कुतुबपुरा में धरने पर बैठी दो महिलाओं की तबीयत बिगड़ी

www.patrika.com/jhunjhunu-news/

By: Vinod Chauhan

Published: 30 Dec 2018, 11:32 AM IST

चिड़ावा. कुतुबपुरा गांव में मुर्गी फार्म के विरोध में दिए जा रहे अनिश्चितकालीन धरने में शनिवार को 52 वें दिन दो महिलाओं की तबीयत बिगड़ गई। जिसे चिड़ावा अस्पताल भेजा गया। जहां प्राथमिक उपचार किया गया। मामले के अनुसार धरने में शामिल सरबती देवी व भतेरी देवी की दिन में अचानक तबीयत खराब हो गई। उक्त दोनों महिलाओं को निजी वाहनों से चिड़ावा अस्पताल पहुंचाया गया। उक्त महिलाओं ने घबराहट व जी मचलाने की शिकायत की। उधर, ग्रामीणों ने गुरुवार को धरने में शामिल होकर घर लौटी महिला जीवा देवी की मौत के मामले में एसडीएम को ज्ञापन दिए जाने का बात कही। ग्रामीणों ने धरनास्थल पर चर्चा कर निर्णय लिया गया कि मृतका जीवा के परिजनों को मुआवजा दिलवाने की मांग को लेकर सोमवार को एसडीएम को ज्ञापन दिया जाएगा। इससे पहले ग्रामीणों ने इंद्राज मेघवाल की अध्यक्षता में धरना दिया। जिसमें रतनसिंह चारण, धर्मपाल जांगिड़ क्रमिक अनशन पर रहे। धरने को महेश धत्तरवाल, बजरंगलाल बराला, दयाराम बुडानिया सहित अन्य ने संबोधित किया।


कलक्टर को भी बताया दर्द


इससे पहले ग्रामीणों के प्रतिनिधि मंडल ने कलक्टर रवि जैन से मुलाकात की। कलक्टर को गांव में फार्म से हो रही परेशानी से अवगत करवाया। इस दौरान डीएसपी कार्यालय में फार्म संचालकों व ग्रामीणों के प्रतिनिधि मंडल के बीच वार्ता रखी गई। जिसमें ग्रामीणों ने फार्म बंद होने पर ही आंदोलन खत्म करने की बात कही। प्रतिनिधि मंडल का कहना था कि फार्म संचालक के पास जरूरी दस्तावेज नहीं है। जिस पर प्रशासनिक अधिकारियों ने दस्तावेजों की जांच तक फार्म की दाना-पानी सप्लाई सुचारू रखने की बात कही। जिस पर प्रतिनिधि मंडल ने कहा कि फार्म का रास्ता कटानी नहीं है। फार्म की पंचायत से एनओसी भी जारी नहीं की गई। ऐसे में फार्म अवैध है। जिससे बंद किया जाए। सहमति नहीं बनती देख तहसीलदार सुरेश कुमार हरसोलिया ने कलक्टर जैन को स्थिति से अवगत कराया। कलेक्टर जैन ने 20 दिन में विभागीय जांच करवाने की बात कही। जिसे एकबारगी ग्रामीणों ने मानने से मना कर दिया। ग्रामीणों ने सात दिन में जांच करने की मांग की। जिस पर तहसीलदार ने कलक्टर से वार्ता कर दस दिन में जांच करने का आश्वासन दिया। जिस पर प्रतिनिधि मंडल सहमत हो गया। इस दौरान तहसीलदार हरसोलिया, डीएसपी प्रतापमल केडिया ने धरनास्थल पर पहुंचकर वार्ता में बनी सहमति की जानकारी दी।जिसे धरने में शामिल ग्रामीणों ने मान लिया।

Vinod Chauhan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned