भारतीय बैंकों ने विजय माल्या पर शिकंजा कसने को एक फिर ब्रिटेन हार्टकोर्ट का खटखटाया दरवाजा

  • बैंकों ने हाईकोर्ट में भगोड़े विजय माल्या को दिवालिया घोषित करने की अपील की
  • एसबीआई समेत करीब 13 बैंकों का माल्या को चुकाना है 1.145 अरब पाउंड का कर्ज

By: Saurabh Sharma

Updated: 11 Dec 2019, 12:33 PM IST

नई दिल्ली। भगोड़ा विजय माल्या ( Fugitive vijay mallya ) के खिलाफ ब्रिटेन में कार्रवाई कराने को लेकर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ( state bank of india ) की अध्यक्षता वाला बैंकों का कंसोर्टियम ( Consortium of Banks ) ब्रिटेन हाई कोर्ट ( Britain High Court ) में पहुंच गया है। कंसोर्टियम ने हाईकोर्ट से अपील की है कि विजय माल्या ( Vijay Mallya ) को बैंकों का रुपया ना चुकाने के आरोप में दिवालिया घोषित किया जाए। आपको बता दें कि विजय माल्या पर बैंकों का 1.145 अरब पाउंड का कर्ज है। जिसे विजय माल्या ने अभी तक नहीं चुकाया है।

यह भी पढ़ेंः- मुंबई की विशेष अदालत ने नीरव को घोषित किया भगोड़ा आर्थिक अपराधी

लंदन की कोर्ट भारतीय कोर्ट के फैसले से सहमत
वहीं लंदन हाईकोर्ट की दिवाला शाखा ने भारतीय कोर्ट के उस फैसले में अपनी भी सहमति जता दी है जिसमें कहा गया है कि 13 भारतीय बैंकों का समूह तकरीबन 1.145 अरब पाउंड के कर्ज की भरपाई करने के लिए अधिकृत है। वास्तव में लंदन की दिवाला शाख में जस्टिस माइकल ब्रिग्स ने इस हफ्ते सुनवाई की है। कोर्ट बैंकों की 2018 की उस याचिका की सुवाई कर रही है जिसमें बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइन द्वारा कर्ज की भारपाई की जा सके। हाईकोर्ट ने अपने पहले फैसले में साफ कहा था कि पूरी दुनिया में फैली संपत्ति की खरीद फरोख्त पर प्रतिबंध को नहीं हटाया जा सकता है।

यह भी पढ़ेंः- केवल नीरव मोदी, मेहुल चोकसी ही नही ये हैं भारत के 30 विलफुल डिफॉल्टर्स, RBI ने जारी की लिस्ट

कंसोर्टियम में ये बैंक हैं शामिल
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के साथ बैंकों के इस कंसोर्टियम में बैंक ऑफ बड़ौदा, कॉर्पोरेशन बैंक, फेडरल बैंक लिमिटेड, आईडीबीआई बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, जम्मू ऐंड कश्मीर बैंक, पंजाब ऐंड सिंध बैंक, पंजाब नैशनल बैंक, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, यूको बैंक, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया और जेएम फाइनैंशल असेट रिकंसट्रक्शन कंपनी प्राइवेट लिमिटेड शामिल हैं।

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned