script राजस्थान के इस जिले से अयोध्या जाएंगे 3 टन गुलाब, कई राज्यों में है यहां के देसी गुलाब की डिमांड | 3 Tons Roses Will Be Sent From Jodhpur Rajasthan For Consecration Of Ayodhya Ram temple On 22 January | Patrika News

राजस्थान के इस जिले से अयोध्या जाएंगे 3 टन गुलाब, कई राज्यों में है यहां के देसी गुलाब की डिमांड

locationजोधपुरPublished: Jan 16, 2024 10:08:26 am

Submitted by:

Akshita Deora

Ayodhya Ram Temple: अयोध्या में 22 जनवरी को होने वाले राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा का उत्साह देशभर में छाया हुआ है। जोधपुर में भी इस दिन दीपावली जैसा पर्व मनाया जाएगा।

photo1705379657.jpeg

जयकुमार भाटी
Rajasthan News: अयोध्या में 22 जनवरी को होने वाले राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा का उत्साह देशभर में छाया हुआ है। जोधपुर में भी इस दिन दीपावली जैसा पर्व मनाया जाएगा। फूल व्यवसाय से जुड़े व्यापारियों ने करीब तीन टन गुलाब और गेंदे के फूलों को गाडिय़ों से अयोध्या भेजने की तैयारी की है। वहीं दूसरी ओर शहर के हर घर-आंगन को फूलों-मालाओं व रंगोली से सजाने के साथ दीयों से रोशन किया जाएगा।

श्री काला गोरा भैरुजी पुष्प विक्रेता कल्याण समिति के सचिव बलवीर भाटी ने बताया कि शहर व आसपास के खेतों में गेंदा और गुलाब की अच्छी आवक होने से फूलों की कमी नहीं रहेगी। किसानों से सम्पर्क कर फूल व्यवसायी गुलाब और गेंदे के खेतों से फूलों की व्यवस्था करने में जुटे हैं। अयोध्या के अलावा प्राण प्रतिष्ठा के दिन शहर में भी करीब 20 लाख मालाएं बनने का अनुमान है।

यह भी पढ़ें

108 महिलाओं के हाथों में राम मंदिर थीम की मेहंदी लगाने का लिया संकल्प




गांवों-कस्बों में भी होगी सजावट
विहिप के प्रांत सहमंत्री महेंद्र ङ्क्षसह राजपुरोहित ने कहा कि जोधपुर शहर सहित आसपास के गांवों और कस्बों में भी फूल-मालाओं से घरों, दुकानों, चौराहों, देवालय व मंदिरों को सजाने के साथ शाम को दीपोत्सव मनाया जाएगा। इसके लिए विहिप और बजरंग दल की ओर से फूल मंडी के व्यापारियों से सम्पर्क कर फूल मंडली सजाने की व्यवस्था की जा रही है।
यह भी पढ़ें

Ram Mandir: अयोध्या राम मंदिर निर्माण के लिए दान देने में राजस्थान देशभर में अव्वल, जानिए कैसे



यहां होती है फूलों की खेती
जोधपुर में केरु, मंडोर, उजीर सागर, पाल, सालावास, ङ्क्षतवरी और मथानियां में गेंदे और गुलाब की खेती होती है। यहां के गुलाब और गेंदे बाड़मेर, जैसलमेर, नागौर, गुजरात और सूरत तक जाते हैं। पहले पुष्कर से गुलाब जोधपुर आता था, लेकिन अब यहां के देसी गुलाब की डिमांड गुजरात में इत्र बनाने के लिए भी होने लगी है।

ट्रेंडिंग वीडियो