Nirav Modi के खिलाफ सुनवाई में लंदन कोर्ट में चली ऑर्थर रोड जेल की वीडियो, जानिए क्या है पूरा मामला

  • दूसरे चरण की सुनवाई के लिए वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से अदालत में किया गया पेश
  • तीन नवंबर को अतिरिक्त सुनवाई और एक दिसंबर को दोनों पक्ष देंगे अपनी अंतिम दलीलें

By: Saurabh Sharma

Published: 08 Sep 2020, 08:32 AM IST

नई दिल्ली। भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी ( Nirav Modi ) के भारत प्रत्यर्पण को लेकर दायर मुकदमे की सुनवाई लंदन की अदालत में फिर से शुरू हो चुकी है। उसे सोमवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेश किया गया। यह सुनवाई पांच दिनों तक चलेगी और 11 सितंबर को खत्म हो जाएगी। खास बाम तो ये है कोर्ट के सामने मुंबई ऑर्थर जेल का वीडियो दिखाया गया, जहां पर प्र‌त्र्यपण के बाद रखा जाएगा। आपको बता दें कि नीरव मोदी की जमानत याचिका पांच बार खारिज हो चुकी है। सोमवार को ही प्रवर्तन निदेशालय की लंदन पहुंचकर सुनवाई में शामिल हुई है।

यह भी पढ़ेंः- वीडियोकॉन घोटाला: ईडी की बड़ी कार्रवाई, Chanda Kochhar के पति दीपक कोचर गिरफ्तार

ऑर्थर रोड का दिखाया गया वीडियो
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सुनवाई में डिस्ट्रिक्ट जज सैम्अुल गूजी ने नीरव मोदी की उस याचिका को खारिज कर दिया जिसमें कहा गया था कि सुनवाई के दौरान मीडिया पर आंशिक प्रतिबंध लगाया जाए। वहीं भारत सरकार की ओर से केस को पेश कर रही यूके की क्राउन प्रासिक्यूशन सर्विस ने अदालत को भारत में मुंबई की ऑर्थर रोड जेल का एक वीडियो दिखाया जहां नीरव मोदी को भारत में प्र‌त्र्यपण के बाद रखा जाएगा।

यह भी पढ़ेंः- Etihad Airways के कर्मचारियों को सितंबर महीने से मिलेगी राहत, जानिए क्या है पूरा मामला

साल के अंत तक फैसला आने की उम्मीद
मार्च 2019 में गिरफ्तारी के बाद से दक्षिण-पश्चिम लंदन की वैंड्सवर्थ जेल में बंद नीरव मोदी के खिलाफ सुनवाई के दूसरे चरण में प्रथम दृष्टया मामला स्थापित करने पर बहस पूरी होने की उम्मीद है। नीरव मोदी को सबूतों को गायब करने और गवाहों को डराने-धमकाने जैसे अतिरिक्त आरोप भी लगाए गए हैं। नीरव मोदी पर सबूतों के गायब करने और गवाहों को धमकी देने का भी आरोप है। अदालत ने तीन नवंबर को अतिरिक्त सुनवाई भी निर्धारित की है। इसके बाद एक दिसंबर को दोनों पक्ष अपनी अंतिम दलीलें देंगे। मतलब साफ है कि साल के अंत तक फैसला आ सकता है।

यह भी पढ़ेंः- देश के 69 पेट्रोल पंप पर लगाए जाएंगे Electric Vehicle Charging Kiosk

बचाव पक्ष ने जताई थी यह चिंता
नीरव मोदी पिछले साल मार्च में अपनी गिरफ्तारी के बाद से दक्षिण-पश्चिम लंदन की वैंड्सवर्थ जेल में बंद है। पिछली सुनवाई के दौरान उसे सात सितंबर को मुकदमे की अगली सुनवाई शुरू होने तक हिरासत में रखने के आदेश दिए गए थे। बचाव कर रही टीम ने इंग्लैंड की सबसे भीड़भाड़ वाली जेलों में से एक वैंड्सवर्थ में नीरव मोदी के बिगड़ते मानसिक स्वास्थ्य के बारे में भी चिंता जताई है।

यह भी पढ़ेंः- Vodafone Idea Prepaid Plan से कितने अलग हैं जियो और एयरटेल के प्लान

13 हजार करोड़ के घोटाले को दिया अंजाम
नीरव मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक को करीब 13 हजार करोड़ रुपये के घोटाले का आरोप है। फरवरी 2018 में जब पीएनबी घोटाला देश के सामने आया था, तभी नीरव मोदी फरार हो गया। उसके बाद उसे लंदन में गिरफ्तार किया गया। तब से लेकर अब तक उसकी देश में कई करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की जा चुकी है। नीरव के प्रत्यर्पण के लिए भारत निरंतर प्रयास कर रहा है।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned