योगी सरकार की बड़ी पहल, यूपी के 50 हजार युवा लेंगे अमेरिका स्थित ऑनलाइन फ्री ट्रेनिंग, विदेश में मिलेगी नौकरी

उत्तर प्रदेश के युवा अंतर्राष्‍ट्रीय मानकों पर खरे उतरें और विदेशों में नौकरी हासिल कर देश का नाम रोशन करें, इसके लिए अब प्रदेश के युवाओं को फ्री में अमेरिका में स्थित ऑनलाइन ट्रेनिंग कोर्स (Online Training Course) कराया जाएगा।

By: Abhishek Gupta

Published: 05 Feb 2021, 05:58 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क.
लखनऊ. युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Adityanath) ने नई पहल की है। उत्तर प्रदेश के युवा अंतर्राष्‍ट्रीय मानकों पर खरे उतरें और विदेशों में नौकरी हासिल कर देश का नाम रोशन करें, इसके लिए अब प्रदेश के युवाओं को फ्री में अमेरिका में स्थित ऑनलाइन ट्रेनिंग कोर्स (Online Training Course) कराया जाएगा। कोर्स पूरा होने पर उन्हें प्रमाण पत्र भी दिया जाएगा। फिलहाल इसकी शुरुआत राज्य के 50 हजार युवाओं से की जाएगी। व्‍यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग ने इसकी पूरी तैयार कर ली है। इसके अतिरिक्त युवाओं को आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए 'आभा' एप भी बनाई गई है, जिससे जुड़कर युवा अपने हुनर में निपुणता हासिल कर सकेंगे।

ये भी पढ़ें- एक ही परिवार के सात लोगों ने लोकभवन के सामने किया आत्मदाह का प्रयास, पुलिस प्रशासन में मचा हड़कंप

व्‍यावसायिक शिक्षा एवं कौश‍ल विकास विभाग की मानें, तो अमेरिका में स्थित डिजिटल लर्निंग प्‍लेटफार्म कोर्सेरा के जरिए प्रदेश के 50 हजार युवाओं को ऑनलाइन ट्रेनिंग दी जाएगी। जिसके बाद उन्हें कोर्सेरा की ओर से सर्टिफ़िकेट भी उपलब्ध कराया जाएगा। इस सर्टिफ़िकेट की विदेश में कई देशों में बड़ी मान्यता है। कोर्स पूरा होने उनके लिए विदेश में नौकरी के कई अवसर खुलेंगे।

ये भी पढ़ें- शस्त्र शौकीनों के लिए खुशखबरी! वेब्ले एंड स्कॉट की 'मेक इन इंडिया' रिवॉल्वर की बुकिंग शुरू, इतनी है कीमत

आभा ऐप से मिल रही प्रेरणा-
युवाओं की स्वावलंबी बनाने की कोशिश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकर ने एक और प्रयास किया है। इसमें अतंर्गत कौशल विकास विभाग ने आभा एप का निर्माण किया है, जिससे जुड़कर युवा अपने कौशल को निखार सकेंगे। आभा ऐप में विभिन्न तरह के स्वरोजगार से जुड़े वीडियो भी मौजूद है, जिन्हें देखकर युवाओं को अपने हुनर की बारीकियों के साथ अपने काम की बेहतर समझ मिल सकेगी। इससे प्रेरणा पाकर युवा आगे बढ़ेंगे। इसके अतिरिक्त मुख्‍यमंत्री अप्रेंटिसशिप प्रमोशन स्‍कीम भी युवाओं को काफी अच्छी लग रही है। इसके जरिए युवाओं को विभिन्न उद्योगों में अप्रेंटिस के रूप में काम करने के लिए प्रतिमाह 1000 रुपये स्‍टाइपेंड मिल रहा है।

श्रमिकों को दी जा रही ट्रेनिंग-

लॉकडाउन के दौरान 38 लाख से अधिक श्रमिक अगल-अलग प्रदेशों से यूपी वापस आए थे। उस दौरान मुख्यमंत्री ने उन्हें उनके कौशल के अनुसार ट्रेन कर आत्मनिर्भर बनाने व उन्हें रोजगार देने की बात कही। रज्‍यमंत्री व्‍यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास कपिल देव अग्रवाल के मुताबिक, श्रमिकों का भी कौशल विकास कार्यक्रम जारी है। श्रमिकों की आजीविका का बंदोबस्त कर उन्हें उनके पैरों पर खड़े करने के प्रदेश सरकार के प्रयास कामयाब हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि श्रमिकों को रिकगनाइजेशन ऑफ प्रि‍रियर लर्निंग आरपीएल के तहत ट्रेनिंग दिए जाने का काम जोरों से चल रहा है।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned