कोरोना वैक्सीन की उम्मीद से 22 अरब डॉलर पहुंची इन भाईयों की संपत्ति

  • जर्मन कंपनी बायोएनटेक के शेयरों में इजाफा होने से बढ़ी संपत्ति
  • बायोएनटेक अमरीकी कंपनी फाइजर के साथ बना रहे हैं कोरोना वैक्सीन
  • जर्मन बंधु एंड्रियास और थॉमस स्ट्रूंगमैन की कंपनी है बायोएनटेक

By: Saurabh Sharma

Updated: 15 Nov 2020, 09:25 AM IST

नई दिल्ली। फाइजर इंक की कोविड 19 पर रिपोर्ट आने के बाद शेयर बाजार में आई तेजी से कई इंवेस्टर्स की संपत्ति में इजाफा देखने को मिला है। वहीं जितनी संपत्ति में नाटकीय रूप से जर्मन बंधुओं की बढ़ी है, वो किसी और की नहीं बढ़ी। यहां बात जर्मन फर्म बायोएनटेक एसई के स्टेक होल्डर्स एंड्रियास और थॉमस स्ट्रूंगमैन की हो रही है। जो फाइजर के साथ मिलकर कोरोना वैक्सीन पर मिलकर काम कर रहे हैं। दोनों भाईयों की संपत्ति में हाल के दिनों में 8 बिलियन डॉलर का इजाफा हो गया है।

विदेशी मीडिया रिपोर्ट के अनुसार 22 बिलियन डॉलर के साथ जुड़वा बंधु दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ केयर कंपनी के मालिक हैं। दोनों भाईयों ने अपने परिवार की जेनेरिक दवाओं के कारोबार की आय को बढ़ाकर अपने साम्राज्य को बढ़ाया है।

ऐसे बढ़ा कारोबार
फैमिली ऑफिस रिक्रूटमेंट फर्म एग्रीस ग्रुप के को फाउंडर पॉल वेस्टॉल के अनुसार उन्होंने विज्ञान पर विश्वास करके अपनी संपत्ति को फिर से आकार दिया है। भाइयों ने अपने फैमिली ऑफिस, एथोस सर्विस की स्थापना की। 2005 में नोवार्टिस एजी की घोषणा की जो ड्रग निर्माता हेक्सल को खरीदने जा रहा था और जिसके बाद ईओएन लैब्स की भी हिस्सेदारी थी। यह संयुक्त डील करीब 6.7 बिलियन डॉलर की थी।

यह भी पढ़ेंः- इस ऑटो कंपनी के शेयर ने कराई बल्ले-बल्ले, 7 महीनों में दोगुना से ज्यादा का रिटर्न

कंपनी के सीईओ की संपत्ति में भी इजाफा
बायोएनटेक पर उनका दांव फंडिंग ट्रांसफॉर्मल ड्रग्स की उनकी महत्वाकांक्षा को दर्शाता है। उन्होंने 2008 में फर्म को 150 मिलियन यूरो की मदद की और अब कंपनी के आधे हिस्से के मालिक हैं। दुनिया के 500 सबसे अमीर लोगों में शामिल होने के कारण, बायोएनटेक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी युगुर साहिन के की संपत्ति बढ़कर 4 बिलियन डॉलर से अधिक कर दिया है।

यह भी पढ़ेंः- कोरोना काल में दुनिया के इन उद्योगपतियों की संपत्ति में सबसे ज्यादा, चीन के दो नाम भी शामिल

दुनिया की चौथी सबसे बड़ी कंपनी है बायोएनटेक
1979 में अपने पिता अर्नस्ट से परिवार के स्वामित्व वाली दवा कंपनी डुरेचेमी को संभालने के बाद, भाइयों ने इसे सात साल बाद बेचा और हेक्सल को स्थापित करने के लिए आय का इस्तेमाल किया। उन्होंने म्यूनिख के पास एक अपार्टमेंट बिल्डिंग में लगभग दो दर्जन कर्मचारियों के साथ शुरुआत की और इसे दुनिया की चौथी सबसे बड़ी जेनेरिक-ड्रग कंपनी में विकसित किया। थॉमस, जिन्होंने बिजनेस मैनेज्मेंट में डॉक्टरेट की है ने 2004 के एक साक्षात्कार में कहा था कि कि हमारी ताकत गति और लचीलापन हैै। जबकि बड़े जाएंट्स हाथी अपने निर्णय ले रहे हैं, हमने पहले ही कार्रवाई कर दी है।

Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned