लॉटरी में धांधली का आरोप, वाल्मिकी समाज ने करा विरोध हंगामा

सफाईकर्मी भर्ती में अनियमितता का विरोध, वाल्मिकी समाज ने प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा

By: arun tripathi

Published: 20 Jul 2018, 01:44 PM IST

झालावाड़. सफाई कर्मियों की भर्ती प्रक्रिया के तहत नगर परिषद की ओर से नियुक्ति के लिए निकाली लाटरी में धांधली का आरोप लगाते हुए सोमवार को वाल्मिकी समाज की ओर से नगर परिषद व मिनी सचिवालय में विरोध प्रदर्शन करते हुए ज्ञापन दिया गया। इस दौरान युवकों ने हंगामा कर नारेबाजी भी की। समाज के शशिकांत, राजूलाल, संजय, रोहित, आकाश, योगेश, मनोज, लखन, रानीबाई, गीताबाई, अनिताबाई, पूजाबाई, संतोष, ज्योति, द्रोपतीबाई, रविकुमार, प्रेमबाई, मानसिंह, कपिल, ओमप्रकाश, सरोजबाई, विक्रम व दिनेश ने बताया कि भर्ती में कई फ र्जी अनुभव प्रमाण पत्र वालों को, इसके अलावा एक ही परिवार के तीन से चार चार लोगों को भर्ती कर लिया गया है।
इस कारण इसमें धांधली नजर आ रही है हंगामा कर रहे प्रदर्शनकरियो ने भर्ती की निष्पक्ष जांच की मंाग की । इस दौरान करीब एक घंटा नगर परिषद परिसर में हंगामा हुआ। बाद में यह लोग मिनी सचिवालय पहुंचे व यहां भी जिला कलक्टर को ज्ञापन देकर मंाग की गई। ज्ञापन में बताया कि दस्तावेजों की जांच पूर्ण हो तभी नियक्ति दी जाए, विधवा-विकलांगों को प्राथमिकता दी जाए, एक राशन कार्ड पर एक सदस्य का नौकरी दी जाए , २०१२ भर्ती में चयनित परिवार के लोगों को पहले नौकरी मिली हुई है, उनके बच्चों की भर्ती निरस्त हो, समस्त वाल्मिकी समाज के परिवारों का सर्वे हो उसके पश्चात चयन कर भर्ती की जाए, जिस घर में बेरोजगार लोग बैठे उन्हे प्राथमिकता दी जाए।
झालरापाटन. नगरपालिका में हुई सफाई कर्मचारियों की भर्ती में अनियमितता किए जाने के विरोध में वंचित रहे आवेदकों ने सोमवार को नगरपालिका कार्यालय पर नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। नगरपालिका सफाई कर्मचारी भर्ती में वंचित रहे तीन दर्जन से भी अधिक पुरूष एवं महिला आवेेेेेेेदक सोमवार दोपहर को विनोद कुमार, विक्रम सारवान, सावन कुमार, रिंकु कुमार की अगुवाई में नगरपालिका कार्यालय के बाहर एकत्र हुए जिन्होने भर्ती प्रक्रिया में नियमो की अवहेलना व मनमानी करने के विरोध में राज्य सरकार, जिला प्रशासन, नगरपालिका प्रशासन के विरोध में नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से सफाई कर्मचारियों की भर्ती में झालरापाटन नगरपालिका में १०० पदों के विरुद्ध ८१ जनो को नियुक्तियां दी गई है। इन नियुक्तियों में वाल्मिकी समाज की उपेक्षा करते हुए बिना अनुभव प्रमाण पत्र के नियुक्ति दी गई है। बताया कि नगरपालिका में पात्र व अनुभव प्रमाण पत्र होने के बावजूद इससे वंचित रखा गया है। नौकरी में स्थानीय बजाय बाहर के अधिक आवेदकों को लिया गया है। चयन समिति ने बिना कोई सूचना के आवेदन फार्म निरस्त कर दिए है।
सभापति सभापति का आश्वासनका
वाल्मिकी समाज के लोगों को सभापति मनीष शुक्ला ने आश्वासन दिया। उन्हें ज्ञापन के दौरान समाज के लोगों ने भर्ती प्रक्रिया में गड़बडिय़ों का आरोप लगा कर जानकारी दी। सभापति द्वारा ज्ञापन पर आयुक्त के नाम लिखित में आदेश देकर उक्त मामले में पुन: जांच कर ३ दिन में सभापति के सम्मुख रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा गया।

arun tripathi Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned