scriptराजस्थान को मिला बड़ा तोहफा, पर्वतमाला योजना के तहत 12 जिलों में बनेंगे 16 रोप-वे | Rajasthan Big Gift Parvatmala Scheme 12 Districts 16 Ropeways will be Built | Patrika News
जयपुर

राजस्थान को मिला बड़ा तोहफा, पर्वतमाला योजना के तहत 12 जिलों में बनेंगे 16 रोप-वे

Rajasthan Big Gift : केन्द्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और सीएम भजनलाल शर्मा, उपमुख्यमंत्री दिया कुमारी के बीच हुई चर्चा के बाद सरकार ने 12 जिलों में 16 रोप-वे बनाने की योजना तैयार की है। इस योजना से धार्मिक पर्यटन को बूम मिलेगा।

जयपुरFeb 18, 2024 / 08:28 am

Sanjay Kumar Srivastava

nitin_gadkari_bhajanlal_sharma_diya_kumari.jpg

Nitin Gadkari – CM Bhajanlal Sharma – Diya Kumari

Parvatmala Scheme 12 Districts 16 Ropeways : प्रदेश की भाजपा सरकार राजस्थान में पर्यटन (विशेष रूप से धार्मिक) को बढ़ावा देने के लिए एक बड़ा कदम उठाने जा रही है। केन्द्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और सीएम भजनलाल शर्मा, उपमुख्यमंत्री दिया कुमारी के बीच हुई चर्चा के बाद सरकार ने 12 जिलों में 16 रोप-वे बनाने की योजना तैयार की है। सरकार यह योजनाएं केन्द्र सरकार को भेजेगी और केन्द्रीय प्रवर्तित योजना में मंजूरी मिलते ही काम शुरू हो जाएगा। पहले चरण में सार्वजनिक निर्माण विभाग और एनएचएआई सवाईमाधोपुर, बूंदी, जयपुर, उदयपुर, राजसमंद, सीकर, जोधपुर, दौसा, बारां, बांसवाड़ा, अजमेर और चित्तौड़गढ़ में रोप-वे विकसित करने के लिए मिलकर काम करेंगे। इन 12 जिलों में 16 रोप वे बनाए जाएंगे। इन रोप-वे के बन जाने से राजस्थान के कई धार्मिक स्थलों पर जाना आसान तो होगा हीए साथ ही यह टूरिज्म को भी बढ़ावा देगा।



केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने 12 फरवरी को मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा और उपमुख्यमंत्री दिया कुमारी के साथ बैठक में पर्वतमाला परियोजना के तहत रोप-वे बनाए जाने की जानकारी दी थी। इसके तुरंत बाद राजस्थान सरकार एक्शन मोड में आई। इसका काम सार्वजनिक निर्माण विभाग को सौंपा गया। इस पर तेजी से काम शुरू हुआ और पर्यटन विभाग से चर्चा के बाद मात्र पांच दिनों में ही रोप वे की जगह चिह्नित कर ली गई। संभवतः सोमवार को रोप-वे के प्रस्ताव केन्द्र सरकार को भेज दिए जाएंगे।

यह भी पढ़ें – खुशखबर, अब सस्ती मिलेगी बजरी, मार्च में इस डेट को होगी ऑनलाइन नीलामी



रोप-वे यानी रस्सी या तारों के सहारे बनने वाला रास्ता। आमतौर पर इसका प्रयोग पहाड़ी इलाकों में आवागमन सुगम बनाने के लिए किया जाता है। पहाड़ी क्षेत्रों में आने-जाने में काफी समय लगता है। प्रदेश में ये रोप-वे बन जाते हैं तो धार्मिक स्थलों पर आना-जाना आसान हो जाएगा। समय की काफी बचत होगी।

यह भी पढ़ें – कमाल, बिना इंटरनेट और स्मार्ट फोन के भी कर सकेंगे यूपीआई से पेमेंट, चौंक गए न

त्रिनेत्र गणेश जी, सवाईमाधोपुर
रामेश्वर महादेव मंदिर, बूंदी
आमेर.नाहगरढ़, जयपुर
चौथ का बरवाड़ा, सवाईमाधोपुर
रूठी रानी महल से हवामहल, जयसमंद, उदयपुर
कुंभलगढ़ से लाखेला, राजसमंद
राजसमंद झील के चारों तरफ, राजसमंद
इंद्रगढ़, बूंदी
जीणमाता मंदिर से काजल शिखर मंदिर, सीकर
सिद्धनाथ मंदिर, कायलाना, जोधपुर
श्री गढ़ गणेश जी मंदिर, ब्रह्मपुरी, जयपुर
भैरव मंदिरए मेहंदीपुर बालाजी, दौसा
कृष्णा माताए रामगढ़, बारां
समाय माता से भंडारिया हनुमान, मदारेश्वर, बांसवाड़ा
राजाजी का तालाब, तारागढ़, अजमेर
चित्तौड़गढ़ किला, चित्तौड़गढ़

यह भी पढ़ें – जयपुर में ई-रिक्शा पर बड़ा अपडेट, जारी किए गए नए दिशा-निर्देश

Hindi News/ Jaipur / राजस्थान को मिला बड़ा तोहफा, पर्वतमाला योजना के तहत 12 जिलों में बनेंगे 16 रोप-वे

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो