कांग्रेस के स्टीकर लगी गाड़ियों से नहीं लिया जाए टोल, सभी जगह हो फ्री एंट्री, सरकार ने एनएचएआई को दिया आदेश

कांग्रेस के स्टीकर लगी गाड़ियों से नहीं लिया जाए टोल, सभी जगह हो फ्री एंट्री, सरकार ने एनएचएआई को दिया आदेश

Pushpendra Singh Shekhawat | Updated: 22 Aug 2019, 07:50:00 AM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

सत्ता का असर: कांग्रेस ने एनएचएआई को कहा कार्यकर्ताओं से नहीं वसूलें टोल, कांग्रेस का स्टीकर लगी गाड़ियों से आज नहीं वसूलेंगे टोल

 

अरविन्द सिंह शक्तावत / जयपुर। जाओ कार्यकर्ताओं भर-भर बस, परिवहन मंत्री के वाहन और प्रदेशाध्यक्ष की सड़क। राजीव गांधी की 75वीं जयंती ( 75th rajeev gandhi birth anniversary ) पर कार्यकर्ताओं को दिल्ली भेजने के लिए प्रदेश कांग्रेस ( Rajasthan Congress ) ने कुछ ऐसे ही व्यवस्था की है। कार्यकर्ताओं को दिल्ली जाने के लिए निजी बस ऑपरेटर्स से वाहन उपलब्ध कराने के साथ ही उन्हें टोल मुक्ति भी दे दी। यह टोल मुक्ति गुरूवार को एक दिन के लिए प्रदेश के सभी टोल बूथ पर मिलेगी।

 

वाहनों को टोल मुक्त कराने के लिए प्रदेश कांग्रेस ने राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ( National Highway Authority ) (एनएचएआई) ( NHAI ) को बकायदा एक खत लिखा है। इसमें साफ कहा गया है कि ऐसे सभी वाहनों से टोल नहीं वसूला जाए, जिन पर कांग्रेस का स्टीकर लगा है। यह स्टीकर अखिल भारतीय कांग्रेस समिति और प्रदेश कांग्रेस समिति देगी। दरअसल सार्वजनिक निर्माण विभाग के मंत्री सचिन पायलट ( Sachin Pilot ) ही कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष हैं। साथ ही परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ( Pratap Singh Khachariyawas ) जयपुर शहर कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर बने हुए हैं। ऐसे में एनएचएआई के जयपुर ऑफिस ने भी प्रदेश संगठन महासचिव के नाम से मिले खत के आधार पर ही हाथों-हाथ सभी परियोजना निदेशकों को उचित कार्यवाही के निर्देश दे दिए।

 

रैली किसी की भी हो, होता यही है
कांग्रेस हो या भाजपा जो सत्ता में होता है, टोल कम्पनियां उस दल की राजनीतिक रैलियों में कमोबेश टोल नहीं वसूलती हैं। एनएचएआई सूत्रों के अनुसार भाजपा सरकार में भी टोल मुक्ति की छूट मिलती रही है। यह जरूर है कि किसी दल ने ऐसे खत लिखकर पहली बार छूट मांगी है।

 

आमजन को कोई राहत नहीं
टोल वसूली के इस खेल में आमजन को कोई राहत नहीं है। जो सडकें पूरी तरह से बनी भी नहीं हैं या टूटी पडी हैं। उन पर भी टोल वसूलने में किसी तरह की छूट नहीं दी जाती है। इसका सबसे बडा उदाहरण जयपुर-दिल्ली के बीच बन रहा राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या आठ है। यह चार लेन से छह लेन आज तक नहीं बना लेकिन टोल वसूली छह लेन के मुताबिक ही हो रही है।

 

इनका कहना है
जब भी कोई रैली या बड़ा कार्यक्रम होता है। उसमें एनएचएआई से छूट लेते हैं, ताकि गाडयि़ों को निकालने की सुचारू व्यवस्था हो जाए।
-महेश शर्मा, संगठन महासचिव, प्रदेश कांग्रेस कमेटी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned