जिस SDM ने फरियादी को गिरेबां पकड़कर लात घूंसों से पीटा था, गुस्साई भीड़ ने उसे कमरे में मूंदा, पुलिस ने ताला तोड़कर निकाला बाहर

जिस SDM ने फरियादी को गिरेबां पकड़कर लात घूंसों से पीटा था, गुस्साई भीड़ ने उसे कमरे में मूंदा, पुलिस ने ताला तोड़कर निकाला बाहर

Vijay ram | Publish: Jun, 14 2018 10:56:00 PM (IST) Karauli, Rajasthan, India

Www.patrika.com पर जानिए ये पूरा मामला और हमारे फेसबुक पेज पर देखते रहें वीडियो लाइव...

करौली (राजस्थान).
यहां टोडाभीम की ग्राम पंचायत कमालपुर में 2 दिन पहले 'न्याय आपके द्वार' शिविर में सब डिविजन आॅफिसर (SDO) द्वारा फरियादी की निर्ममता से पिटाई के बाद आमजन आक्रोशित हो उठे हैं।

 

गुरुवार को आरोपी एसडीओ जगदीश आर्य जब दूसरे न्याय आपके द्वार शिविर में पहुंचे तो भीड़ ने उन्हें पकड़कर कमरे में मूंद दिया। उस पर कार्रवाई की मांग को लेकर नारेबाजी की और झड़प में पथराव भी हुआ।

 

कुछ देर बाद सूचना पर पहुंची पुलिस ने ताला तोड़कर एसडीओ को मुक्त कराया। हालांकि, भीड़ को गुस्से में देख आरोपित एसडीओ और उसका साथी बीडीओ दोनों दुबक छुपकर वहां से चलते बने।

 

वीडियो वायरल होने पर सामने आया मामला
बता दें कि पत्रिका जर्नलिस्ट्स ने टोडाभीम तहसील में धमान के अटल सेवा केन्द्र से वीडियो लाइव किया। इसके दो दिन पूर्व कमालपुरा गांव में जगदीश आर्य ने एक ग्रामीण से किसी मुद्दे पर हुई कहासुनी के दौरान निर्दयता से पीटा था। वह पीड़ित प्रकाशचंद था। वीडियो में साफ दिख रहा था कि प्रकाशचंद को एसडीओ और उसके साथ गिरेंबा पकडकर जमीन पर पटकर रहे हैं और लात—घूंसे मार रहे हैं।

 

बारी-बारी से उसके मुंह पर डुक्कर और थप्पड भी मारे। आर्य के अलावा बीडीओ नाहर सिंह ने भी धक्का-मुक्की की थी। यह वीडियो पत्रिका के हाथ लगा तो आमजन की संवेदनाएं जाग उठीं। एकजुट होकर गांववाले एसडीएम और बीडीओ के खिलाफ शिकायत करने पहुंचे। भारी विरोध के बाद मामला दर्ज हुआ।

 

पुतला फूंका और नारे लगाए
टोडाभीम. फरियादी से मारपीट के बाद सूबे में कई जगहों पर विरोध बढ़ता जा रहा है। कस्बे में लोगों ने भारी संख्या में एकजुट होकर प्रदर्शन किया। एसडीओ का पुतला फूंका और नारे लगाए। बाजार बंद कर दिया गया।

 

विधायक आमजन के साथ आया
क्षेत्रीय विधायक घनश्याम महर ने कहा कि बुधवार को दिए गए धरने के दौरान वार्ता के लिए पहुंचे हिण्डौन पुलिस उपाधीक्षक मनजीत सिंह ने एसडीओ के खिलाफ कार्रवाई के लिए एक दिन की मोहलत देने की बात कही थी, लेकिन दो दिन बाद भी कार्रवाई नहीं की गई है।
कार्रवाई नहीं होने से लोगों में रोष बढ़ता जा रहा है।

 

बर्खास्त करने की मांग
एसडीओ को बर्खास्त करने के लिए तहसीलदार को राज्यपाल के नाम का ज्ञापन दिया गया है। कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष सूरजभान मीना ने आरोप लगाया कि उपखंड स्तर पर कार्यरत प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा फरियादियों से अभद्र व्यवहार किया जाता है। विधायक महर ने कहा कि एसडीओ के खिलाफ कार्रवाई के बजाय उसे पुलिस सुरक्षा दी जा रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned