Video: शराब माफियां के खिलाफ महिलाओं ने किया ऐलान, ठेका करो बंद नहीं तो होगी जंग

कोटा. शराब मुक्त बनाने के लिए मंगलवार को महिलाएं सड़क पर उतर आई।

By: abhishek jain

Published: 14 Nov 2017, 08:41 PM IST

कोटा .

डोल्या पंचायत को शराब मुक्त बनाने के लिए मंगलवार को महिलाएं सड़क पर उतर आई। बड़ी संख्या में महिलाएं एकत्रित होकर कलक्ट्रेट पहुंची और धरना देकर प्रदर्शन किया। महिलाओं ने चांदबावड़ी गांव में आबकारी अधिकारी द्वारा जारी किए अस्थायी लाइसेंस को निरस्त करने की मांग की। इसके बाद प्रतिनिधिमंडल ने जिला कलक्टर को ज्ञापन देकर शराब ठेका बंद करने का आग्रह किया। इस दौरान महिलाओं ने चेतावनी दी कि यदि प्रशासन शराब ठेका बंद नहीं करता है तो आरपार की लड़ाई लड़ी जाएगी।

 

Read More: पहले नहीं देखा होगा ये 100 का सिक्का, जिसकी कीमत है 3000 से ज्यादा

परिवार में बढ़ रहा गृह कलेश
चांदबावड़ी गांव की महिला कौशल्या बाई ने बताया कि डोल्या पंचायत के सभी गांवों में बुजुर्ग, युवा व बच्चे शराब के आदि हो रहे हैं। परिवार में गृह कलेश बढ़ रहा है। एक तरफ सरकार बेटी-बचाओ का संदेश देती है, वहीं दूसरी तरफ माफियों को खुलेआम शराब बेचने की छूट दी जा रही है। अवैध तरीके से शराब बेचने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाए, ताकि गरीब परिवारों का भला हो सके।

 

Read More: राजस्थान और मध्यप्रदेश में छिड़ी पानी जंग, पड़ जाएंगे राेटी के लाले

यह है मामला
सरपंच नंदलाल मेघवाल ने बताया कि डोल्या पंचायत में 2 अक्टूबर को शराबबंदी को लेकर प्रस्ताव लिया था। 3 अक्टूबर को जिला कलक्टर को ज्ञापन देकर यहां संचालित शराब के ठेके बंद करने की मांग की थी। जांच हुई तो पता चला कि वहां कोई ठेका स्वीकृत ही नहीं है। शिकायत करने पर शराब माफियों ने सरपंच को जान से मारने की धमकी दी। इसके विरोध में ग्रामीणों ने मंडाना थाने का घेराव कर रिपोर्ट दर्ज कराई। आईजी व एसपी ने अवैध शराब की दुकानें बंद करवा दी। इसके बाद 7 नवम्बर को जिला आबकारी अधिकारी ने वैध लाइसेंस चादबांवडी गांव में जारी कर दिया।

Read More: करनी सेना ने सिनेमा हॉल में जमकर की तोडफ़ोड़

abhishek jain
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned