scriptMango trees in every other house in Ratkuriya Village | राजस्थान का वो गांव जहां प्रवेश करने से पहले आने लगती है आम की खुशबू | Patrika News

राजस्थान का वो गांव जहां प्रवेश करने से पहले आने लगती है आम की खुशबू

आम के पेड़ अमूमन उत्तरप्रदेश, महाराष्ट्र व गुजरात में ज्यादा होते हैं और धोरां धरती में तो इनसे फल लेने की कल्पना सी लगती थी। ऐसे में रेतीले इलाके के बीच भोपालगढ़ क्षेत्र के रतकुड़िया गांव में हर दूसरे घर में न केवल आम के पेड़ लगे हैं।

जोधपुर

Updated: July 05, 2022 01:55:45 pm

पी.आर. गोदारा/भोपालगढ़ (जोधपुर)। आम के पेड़ अमूमन उत्तरप्रदेश, महाराष्ट्र व गुजरात में ज्यादा होते हैं और धोरां धरती में तो इनसे फल लेने की कल्पना सी लगती थी। ऐसे में रेतीले इलाके के बीच भोपालगढ़ क्षेत्र के रतकुड़िया गांव में हर दूसरे घर में न केवल आम के पेड़ लगे हैं, बल्कि इस समय ये पेड़ फलों से लदे भी हैं। आम का सीजन होने से रतकुड़िया के कई घरों में प्रवेश करते ही मीठे आम की खुशबू पहले ही आ जाती है।

mango_villgae1.jpg

गांव के दर्जनों घरों व ढाणियों में लोग घर में उगे पेड़ से तोड़कर ही आम खाते हैं तथा यहां आम तो आम बात होकर रह गई। यह संभव हुआ गांव के निवासी पूर्व कैबिनेट मंत्री रामनारायण डूडी के प्रयासों से नहरी पानी पहुंचने के बाद। बरसों से पेयजल संकट से जूझ रहे रतकुड़िया गांव के कई लोगों ने व्यर्थ बहने वाले पानी का सदुपयोग कर न केवल अपने घर-बाड़ों में बगीचे लगाए हैं, बल्कि कइयों ने आम के पेड़ पनपाकर कमाल कर दिया है।

डार्क जोन एरिया, फिर भी लहलहा रहे पेड़:
रतकुड़िया से लेकर बनाड़ तक का इलाका रेतीला व डार्कजोन एरिया है। माणकलाव-खांगटा पेयजल परियोजना आने के बाद यहां पानी पहुंचा। तब से हालात बदल गए।

अधिकांश घरों में नजर आते हैं ये पेड़:
सबसे पहले डूडी एवं उनके भतीजे व रतकुड़िया सरपंच विरेन्द्र डूडी के पिता बुधाराम डूडी ने घर के सामने तरह-तरह के पेड़-पौधे लगाए। उन्होंने घर में आम, अनार, नींबू, पपीते, सेब व चीकू के पौधे भी लगाए। समय के साथ ये पौधे बड़े हुए और फल भी देने लगे।

फिर इन फलदार पेड़ों एवं खासकर आम के पेड़ों को देखकर ग्रामीणों ने भी ऐसा करना शरू किया। देखते ही देखते गांव के लगभग हर दूसरे घर में छोटी-मोटी बगिया के साथ इक्का-दुक्का आम के पेड़ नजर आने लगे और आज लगभग अधिकांश लोगों के घरों के आसपास व बाड़ों में अन्य पेड़-पौधों के साथ आम के पेड़ लगे नजर आते हैं।

हमारे गांव व आसपास इलाके में लोगों ने बरसों तक पेयजल संकट झेला है और लोगों को पानी का मोल पता है। लोगों ने नहाने-धोने में व्यर्थ होने वाले पानी का सदुपयोग करने के लिए घर-घर पेड़-पौधे लगाने शुरू किए और फालतू बहने वाले पानी से इनकी सिंचाई करने लगे। आज दर्जनों घरों में आम के पेड़ लगे हैं।

- रामनारायण डूडी, पूर्व राजस्व मंत्री

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद बोले तेजस्वी यादव- 'नीतीश जी का हमसे हाथ मिलाना BJP के मुंह पर तमाचे की तरह''स्मोक वार्निंग' के कारण मालदीव जा रही 'गो फर्स्ट' की फ्लाइट की हुई कोयंबटूर में इमरजेंसी लैंडिंगHimachal Pradesh News: रामपुर के रनपु गांव में लैंडस्लाइड से एक महिला की मौत, 4 घायलMaharashtra Politics: चंद्रशेखर बावनकुले बने महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष, आशीष शेलार को मिली मुंबई की कमानममता बनर्जी को बड़ा झटका, TMC के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पवन वर्मा ने पार्टी से दिया इस्तीफामाकपा विधायक ने दिया विवादित बयान, जम्मू-कश्मीर को बताया 'भारत अधिकृत जम्मू-कश्मीर'गुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस का बड़ा ऐलान, सरकार बनी तो किसानों का तीन लाख तक का कर्ज होगा माफBJP का महागठबंधन पर बड़ा हमला, सांबित पात्रा बोले- नीतीश-तेजस्वी के साथ आते ही बिहार में जंगलराज शुरू
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.