script एक भक्ति ऐसी भी... संपूर्ण रामायण का चित्रण करते हैं कोसे के दुपट्टे पर, 33 साल से कर रहे चित्रकारी | entire Ramayana is depicted on a scarf made of Kosa kondagaon rambhakt | Patrika News

एक भक्ति ऐसी भी... संपूर्ण रामायण का चित्रण करते हैं कोसे के दुपट्टे पर, 33 साल से कर रहे चित्रकारी

locationकोंडागांवPublished: Jan 20, 2024 06:07:28 pm

Submitted by:

Kanakdurga jha

Kondagaon Ram Bhakt : समूचा देश इस वक्त प्रभु श्रीराम की भक्ति में डूबा हुआ है।

duppatta.jpg
Kondagaon Ram Bhakt : समूचा देश इस वक्त प्रभु श्रीराम की भक्ति में डूबा हुआ है। भगवान के ननिहाल छत्तीसगढ़ के कोने-कोने से प्रभु की भक्ति के अलग-अलग रंग सामने आ रहे हैं। भगवान के प्रति भक्ति का एक अनूठा तरीका कोण्डागांव से सामने आया है। यहां के लोक भित्ती चित्रकार राजेंद्र राव पिछले 33 साल से संपूर्ण रामायण की भित्ती चित्रकारी कर रहे हैं।
उनकी चित्रकारी इसलिए खास है क्योंकि इसके लिए वे महज कोसे के दुपट्टे का उपयोग करते हैं। वे अपनी चित्रकारी केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण समेत रामायण सीरियल के किरदारों को भी भेंट कर चुके हैं। राजेंद्र बताते हैं कि उन्होंने अपने काम की कभी कोई प्रदर्शनी नहीं लगाई हैं।
यह भी पढ़ें

रामभक्त साड़ी में उकेर रही राम दरबार... फूलों के रंग का किया उपयोग, रामलला को भेंट करने भेजेंगे अयोध्या



भक्ति के साथ ही कला और संस्कृति का संरक्षण भी

राजेंद्र राव बताते हैं कि वे अपने काम के जरिए बस्तर की कला-संस्कृति के संरक्षण की दिशा में भी काम कर रहे हैं। वे बताते है कि रामायण सीरियल मैंने देखी है। साथ ही संपूर्ण रामायण को पढ़ा भी है। इसी आधार पर ही वे रामायण के हर कांड की चित्रकारी कर लेते हैं।
वे बताते हैं कि रामायण में सूयर्वंशी राजा दशरथ के राज दरबार से रामायण के सभी कांडों को समाहित कर रावण वध और भगवान श्रीराम के राज्याभिषेक तक की वे चित्रकारी करते हैं। वे कहते है कि मुझे एक दुपट्टे जिसकी लंबाई तकरीबन तीन मीटर हो उसमें चित्रकारी करने में कम से कम सप्ताभर का समय लगता है। वे एक्रेलिक कलर का उपयोग करते हैं ताकि दुपट्टे को असानी से धोया भी जा सके।
यह भी पढ़ें

Bastar : The Naxal Story : फिल्म की एक्टिंग करने बस्तर पहुंची Adah Sharma... मां दंतेशवरी मंदीर में शंख बजाकर की पूजा



दण्डकारण्य के आधार पर चित्रकारी

रामायण के दण्डकारण्य के आधार पर वे चित्रकारी करते हैं। श्रीराम दरबार को दशार्ने के साथ ही पर्ण कुटीर और बस्तर के परम्परागंत आभूषण सहित, राजमुकुट सहित सबकुछ बस्तर में चली आ रही पंरपरागत तौर-तरीकों के आधार पर ही चित्रण करते आ रहे हैं।
नवनिर्मित मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा आज से

स्थानीय नवनिर्मित मंदिर में आज से प्राण प्रतिष्ठा का किया जाएगा। रविवार को मूर्ति स्थापना भी कि जाएगी 22 जनवरी से पहले बहीगांव में धूमधाम से भगवान श्रीराम जी की मूर्ति स्थापित किया जाना है वही अयोध्या में श्री रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होने जा रहा है। प्राण प्रतिष्ठा समारोह के अवसर पर जिले के साथ ही अन्य जिले के रामायण टोलियों काभी रामायण पाठ यहाँ होगा।

ट्रेंडिंग वीडियो