शिशुओं पर सितम ढ़ाह रही सर्दी, 15 बच्चे न्यूमोनिया से भर्ती

झालावाड़ का पारा 5 डिग्री पर आया
- छोटे बच्चों व बुजुर्गो का रखे विशेष ध्यान

By: harisingh gurjar

Published: 30 Dec 2018, 08:10 PM IST

शिशुओं पर सितम ढ़ाह रही सर्दी, 15 बच्चे न्यूमोनिया से भर्ती

हरिसिंह गुर्जर
झालावाड़.पोष माह में सर्दी का सितम जारी है। पारा दो दिन से तीन से चार डिग्री के बीच बना हुआ था। लेकिन रविवार को पारा 5 डिग्री पर पहुंचने से लोगों ने सर्दी से राहत की सांस ली। दो दिन से दिन में भी धूजणी छूट रही है। रविवार को जिले काअधिकतम तापमान 25 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सर्दी के पूरी रंगत में आने के साथ बाजार में ऊनी कपड़ों की बिक्री ज्यादा हो रही है।
बच्चों का रखे विशेष ध्यान-
शहर में कड़ाके की सर्दी मासूमों के लिए जान की दुश्मन बनी हुई है। राजकीय जनाना चिकित्सालय में अस्पताल में दिसम्बर माह में न्यूमोनिया के करीब 15 मामले सामने आए हैं। जानकारों ने बताया कि कड़ाके की सर्दी बच्चों के लिए जानलेवा साबित हो रही है। अभी तक सांस में तकलीफ के सैंकड़ों बच्चे दिसम्बर माह में भर्ती हो चुके हैं। शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. राम पाटीदार ने बताया कि अभी जनाना चिकित्सालय भर्ती करीब 40 बच्चों में से करीब 15 बच्चे न्यूमोनिया से पीडि़त हैं। ऐसे में अभिभावक तेज सर्दी में अपने बच्चों को बचाकर रखें। यदि कोई तकलीफ हो तो तुरंत चिकित्सक के पास जाकर परामर्श लें। देशभर में प्रतिवर्ष न्यूमोनिया से लगभग 18 प्रतिशत बच्चों की मौत होती है। इस माह सर्दी के तेवर तीखे हैं। सर्दी बच्चों के लिए कहर साबित हो रही है।
ये हुए सर्दी के शिकार-
केस एक-
राजकीय जनाना चिकित्सालय में तीन वर्षीय सिद्दीका निवासी देवगढ़ गंगधार को न्यूमोनिया हो गया था, फेफड़ों में मवाद होने से ट्यूब डाली गई। अभी पांच दिन से जनाना चिकित्सालय में भर्ती है।
केस दो-
जूनापानी निवासी डेढ़ वर्षीय विशाखा को भी न्यूमोनिया होने से ट्यूब डाली गई है। करीब 12 दिन भर्ती रखा गया।
केस तीन-
जिले के देवरीघटा निवासी तीन वर्षीय नैतिक को न्यूमोनियाप होने से 20 दिन तक भर्ताी रखा गया है।
केस चार-
11 वर्षीय भैंसोदा निवासी माया को भी न्यूमोनिया होने से भर्ती रखा गया है।
चर्म रोग के मामले भी आ रहे सामने-
अस्पतालों में प्रतिदिन, कोल्ड बर्न, सर्दी से जलने वाले लोग भी बड़ी संख्या में पहुंच रहे है। चिकित्सको ने बताया कि सर्दी के कारण महिलाओं के हाथ- पैरों में चमड़ी के जलने,सूजन, लालपन,खुजली, एडी का फटना प्रमुख है। इसके अलावा ड्राई एक्जिमा, चिकन पोक्स, सिर में ड्रेंडफ आदि से पीडि़त मरीजों की संख्या बढ़ रही है। अस्पताल में प्रतिदिन 200-250 के करीब मरीज पहुंच रहे है।
बुजुर्गों का रखे ध्यान-
सर्दी में प्रदूषण का घनत्व ज्यादा बढऩेए खून का दौरा कम होने से दमा के रोगी बढ़ रहे हैं। बुजुर्ग इनके ज्यादा शिकार हो रहे हैं। इसका प्रमुख कारण उनके फेफड़े कमजोर होना है। वायु प्रदूषण के कारण संवेदनशील लोगों को दमा होने की ज्यादा संभावना रहती है। सर्दी के कारण वायु में वायरल भी बढ़ जाता है। ठंडी हवाओं के कारण कीटाणु की सक्रियता बढ़ जाती है। इस कारण दमा रोगी ज्यादा परेशानी रहते हैं, ऐसे में इस मौसम में उनका ध्यान रखने की आवश्यकता है।
वरिष्ठ फिजिशियन डॉ. आरएन मीणा ने बताया कि सर्दी में ये करें उपाय
-सुबह-शाम हाथों में दस्ताने पहने।
-गर्म सरसों के तेल से मालिश करें।
-कमरा ठंडा हो तो हीटर जलाएं।
-नहाते समय गर्म पानी का इस्तेमाल करें।
-साबुन की जगह शैम्पू का इस्तेमाल करें।
-नियमित स्नान करें। कामकाजी महिलाएं गर्म पानी काम में लें।
- बाइक पर चलते समय हमेशा हेलमेट पहने, छोटे बच्चों को बाइक पर आगे नहीं बिठाए।
- फ्रिज की चीजों के सीधे काम में नहीं लेंवे धोकर व सामान्य होने के बाद ही काम में लेंवे।
यह बोले विशेषज्ञ-
कोल्ड बर्न नहीं हा इसके लिए बच्चों को पूरे कपड़े पहनाकर रखे। तेज सर्दी में ठंडी हवा सांस के साथ जाती है ऐसे में बाइक आदि पर नहीं बिठाएं, सर्दी खासी ज्यादा देर दिनों तक होने से वही न्यूमोनिया में बदल जाता है। इससे मवाद पढऩे से फेफड़ों में ट्यूब डालनी पड़ती है। ऐेसे में बच्चों को करीब 20 दिन भर्ती रखना पड़ता है। ऐसे में बच्चों का अभिभावकों को शुरूआत से ही ध्यान रखना चाहिए। न्यूूमोनिया के लिए बच्चों के टीके आते हैं वह लगाने चाहिए।
डॉ. राम पाटीदार, शिशु रोग विशेषज्ञ, जनाना चिकित्साल,झालावाड़।
2.सर्दी के दिनों में आंखों में ड्रायनेस की समस्या हो जाती है, ऐसे में लोगों को लंबे समय तक कंम्प्यूटर आदि पर काम करने वालों को लूब्रिकेंट आई ड्रॉप का इस्तेमाल करना चाहिए। फिर भी कोई परेशानी हो तो चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए।
डॉ. आरके मीणा नेत्र रोग विशेषज्ञ, मेडिकल कॉलेज,झालावाड़।

harisingh gurjar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned