RIL Debt Free होने के करीब, JIO की 3 फीसदी हिस्सेदारी और बिकने की संभावना

  • Edelweiss Securities की रिपोर्ट के अनुसार सिर्फ तीन फीसदी हिस्सेदारी बेचकर Debt Free हो जाएंगे Ambani
  • RIL ने संयुक्त रूप से Jio Platform में 78,562 करोड़ रुपये की 17 फीसदी से अधिक हिस्सेदारी बेच दी है

By: Saurabh Sharma

Updated: 29 May 2020, 10:17 AM IST

नई दिल्ली। रिलायंस इंडस्ट्रीज ( Reliance Industries ) वित्तीय वर्ष 2020-21 के अंत तक शुद्ध रूप से एक कर्ज मुक्त कंपनी ( Debt Free Company ) बनने के अपने टारगेट को पूरा कर लेगी। इसके अलावा कंपनी की ओर से इस वित्तीय वर्ष के दौरान अन्य तीन फीसदी हिस्सेदारी बेचने की भी उम्मीद है। यह बात एडलवाइज सिक्योरिटीज ( Edelweiss Securities Report ) द्वारा जारी एक रिपोर्ट में कही गई है।

Maruti Suzuki ने की HDFC के साथ Partnership, कार खरीदने पर मिलेगा 100 फीसदी तक लोन

कर्ज मुक्त हो जाएंगे अंबानी
एडलवाइज सिक्योरिटीज के अनुसार आरआईएल ( Ril ) 1.6 लाख करोड़ रुपए के अपने कथित शुद्ध कर्ज के आधार पर हमारे विचार के हिसाब से आराम से वित्त वर्ष 2021 तक शुद्ध रूप से ऋण मुक्त (जीरो डेट) हो जाएगी। जिस तरह से निवेशक दिलचस्पी दिखा रहे हैं, हम उम्मीद करते हैं कि आरआईएल इस साल जियो प्लेटफार्म ( Jio Platform ) में एक और तीन फीसदी हिस्सेदारी को आराम से बेच सकेगी। लगभग एक महीने के दौरान ही आरआईएल ने संयुक्त रूप से जियो प्लेटफार्म में 78,562 करोड़ रुपए की 17 फीसदी से अधिक हिस्सेदारी बेच दी है।

FB-Jio deal के बाद टेलीकॉम सेक्टर में एक और बड़ी डील के आसार, Google-Vodafone में चल रही बातचीत

इनकी बिक्री कर सकते हैं अंबानी
रिपोर्ट में कहा गया है कि 27,700 करोड़ रुपए की शेष राशि को तीन मार्गों के द्वारा आराम से भुनाया जा सकता है। इनमें अरामको को हिस्सेदारी बिक्री, फाइबर ओसीपीएस की बिक्री, उच्चतर अनुमानित मुफ्त नकदी प्रवाह (एफसीएफ) और जियो में आगे की हिस्सेदारी की बिक्री शामिल है।

SBI ने Loan Moratorium बढ़ाने का किया फैसला, August तक नहीं होगी देनी बैंक कर्जदारों को EMI

ये हैं रिलायंस के पास ऑप्शन
रिपोर्ट के अनुसार, अरामको को ओ2सी परिसंपत्तियों की पांच फीसदी हिस्सेदारी की बिक्री भी इस कमी को पूरा करने में मदद कर सकती है। फाइबर संपत्तियों में आरआईएल के वैकल्पिक रूप से परिवर्तनीय वरीयता शेयरों (ओसीपीएस) की कीमत उसके आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर 77,000 करोड़ रुपए है और इसे पूंजी जुटाने के लिए भुनाया जा सकता है। रिपोर्ट के अनुसार कार्यशील पूंजी प्रबंधन (वकिंर्ग कैपिटल मैनेजमेंट) भी एक अन्य रास्ता है, जिसका आरआईएल ने अतीत में अपने लाभ के लिए उपयोग भी किया है।

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned