VIDEO कासगंज हिंसा: बिलराम गेट पर अभी तक बंद हैं दुकानें, आखिर किसका है डर

26 जनवरी को कासगंज में जो हुआ उसका डर अभी भी लोगों के दिलों में बैठा हुआ है।

By: धीरेंद्र यादव

Published: 31 Jan 2018, 03:24 PM IST

कासगंज। 26 जनवरी को कासगंज में जो हुआ उसका डर अभी भी लोगों के दिलों में बैठा हुआ है। कासगंज हिंसा के पाचवें दिन बिलराम गेट की दुकानें बंद नजर आईं। गश्त करती पुलिस नजर आ रही थी। आरएएफ के जवान भी मुस्तैद दिखाई दे रहे थे, लेकिन बाजार में सन्नाटा पसरा हुआ था। न कोई फेरी वाला था और नाहीं दुकानें खुली थीं। कुछ लोग घरों से निकले हुए थे, लेकिन मन में अजीब दहशत थी।

ये भी पढ़ें -

कासगंज हिंसा: चंदन की मौत से पहले शुरू हुआ था इस तरह बवाल, देखें एक्सक्लूसिव वीडियो


किसका है डर
कासगंज में पुलिस अधिकारियों ने डेरा डाला हुआ है। आरएएफ के जवान भी दिखाई दे रहे हैं, फिर भी डर का माहौल है। ये हम नहीं, बल्कि कासगंज के बाजार खुद बयां करते हैं। पांच दिन बाद भी दुकानें बंथ दिखाई दीं। बिलराम गेट खाली पड़ा हुआ था। एक साइड से पुलिस के जवानों की टुकड़ी अपना ढेरा जमाए बैठी थी। नदरई गेट भी पूरी तरह खाली नजर आ रहा था।

ये भी पढ़ें -

Exclusive कासगंज हिंसा: चंदन को गोली मारने से पहले क्या हुआ था, देखें सीसीटीवी वीडियो

दहशत बरकरार
पुलिस अधिकारी दावा कर रहे हैं, कि कासगंज में सबकुछ सामान्य है। लेकिन हालात देखें जाएं, तो स्थिति वास्तव में पुलिस के नियंत्रण में हैं, लेकिन सामान्य कुछ भी नजर नहीं आ रहा है। घटना के पाचवें दिन पत्रिका टीम कासगंज में रही। यहां लोगों से बातचीत की। नदरई गेट के पास का हाल देखा। बताया गया कि ये चौराहा इतना शांत कभी भी दिखाई नहीं दिया। यहां हर समय जाम की स्थिति नजर आती थी।

ये भी पढ़ें -

कासगंज हिंसा: विश्व हिन्दू परिषद ने किया बड़ा ऐलान, आज निकलेगी तिरंगा यात्रा

ये भी पढ़ें -

कासगंज हिंसाः राजनाथ सिंह , योगी आदित्यनाथ , पुलिस को पांच दिन पहले दंगे की सूचना दे दी थी

 

 

Show More
धीरेंद्र यादव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned