scriptये है राजस्थान का ऐसा मंदिर, जहां मन्नत पूरी होने पर चढ़ाया जाता है कपड़े का घोड़ा, जानिए इसकी खासियत | History of Ramdevra temple of Rajasthan and its speciality | Patrika News
जैसलमेर

ये है राजस्थान का ऐसा मंदिर, जहां मन्नत पूरी होने पर चढ़ाया जाता है कपड़े का घोड़ा, जानिए इसकी खासियत

Ramdevra Temple: लोक देवता बाबा रामदेव मंदिर की यह विशेषता है कि जब भी किसी भक्त की कोई मनोकामना पूर्ण होती है तो वह यहां आकर कपड़े का घोड़ा मंदिर में भेंट करता है।

जैसलमेरJun 28, 2024 / 04:42 pm

Rakesh Mishra

Rajasthan Ramdevra Temple
Ramdevra Temple: रामदेवरा मंदिर न केवल धार्मिक आस्था का केंद्र है, बल्कि यह राजस्थान की समृद्ध सांस्कृतिक और ऐतिहासिक धरोहर का भी प्रतीक है। यहां हर साल लाखों श्रद्धालु आते हैं। ये मंदिर राजस्थान के जैसलमेर जिले के रामदेवरा गांव में स्थित है, जो पोकरण से लगभग 12 किलोमीटर उत्तर में है। यह मंदिर बाबा रामदेव महाराज को समर्पित है, जो 15वीं शताब्दी के महान संत और समाज सुधारक थे। बाबा रामदेव महाराज का जन्म 1409 ईस्वी में पोकरण के शासक अजमाल सिंह तंवर के घर हुआ था। बाबा रामदेव महाराज लोक देवता माने जाते हैं। यह मंदिर उनकी समाधि पर बना हुआ है और यहां हर साल लाखों श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं। लोक देवता बाबा रामदेव मंदिर की यह विशेषता है कि जब भी किसी भक्त की कोई मनोकामना पूर्ण होती है तो वह यहां आकर कपड़े का घोड़ा मंदिर में भेंट करता है।

रामदेवरा का इतिहास

बाबा रामदेव महाराज ने अपने जीवनकाल में समाज के गरीब और दलित वर्ग के लोगों की मदद की और उन्हें सामाजिक समानता का संदेश दिया। उन्होंने जाति-पाति के भेदभाव को समाप्त करने का प्रयास किया और सभी धर्मों के लोगों को एक साथ मिलकर रहने की प्रेरणा दी। बाबा रामदेव के निधन के बाद उनके भक्तों ने उनकी समाधि बनाई और समय के साथ यहां एक भव्य मंदिर का निर्माण हुआ। यह मंदिर राजस्थान की वास्तुकला का शानदार उदाहरण है।

रामदेवरा मेला

हर साल अगस्त-सितंबर के महीने में रामदेवरा में एक विशाल मेला आयोजित होता है, जो बाबा रामदेव महाराज की पूजा और उनकी शिक्षाओं को समर्पित है। इस मेले में पंजाब, हरियाणा, गुजरात, मध्य प्रदेश और भारत के विभिन्न हिस्सों से लाखों श्रद्धालु आते हैं। मेले के दौरान मंदिर परिसर में भक्तों की भारी भीड़ उमड़ती है और धार्मिक आयोजनों का विशेष महत्व होता है।
History of Ramdevra temple of Rajasthan

प्रमुख स्थल

रामदेव पीर मंदिर

रामदेव पीर मंदिर बाबा रामदेवजी को समर्पित है और यहां उनकी समाधि स्थित है। मंदिर की वास्तुकला राजस्थानी शैली में है और यहां हर दिन भजन, कीर्तन और आरती का आयोजन होता है।

रामसरोवर झील

रामसरोवर झील एक पवित्र जलाशय है। ऐसा माना जाता है कि इसे बाबा रामदेव ने स्वयं बनाया था। यह झील मंदिर के निकट स्थित है और श्रद्धालु यहां स्नान कर अपने पापों से मुक्ति पाते हैं।

परचा बावड़ी

परचा बावड़ी एक प्राचीन बावड़ी है, जो रामदेवरा गांव में स्थित है। यह बावड़ी गांव के पानी की जरूरतों को पूरा करती है और इसका धार्मिक महत्त्व भी है।

झूला-पालना

झूला-पालना एक विशेष धार्मिक स्थल है, जहां बाबा रामदेव महाराज के भक्त झूला झुलाते हैं। यह स्थल बच्चों की खुशहाली और सुरक्षा के लिए भी विशेष रूप से प्रसिद्ध है।

Hindi News/ Jaisalmer / ये है राजस्थान का ऐसा मंदिर, जहां मन्नत पूरी होने पर चढ़ाया जाता है कपड़े का घोड़ा, जानिए इसकी खासियत

ट्रेंडिंग वीडियो