HUL ने Fair and Lovely से 'Fair' हटाने का किया ऐलान, फायदा होगा या नुकसान?

  • अमरीका में अश्वेत नागरिक George floyd की मौत के चलते हो रहा है रंगभेद का विरोध
  • Jhonson And Jhonson ने भी ऐसे किसी प्रोडक्ट को बेचेना बंद किया, जिसमें कालापन दूर करने का दावा हुआ है

By: Saurabh Sharma

Updated: 25 Jun 2020, 08:38 PM IST

नई दिल्ली। अमरीकी अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद का असर अभी भी जारी है। लोगों के बाद अब कंपनियों ने भी रंगभेद का विरोध करना शुरू कर दिया है। जॉनसन एंड जॉनसन ( Jhonson And Jhonson ) ने पहले ही ऐसे प्रोडक्ट को बेचना बंद कर दिया है जिसमें कालेपन को दूर करने का दावा किया जाता है। अब इस फेहरिस्त में फेयर एंड लवली ( Fair And Lovely Cream ) का नाम जुड़ गया है। हिंदुस्तान यूनीलीवर कंपनी ( Hindustan Uniliver ) ने अपने ब्यूटी क्रीम ब्रांड फेयर एंड लवली से फेयर शब्द हटाने का ऐलान ( Fair And Lovely to Drop Fair ) कर दिया है। कंपनी ने नए नाम के लिए अप्लाई किया है, लेकिन अभी तक कंपनी को हरी झंडी नहीं मिल सकी है।

केंद्रीय कर्मियों के Travel Allowance के नियम में ढील, अब भरना होगा सिर्फ Form

लगते रहे हैं कंपनी पर आरोप
एचयूएल के अनुसार कंपनी पर बीते कई सालों से दुराग्रह के आरोप लगते रहे हैं। जिसकी वजह से कंपनी ने प्रोडक्ट के नाम से फेयर शब्द हटाने का फैसला किया है। आपको बता दें कि कुछ हफ्तों पहले अमरीकी अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की मौत हो गई थी। जिसकी वजह से अमरीकी लोगों को काफी नाराजगी देखने को मिल रही है। अमरीका में तो इसकी वजह से हिंसा तक हो गई। जिसके बाद दुनिया भर में अश्वेत लोगों से भेदभाव की बातों पर चर्चा होने लगी है।

Sebi Board Meeting: Share Market में Chinese Investment पर हो सकता है बड़ा फैसला

कंपनी क्या होगा फयादा या नुकसान?
हिंदुस्तान यूनीलीवर के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर संजीव मेहता के अनुसार 2019 में कंपनी ने दो चेहरे वाला कैमियो हटाया था। इसके अलावा शेड गाइड भी हटा दिया था। जिसका कंपनी के प्रोडक्ट पर काफी पॉजिटिव इंपैक्ट देखने को मिला था। वहीं लोगों का रिस्पांस भी काफी अच्छा था। यानी कंपनी ने संकेत दिए हैं कि उनके इस फैसले का असर प्रोडक्ट पर पॉजिटिव यानी फायदे वाला रहेगा।

Bank से लेकर ATM Transactions तक, एक जुलाई से होंगे अहम बदलाव

45 साल की हो चुकी है फेयर एंड लवली
फेयर एंड लवली को बाजार में आए करीब 45 सल हो चुके हैं। इसे पहली बार 1975 में उतारा गया था। जिसके बाद इस क्रीम की पॉपुलैरिटी काफी बढ़ती गई। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि क्रीम की मार्केट में हिस्सेदारी 50-70 फीसदी के आसपास है। 2016 में फेयर एंड लवली ने 2000 करोड़ क्लब में भी एट्री मार ली है।

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned