scriptAcharya Pramod Krishnam Says, Ashok Gehlot Should Leave The Post Of CM | 'बड़ा दिल दिखाते हुए मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़ दें अशोक गहलोत' | Patrika News

'बड़ा दिल दिखाते हुए मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़ दें अशोक गहलोत'

locationजयपुरPublished: Nov 25, 2022 10:26:24 am

Submitted by:

santosh Trivedi

कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने गहलोत के इंटरव्यू को सचिन पायलट के खिलाफ नहीं बता कर कांग्रेस नेतृत्व के विरुद्ध बताया है।

cm gehlot
फाइल फोटो

जयपुर. कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने गहलोत के इंटरव्यू को सचिन पायलट के खिलाफ नहीं बता कर कांग्रेस नेतृत्व के विरुद्ध बताया है। सचिन सर्मथक माने जाने वाले प्रमोद कृष्णम ने कहा कि गहलोत, अडाणी के इशारे पर राहुल की यात्रा को पलीता लगाने का काम कर रहे हैं। उन्होंने नसीहत दी कि बड़ा दिल दिखाते हुए गहलोत को मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़ देनी चाहिए। नया मुख्यमंत्री कौन होगा यह विधायक और कांग्रेस नेतृत्व मिल कर तय कर लेगा।

इससे पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सचिन पायलट पर अब तक का सबसे बड़ा हमला बोला है। उन्होंने सचिन को साफ तौर पर गद्दार बताते हुए सवाल उठाया कि प्रदेश का अध्यक्ष रहते हुए जिसने पार्टी से बगावत की वह कैसे सीएम बन सकता है? अपने साक्षात्कार में गहलोत ने कई खुलासे भी किए।

यह भी पढ़ें

सचिन पायलट गद्दार, कभी मुख्यमंत्री नहीं बन पाएंगे: अशोक गहलोत

pramod krishnamपच्चीस सितम्बर को बगावत नहीं हुई थी। जबकि पहले एक रिबेल हुआ था। 34 दिन तक 90 एमएलए होटल में रहे थे। उन्होंने सरकार बचाने में सहयोग किया। उनके बिना सरकार बच नहीं सकती थी। वह हाईकमान के लॉयलिस्ट थे। बिना हाईकमान के कोई मुख्यमंत्री सरकार नहीं बचा सकता है अगर हाईकमान आशीर्वाद देती है तो ही लोग साथ रहते हैं। निजी मित्रों के तौर पर उसके पास 10- 15 विधायक हो सकते हैं।
इस सवाल पर कि विधायकों ने आपके कहने पर बगावत की, मुख्यमंत्री ने कहा कि यह कहना बिल्कुल बकवास है। मेरी राजनीति और नेचर पूरा हिन्दुस्तान जानता है। पार्टी ने और गांधी फैमिली ने 50 साल से लगातार पदों पर रखा। पांच बार एमपी, तीन बार केंद्रीय मंत्री, तीन बार एआईसीसी का महामंत्री, तीन बार पीसीसी अध्यक्ष और तीन बार सीएम बना हूं। मुझे अब क्या जरूरत है इस बात की। ऐसा एक भी एमएलए कह दे मैं पॉलिटिक्स छोड़ दूं।
यह भी पढ़ें

अशोक गहलोत से बोले बाबा- किसी के चक्कर में मत पड़ना, वापस CM बनना है...

सीएम बोले.. सचिन पायलट को सीएम बनाने की बात फैलने पर विधायक नाराज हुए। पायलट ने खुद भी इस प्रकार का व्यवहार किया वह मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं। उन्होंने कई जगह टेलीफोन किए कि ऑब्जर्वर आएंगे। आप हाईकमान पर छोड़ देना। इससे विधायकों को लगा कि आज एक लाइन का प्रस्ताव आ रहा है, कल शपथ हो रही है। इस भ्रम में सभी लोग इकट्ठे हो गए।
पायलट को सीएम बनाने में क्या आपत्ति थी, इस सवाल पर गहलोत ने कहा कि ऐसा इतिहास में कभी नहीं हुआ कि पार्टी का अध्यक्ष खुद अपनी सरकार गिराने के लिए विपक्ष से मिल जाए। पायलट उस वक्त पीसीसी अध्यक्ष और डिप्टी सीएम थे। इसी बात से विधायकों को गुस्सा आया। मंत्री के बगावत के उदाहरण तो मिल जाएंगे,लेकिन अध्यक्ष के नहीं। हमें 34 दिन तक होटल में रहना पड़ा। मानेसर में सरकार गिराने की साजिश के लिए मीटिंग हो रही थी। इसमें अमित शाह और धर्मेन्द्र प्रधान भी शामिल थे। इसीलिए विधायक गुस्सा हुए। वह विधायक हाईकमान के लॉयल थे। आज भी हैं। उनमें सोनिया गांधी के प्रति हाईएस्ट रिस्पेक्टेड रिगार्ड है।
cm gehlot vs sachin pilot

 

इस प्रश्न पर कि शायद हाइकमान ही शायद पायलट के समर्थन में विधायकों को समर्थन चाहता था... गहलोत बोले कि पायलट को सीएम नहीं बना सकते। जिस आदमी के पास दस विधायक नहीं, जिसने बगावत की। जिसको गद्दार ही नाम दिया गया है...पार्टी से गद्दारी किए हुए व्यक्ति को कैसे स्वीकार किया जा सकता है। विधायक कैसे सहन कर सकते हैं पायलट को। हम जानते हैं कि 34 दिन कैसे निकाले। हमे राजभवन पर धरना देना पड़ा। उस वक्त हमने सरकार बचाने का काम किया।

सचिन के भाजपा से संपर्क नहीं होने संबंधी बयान पर सीएम ने कहा कि पायलट इस बात से इनकार नहीं कर सकते। पूरा खेल ही उनका था। मेरे पास इसका सबूत है कि 10—10 करोड़ रुपए बांटे गए। यह पता नहीं कि किसको पांच मिले, किसको दस। दिल्ली में बीजेपी के दफ्तर से ये पैसे उठाए गए थे। 50 साल के इतिहास में लोग एआईसीसी जा कर बैठे हैं। मैडम से शिकायत की। लेकिन यह पहला केस था कि मानेसर में जाकर बैठ गए। धर्मेंद्र प्रधान खुद मानेसर आते थे। हमारे दो निर्दलीय विधायक भी थे, जिन्हें अलग होटल में रोका गया।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

राजस्थान में भारत जोड़ो यात्रा की एंट्री से पहले गहलोत के तीखे तेवरों ने बढ़ाई आलाकमान की टेंशनगुजरात चुनाव : अमित शाह आज करेंगे 4 रैलियां और रोडशो, स्मृति ईरानी 3 जनसभाएंश्रद्धा मर्डर केस: आफताब के पॉलीग्राफी टेस्ट का आज दूसरा राउंड, कल आ गया था बुखार23 किलोमीटर पैदल चलेंगे राहुल गांधी, आज ओंकारेश्वर दर्शन और नर्मदा पूजन करेंगेदेवबंदी उलमा ने कहा,'मुसलमानों का जन्मदिन मनाना शरीयत के खिलाफ इससे बचे'दिल्ली के चांदनी चौक में लगी भीषण आग, मौके पर दमकल की 40 गाड़ियां मौजूदIND vs NZ: उमरान मलिक और अर्शदीप सिंह ने किया डेब्यू, लेकिन ट्विटर पर इस खिलाड़ी की हो रही चर्चाक्या सपा में कायम रहेगा यादवों का 29 साल का वर्चस्व या भारी पड़ेंगे अति पिछड़े नेता
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.