजर्स रहे हैं, जबकि अमरीका में इसके यूजर्स की संख्या 10 करोड़ के आसपास है। उसके बाद भी अमरीका टिकटॉक के लिए काफी बड़ा बाजार है।

यह भी पढ़ेंः- Vodafone Idea Share Price : 52 हफ्तों की उंचाई पर पहुंचकर फिसला शेयर, जानिए इसका कारण

भारत और अमरीका के कारोबार में जमीन आसमान का फर्क
फॉरेस्टर के विश्लेषण के मुताबिक दोनों बाजारों में रेवेन्यू जेनरेशन को लेकर जमीन आसमान का फर्क है। आय के मामले में अमेरिका का मार्केट कंपनी के लिए भारत से कहीं ज्यादा मायने रखती है। फॉरेस्टर के अनुसार साल 2020 में सोशल मीडिया विज्ञापन की लागत अमरीका में 3.7374 करोड़ डॉलर बैठी, जबकि भारत में यह आंकड़ा 16.73 लाख डॉलर के आसपास बैठता है। चीन ने टिकटॉक की बिक्री के मामले में अमरीका के बढ़ते हुए दबाव को देखते हुए तकनीक निर्यात कानून में बदलाव किए हैं, जिससे संयुक्त राज्य में इसके कारोबार पर हो रही बातचीत पर फिर से एक बार रूकावट आ गई है। इस अपडेट में बाइटडांस द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस को शामिल किया गया है, जो टिकटॉक की मूल कंपनी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Azadi Ka Amrit Mahotsav में बोले पीएम मोदी- ये ज्ञान, शोध और इनोवेशन का वक्तभारत ने ओडिशा तट से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफलतापूर्वक किया परीक्षणNEET UG PG Counselling 2021: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- नीट में OBC आरक्षण देने का फैसला सही, सामाजिक न्‍याय के लिए आरक्षण जरूरीटोंगा ज्वालामुखी विस्फोट का भारत पर भी पड़ सकता है प्रभाव! जानिए सबसे पहले कहां दिखा असरCorona cases in India: कोरोना ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड; 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा कोरोना के नए केस, मौत का आंकड़ा 450 के पारUttar Pradesh Assembly Elections 2022: भीषण शीतलहरी में पूर्वांचल हुआ गर्म, दो मुख्यमंत्रियों के चुनावी मैदान में उतरने की आस ने बढ़ाई सरगर्मीप्रियंका गांधी ने जारी की कांग्रेस की दूसरी लिस्ट, 41 उम्मीदवारों के नाम फाइनल, 16 महिलाओं को भी दिया टिकटUP Election 2022 : आजम खान को याद कर मंच पर ही फफक-फफक कर रोने लगे बेटे अब्दुल्ला आजम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.