Diwali Laxmi Puja Muhurat दीपावली पूजा का सबसे अच्छा मुहूर्त, ऐसे प्राप्त करें मां लक्ष्मी का आशीर्वाद

ज्योतिषाचार्य पंडित सोमेश परसाई बताते हैं कि दीपावली पर मां लक्ष्मी, श्रीगणेश, कुबेरदेव और कालीजी की पूजा करना शुभ लाभदायी माना गया है। वैसे तो आज दिनभर दिवाली लक्ष्मी पूजन के शुभ मुहूर्त रहेंगे पर शास्त्रों के अनुसार इस दिन प्रदोष काल में स्थिर लग्न और स्वाति नक्षत्र में दिवाली पूजन करना सबसे फलदायक होता है।

By: deepak deewan

Published: 14 Nov 2020, 09:31 AM IST

जयपुर. 14 नवंबर को कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या को दिवाली का महापर्व मनाया जा रहा है। आज मध्यान्ह 2 बजकर 18 मिनट पर अमावस्या तिथि लगेगी। इस तरह प्रदोष काल और महा निशीथकाल में अमावस्या तिथि ही रहेगी। 14 नवंबर को सर्वार्थ सिद्धि योग सहित कई अन्य शुभ योगों में यह महापर्व मनाया जा रहा है।

ज्योतिषाचार्य पंडित सोमेश परसाई बताते हैं कि दीपावली पर मां लक्ष्मी, श्रीगणेश, कुबेरदेव और कालीजी की पूजा करना शुभ लाभदायी माना गया है। वैसे तो आज दिनभर दिवाली लक्ष्मी पूजन के शुभ मुहूर्त रहेंगे पर शास्त्रों के अनुसार इस दिन प्रदोष काल में स्थिर लग्न और स्वाति नक्षत्र में दिवाली पूजन करना सबसे फलदायक होता है।

आज शाम 7 बजकर 28 मिनट तक वृष लग्न और 8 बजकर 9 मिनट तक स्वाति नक्षत्र रहेगा। गृहस्थों के लिए दीपावली पूजन के लिए शाम 5 बजकर 28 मिनट से 7 बजकर 28 मिनट तक का समय सबसे अच्छा रहेगा। निशीथ काल रात 8.09 बजे से रात 10.53 बजे तक रहेगा। रात 8.48 बजे से 10.30 बजे तक शुभ चौघड़िया रहेगा।

व्यापारियों के लिए दिन में 2.30 बजे से शाम 6. 04 बजे तक पूजन और उपहारों आदि का वितरण अच्छा रहेगा। वैसे शाम 8 बजकर 9 मिनट से दुकानों या व्यापारिक प्रतिष्ठानों में पूजा का सबसे अच्छा मुहूर्त है। इस मुहूर्त में लाभ चौघड़िया में तराजू, बहीखाते की पूजा करना शुभ होगा। पूजा में श्रीसूक्त, लक्ष्मी स्तोत्र, कनकधारा स्तोत्र का पाठ बहुत शुभ माना जाता है।

Show More
deepak deewan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned