script इन स्कूलों ने नहीं माने सरकारी आदेश, रद्द कर दी सर्दियों की छुट्टियां, ठंड से बच्चे हुए बेहाल | Many private schools canceled winter holidays in Jaipur Rajasthan | Patrika News

इन स्कूलों ने नहीं माने सरकारी आदेश, रद्द कर दी सर्दियों की छुट्टियां, ठंड से बच्चे हुए बेहाल

locationजयपुरPublished: Dec 29, 2023 03:50:36 pm

Submitted by:

Rakesh Mishra

Winter Vacation Canceled राजधानी में रात का न्यूनतम तापमान 09 डिग्री से नीचे जा चुका है, लेकिन सीबीएसई बोर्ड से जुड़े कई निजी स्कूलों ने इस बार सर्दी मानने से इनकार करते हुए अपने स्तर पर ही शीतकालीन अवकाश रद्द कर दिए हैं।

school_children_in_winter.jpg
Winter Vacation Canceled राजधानी में रात का न्यूनतम तापमान 09 डिग्री से नीचे जा चुका है, लेकिन सीबीएसई बोर्ड से जुड़े कई निजी स्कूलों ने इस बार सर्दी मानने से इनकार करते हुए अपने स्तर पर ही शीतकालीन अवकाश रद्द कर दिए हैं। शिक्षा विभाग ने शिविरा पंचांग के अनुसार 25 दिसंबर से 5 जनवरी तक शीतकालीन अवकाश घोषित किया है, लेकिन कई निजी स्कूलों में अवकाश नहीं होने के कारण पहली से पांचवीं कक्षाओं के बच्चे भी अलसुबह स्कूल जाने को मजबूर हैं।
कुछ स्कूलों ने तो शीतकालीन सत्र का समय परिवर्तन भी नहीं किया है, जबकि माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से जुड़े निजी स्कूल और सरकारी स्कूलों में अवकाश जारी है। जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक ने अवकाश नहीं रखने पर कार्रवाई की चेतावनी दी गई है। गुरुवार को निजी स्कूलों ने इस आदेश का विरोध शुरू कर दिया। स्कूलों का तर्क है कि अभी सर्दी नहीं है, वहीं, प्रायोगिक परीक्षाएं होनी हैं।
अभी सर्दी नहीं, पढ़ाई होती है खराब: निजी स्कूल
प्रोगेसिव स्कूल्स एसोसिएशन राजस्थान से जुड़े पदाधिकारियों का कहना है कि वर्तमान में सर्दी इतनी नहीं है कि शीतकालीन अवकाश किया जाए। पिछले कई वर्षों में देखने में आया है कि शीतकालीन अवकाश गुजरने के बाद सर्दी का प्रकोप बढ़ता है। उस स्थिति में जिला कलक्टर की ओर से 5 से 7 दिन का अतिरिक्त अवकाश घोषित किया जाता है। सीबीएसई से संबंधित विद्यालयों में प्रायोगिक परीक्षाएं एक जनवरी से होनी तय है। ऐसे में शीतकालीन अवकाश अनिवार्य करना उचित नहीं है।
यह भी पढ़ें

Child care In Winter: बच्चों को सर्दी, जुकाम, बुखार से बचाएंगे ये टिप्स

पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी के बाद राजस्थान में सर्दी बढ़ती है, लेकिन पहाड़ी इलाकों में इस बार बर्फवारी अधिक नहीं हुई। इससे उत्तरी हवाओं का असर कम रहा। जनवरी के पहले सप्ताह के बाद शीतलहर का असर देखने को मिलेगा।
- राधेश्याम शर्मा, निदेशक, मौसम केन्द्र, जयपुर

ट्रेंडिंग वीडियो