script बड़ी खबर : जंगल में नर कंकाल मिलने से फैली सनसनी, 5 महीने से लापता था शख्स | sensation spread after finding male skeleton in forest person missing for 5 months | Patrika News

बड़ी खबर : जंगल में नर कंकाल मिलने से फैली सनसनी, 5 महीने से लापता था शख्स

locationकटनीPublished: Feb 04, 2024 03:44:24 pm

Submitted by:

Faiz Mubarak

कर्ज में डूबे किसान का जंगल में मिला कंकाल। परिजन बोले- बैंक का कर्ज होने से परेशान होकर 5 महीने पर घर छोड़कर चले गए थे।

news
बड़ी खबर : जंगल में नर कंकाल मिलने से फैली सनसनी, 5 महीने से लापता था शख्स

मध्य प्रदेश के कटनी जिले के अंतर्गत आने वाले बड़वारा थाना इलाके के अमराडाड़ के जंगल में 5 महीने से लापता एक आदिवासी बुजुर्ग किसान का कंकाल मिलने से सनसनी फैल गई। बुजुर्ग की मौत किन परिस्थितियों में हुई है, फिलहाल इसका खुलासा नहीं हो सका है। मामले में फारेंसिक जांच कराई जा रही है। सूचना पर पुलिस ने मर्ग कायम करते हुए कंकाल का पोस्टमार्टम कराया है। बताया जा रहा है कि बैंक में कर्ज के कारण बुजुर्ग परेशान था। उसी के चलते वो पांच महीने पहले घर छोड़कर चला गया था।


जानकारी के अनुसार, 65 वर्षीय दशरथ कोल अमराडाड़ का रहने वाला था। बुजुर्ग 25 सितंबर से घर से लापता हुआ था। शुक्रवार को अमराडाड़ के जंगल में एक पेड़ के पास ग्रामीणों को कंकला पड़ा मिला। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। कंकाल के संबंध में आसपास में जानकारी दी। गुमशुदगी की भी जांच कराई। जब दशरथ नाम की गुमशुदगी का पता चला तो परिजन को जानकारी दी गई। परिजन जंगल पहुंचे तो कपड़ों के आधार पर बुजुर्ग की शिनाख्त की। दशरथ कोल के बेटे की सूचना पर पुलिस ने मर्ग कायम करते हुए जांच शुरु कर दी है।

यह भी पढ़ें- थाना बना तबेला : भैंसों की देखभाल और साफ सफाई में लगी पुलिस, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान


बैंक का कर्जदार था बुजुर्ग

news

बड़वारा थाना प्रभारी अनिल यादव के अनुसार परिजन से प्राप्त जानकारी का कहना है कि पिता का सोसायटी बैंक में कर्ज था। उसको लेकर वो परेशान रहता था। परेशान होकर वे घर छोड़कर चले गए थे। परिजन के बताया कि वे घर से खेत जाने की बात कहकर निकले थे, लेकिन वहां नहीं गए। एक ग्रामीण ने उस दिन जंगल की ओर जाते हुए देखा था। परिजन के बताए अनुसार पुलिस इस मामले को आत्महत्या मान रही हैं। हालांकि पीएम रिपोर्ट और फारेंसिक जांच रिपोर्ट के बाद ही मौत के वास्तविक कारणों का खुलासा हो पाएगा। फारेंसिक जांच के लिए कंकाल जबलपुर मेडिकल कॉलेज भेजा गया है।


15 दिन तक परिजन ने की थी बुजुर्ग की तलाश

बुजुर्ग दशरथ कोल के लापता होने पर उनके परिजन के साथ ग्रामीणों ने करीब 10 से 15 दिन तक उनकी तलाश की थी, लेकिन घना जंगल होने के कारण कुछ पता नहीं चल पाया था। दो दिन पहले ही ग्रामीणों को जंगल में कंकाल दिखा, जिसके आधार पर बुजुर्ग की पहचान की गई। अब पुलिस इस मामले की जांच में जुट गई है कि, आखिर किसान पर कितना कर्ज था।

ट्रेंडिंग वीडियो