scripteveryday devotion like sawan somvar ravana also done worship here | यहां हर रोज होती है सावन सोमवार जैसी भक्ति, रावण भी कर चुका है यहां उपासना | Patrika News

यहां हर रोज होती है सावन सोमवार जैसी भक्ति, रावण भी कर चुका है यहां उपासना

अहिल्या बाई ने शिव को समर्पित कर महेश्वर राज्य का संचालन किया था।

खंडवा

Updated: July 18, 2022 06:38:33 pm

खंडवा/ महेश्वर. भगवान भूतभाव भोले शंकर की कृपा पाने के लिए भक्तों में सावन सोमवार को विशेष महत्व है। सावन में सोमवार को भगवान का अभिषेक, पूजन विशेष फलदायी माना जाता है, लेकिन महेश्वर में पूरी प्रजा पर भगवान शिव की कृपा बनाए रखने के लिए ये पूजन, अभिषेक वर्ष के 365 दिन होता है। सतपुड़ा और विंध्यांचल पर्वत मालाओं के बीच नर्मदा तट पर बसे महेश्वर में हर दिन सावन सोमवार जैसी भक्ति होती है। महेश्वर में आदि शंकराचार्य और मंडन मिश्र का विश्व प्रसिद्ध शास्त्रार्थ हुआ। इसी शास्त्रार्थ के बाद मिश्र ने शंकराचार्य का शिष्यत्व स्वीकार कर शंकाराचार्य के एकात्मवाद के सिद्धांत के प्रतिपादन के लिए उनके साथ चले गए है। शंकराचार्य द्वारों पर स्थापित चारों पीठों के प्रतीक भी महेश्वर में मौजूद हैं।

News
यहां हर रोज होती है सावन सोमवार जैसी भक्ति, रावण भी कर चुका है यहां उपासना

महेश्वर के पंडित प्रदीप शर्मा ने बताया कि प्रतिदिन शिवलिंगों का निर्माण, पूजन और अभिषेक की शुरुआत 250 वर्ष पहले है, जो अनवरत जारी है। प्रजा की खुशहाली के लिए रानी अहिल्या बाई ने इसे शुरू किया। आहिल्या बाई ने शिव को समर्पित कर राज्य का संचालन किया। प्रजा के अनुपात में सवा करोड़ शिवलिंगों का निर्माण पूजन और अभिषेक प्रतिदिन होता रहा है। कालांतार में इसे प्रतीक रूप में कर दिया गया, अब भी यहां 11 सेट में करीब हजार पार्थिव शिवलिंग प्रतिदिन निर्मित होते हैं। जिनका पूर्ण विधान से पूजन, अभिषेक और विसर्जन किया जाता है। शिव को समर्पित महेश्वर नगर में आज भी लोग चप्पे चप्पे पर भोलेनाथ की शिवलिंग स्थापित कर उन्हें जल चढ़ाते हैं।

यह भी पढ़ें- इस पेड़ की देखरेख पर अबतक डेढ़ करोड़ खर्च कर चुकी है सरकार, श्रीलंका से है इस VVIP पेड़ का कनेक्शन


एकात्मवाद का प्रतिपादन

इतिहासकार जितेंद्र नेगी ने बताया कि वेदों में प्रचलित कथाओं के अनुसार मंडन मिश्र और शंकराचार्य का शास्त्रार्थ महेश्वर में ही हुआ। मिश्र ने परास्त होने के बाद आदि शंकराचार्य का शिष्यत्व स्वीकार किया और एकात्मवाद के विचार के प्रचार, प्रसार और स्थापना में लग गए। शंकराचार्य ने यहीं के शास्त्रार्थ के बाद चारों पीठों के स्थापना की शुरुआत की। श्रृंगेरी मठ चिकमंगलूर में स्थापित किया और मिश्र को पहला पीठाधीश्वर शंकराचार्य नियुक्त किया। बाद में गोवर्धन मठ, शारदा मठ और ज्योतिर्मठ, की स्थापना हुई। इन चारों पीठों के प्रतीक पीठ महेश्वर में हैं। आचार्य शंकर सांस्कृतिक एकता न्यास जुड़े सुप्रिया गोस्वामी ने बताया महेश्वर ऐतिहासिक नगरी है। विश्व प्रसिद्ध मंडन मिश्र, शंकराचार्य का शास्त्रार्थ यहीं हुआ। शिव भक्ति के लिए इस नगर का साहित्यों में भी उल्लेख है।


रावण ने भी की थी महेश्वर में उपासना

वेदों के अनुसार महेश्वर देव निर्मित नगरी है। वेदों में यहां शिव उपासना के तथ्य मिलते हैं। भगवान भोले के अनन्य भक्त के रूप में विख्यात रावण ने भी यहां नर्मदा तट पर शिव उपासना की। हैहयवंशी राजा कार्तवीर्य अर्जुन भी यहां शिव रूप में पूजित है। राजा भर्तृहरि की तपोस्थली गुफा, अंगारा ऋषि का घाट, शबरी माता के गुरु मतंग ऋषि का आश्रम आज भी महेश्वर में विद्यमान है।

बड़ा हादसा- नर्मदा नदी में गिरी बस, अभी तक निकाले जा चुके 13 शव, देखें वीडियो

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Independence Day 2022: भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने पर इन देशों ने दी बधाईयां और कही ये बातKarnataka News: शिवमोग्गा में सावरकर के पोस्टर को लेकर बढ़ा विवाद, धारा 144 लागूसिंगर राहुल जैन पर कॉस्ट्यूम स्टाइलिस्ट के साथ रेप का आरोप, मुंबई पुलिस ने दर्ज की एफआईआरशख्स के मोबाइल पर गर्लफ्रेंड ने भेजा संदिग्ध मैसेज, 6 घंटे लेट हुई इंडिगो की फ्लाइट, जाने क्या है पूरा मामलासिर्फ 'हर घर' ही नहीं, 'स्पेस' में भी लहराया 'तिरंगा', एस्ट्रोनॉट राजा चारी ने अंतरिक्ष स्टेशन पर लहराते झंडे की शेयर की तस्वीरबिहार : नीतीश कुमार का बड़ा ऐलान, 20 लाख युवाओं को देंगे नौकरी और रोजगारIndependence Day 2022 : अगले 25 सालों का क्या है प्लान, पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातेंस्वतंत्रता दिवस के मौके पर लेह पहुंचे मनोज तिवारी और निरहुआ, जवानों को परोसा खाना
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.