scriptIndian railway Know features of Kavach everyone was astonished | Indian railway : जब रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव को 'कवच' ने बचाया, जानें 'कवच' की खासियतें | Patrika News

Indian railway : जब रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव को 'कवच' ने बचाया, जानें 'कवच' की खासियतें

Indigenous train collision protection system 'Kavach' कवच दिल्ली हावड़ा रेल मार्ग पर लगाने की योजना है। जिसमें यूपी का काफी बड़ा एरिया कवर होगा। भारतीय रेलवे ने एक इतिहास रच दिया। भारतीय रेलवे के इस नए परीक्षण के बाद देश में आमने-सामने दो ट्रेनों की टक्कर नहीं हो सकेगी।

लखनऊ

Published: March 04, 2022 10:46:58 pm

भारतीय रेलवे ने एक इतिहास रच दिया। भारतीय रेलवे के इस नए परीक्षण के बाद देश में आमने— सामने दो ट्रेनों की टक्कर नहीं हो सकेगी। भारतीय रेलवे ने एक ऐसी सुरक्षा प्रणाली 'कवच' बनाई जिसकी वजह से एक ट्रेक पर दो विपरीत दिशा से आने वाली ट्रेनें एक दूरी पर अपने आप रुक जाएंगी। इस कमाल 'कवच' से अब देश में दुर्घटनाएं कम होने की संभावना बढ़ जाएंगी। अब हम आपको टक्कर सुरक्षा प्रणाली 'कवच' की खासियतें बताने जा रहे हैं। जानिए कवच के बारे में।
Indian railway : जब रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव को 'कवच' ने बचाया, जानें 'कवच' की खासियतें
Indian railway : जब रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव को 'कवच' ने बचाया, जानें 'कवच' की खासियतें
जब सब की सांस अटकी थी

सिकंदराबाद किए गए परीक्षण में एक ट्रेन में खुद रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव सवार थे और दूसरे में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वी के त्रिपाठी मौजूद थे। एक ही ट्रेक पर दोनों ट्रेनें विपरीत दिशा से 160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार आ रही थी। ट्रेन में सवार सभी लोगों की सांस अटकी हुई थी। पर जैसे ही दोनों ट्रेनों के बीच की दूरी 380 मीटर रही। दोनों ट्रेनें खुद ब खुद रुक गई। और सब राहत की सांस ली। और भारतीय रेलवे का एक शानदार परीक्षण सफल रहा। यह सब कुछ सिर्फ स्वदेश निर्मित ट्रेन टक्कर सुरक्षा प्रणाली कवच की वजह से संभव हो सका। इसके साथ ही दिल्ली हावड़ा रेल मार्ग पर इसे लगाने की योजना है। जिसमें यूपी का काफी बड़ा एरिया कवर होगा।
यह भी पढ़ें

ट्रेन यात्रियों को नई सुविधा, तेजस एक्सप्रेस अब हफ्ते में 6 दिन चलेगी

'कवच' की खासियतें जानें

1. कवच के कारण दोनों ट्रेन टकराएंगी नहीं।
2. डिजिटल सिस्टम को रेड सिग्नल या मैन्युअल गलती पर ट्रेनें खुद ब खुद रुक जाएंगी।
3. टक्कर की आशंका 0 फीसदी है।
4. कवच दुनिया की सबसे सस्ती स्वचालित ट्रेन टक्कर सुरक्षा प्रणाली
5. 50 लाख रुपए प्रति किमी खर्च, अन्य देश में दो करोड़ रुपए किमी लागत
6. आमने-सामने की टक्कर, पीछे से टक्कर और खतरे का संकेत मिलने पर करती है काम।
7. कवच प्रणाली में उच्च आवृत्ति के रेडियो संचार का उपयोग
8. कवच एंटी कोलिजन डिवाइस नेटवर्क है, यह रेडियो कम्युनिकेशन, माइक्रोप्रोसेसर, ग्लोबर पोजिशनिंग सिस्टम तकनीक पर आधारित
9. कवच है एसआईएल-4 (सुरक्षा मानक स्तर चार) के अनुरूप
10. कवच को दिल्ली-मुंबई और दिल्ली हावड़ा रेल मार्ग पर भी लगाने की योजना
11. पहले चरण में 2,000 किमी रेल नेटवर्क पर होगा काम
12. सिकंदराबाद हुआ कवच का टेस्ट।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

द्वारकाधीश मंदिर में पूजा के साथ आज शुरू होगा BJP का मिशन गुजरात, मोदी के साथ-साथ अमित शाह भी पहुंच रहेRajasthan: एंटी करप्शन ब्यूरो की सक्रियता से टेंशन में Gehlot Govt, अब केंद्र की तरह जांच से पहले लेनी होगी अनुमतिVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्ममां की खराब तबीयत के बावजूद बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटे ओबेड मैकॉय, संगकारा ने जमकर की तारीफदिल्ली में डबल मर्डर से सनसनी! एक की चाकू से गोदकर हत्या, दूसरे को गोली मारीRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चEncounter In Ghaziabad: बदमाशों पर कहर बनकर टूटी पुलिस, एक रात में दो इनामी अभियुक्तों को किया ढेरपाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने अलापा कश्मीर राग कहा- शांति सुनिश्चित करने के लिए धारा 370 को करें बहाल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.