भगोड़े नीरव मोदी ने जमानत के लिए लगाई गुहार, कहा, बेचैनी और अवसाद से हूं ग्रस्त

  • पीएनबी से जुड़े 13,500 करोड़ रुपए के घोटाले का मुख्य आरोपी है नीरव मोदी
  • 48 वर्षीय व्यवसायी को 19 मार्च को होलबोर्न से किया गया था गिरफ्तार

By: manish ranjan

Updated: 31 Oct 2019, 08:45 AM IST

नई दिल्ली। पीएनबी से जुड़े 13,500 करोड़ रुपए के धोखाधड़ी मामले में भारत में वांछित भगोड़े हीरा व्यापारी नीरव मोदी ने पांचवीं बार जमानत के लिए आवेदन किया। नीरव का दावा है कि वह बेचैनी और अवसाद से पीडि़त है। उन्होंने कोर्ट में अर्जी लगाते हुए कहा है कि उन्हें उनके घर पर ही हिरासत में ही रखा जाए। आपको बता दें कि उन्हें मार्च में लंदन में गिरफ्तार किया गया था।

यह भी पढ़ेंः- ई-कॉमर्स साइट्स पर बिक्री की छूट को लेकर विवाद गहराया, कैट ने लिखा पीएम को लेटर

11 नवंंबर तक बढ़ाई हिरासत
नीरव मोदी ने अपनी निरंतर हिरासत के खिलाफ लंदन की एक अदालत में जमानत याचिका दायर करते हुए घर में ही हिरासत में रखने की अपील की। लेकिन, अदालत ने नीरव की याचिका खारिज करते हुए उसकी हिरासत 11 नवंबर तक बढ़ा दी। 48 वर्षीय व्यवसायी को 19 मार्च को होलबोर्न से गिरफ्तार किया गया था।

यह भी पढ़ेंः- केंद्र सरकार की लोगों को बड़ी राहत, बफर स्टॉक से जारी रहेगी प्याज आैर दाल की बिक्री

13,500 करोड़ रुपए का मुख्य आरोपी
पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने आरोप लगाया था कि नीरव मोदी और उसके चाचा मेहुल चोकसी ने कुछ बैंक कर्मचारियों की संलिप्तता के साथ 13,500 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है। इसके बाद प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा इस मामले की जांच की जा रही है। नीरव मोदी पर भगोड़े आर्थिक अपराधी अधिनियम (एफईओ) के तहत भी आरोप लगे हैं। ईडी ने चोकसी के खिलाफ मुंबई में धन शोधन निवारण अधिनियम अदालत में आरोपपत्र दायर किया है।

Show More
manish ranjan Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned