scriptUp cm yogi adityanath z plus security | मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का अभेद 'सुरक्षा कवच', 4 घेरों के बीच रहते हैं सीएम | Patrika News

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का अभेद 'सुरक्षा कवच', 4 घेरों के बीच रहते हैं सीएम

बदन पर काली वर्दी, चीते की तरह तेज चाल और मुस्तैदी ऐसी की पलक झपकते ही सीएम पर किसी भी तरह खतरे का काम कमांडो तमाम कर दे।

लखनऊ

Published: October 23, 2021 12:48:35 pm

लखनऊ. देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्यक्रम स्थल पर एक युवक लाइसेंसी रिवॉल्वर लेकर पहुंच गया था। जिसके बाद सीएम की सुरक्षा के लेकर चर्चाएं हो रही हैं, लापरवाह पुलिसकर्मियों को चिन्हित कर कार्रवाई कर दी गई है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सुरक्षा को भेदना आसान नहीं है। सीएम योगी कमांडो की चार घेरों वाली सुरक्षा के बीच होते हैं।
yogi_1.jpg
यह भी पढ़ें

मुस्लिम युवक ने हिंदू बन युवती से की शादी, पति को नमाज पढ़ते देखा तो खुली पोल

कई बार मिल चुकी है जान से मारने की धमकी

सीएम योगी की गिनती जमीन से जुड़े नेता के तौर पर होती है। उन्हें अक्सर लोगों के बीच में एक आम इंसान की तरह देखा जाता है। वो जहां जाते हैं, लोगों के दिलों में अपनी जगह बना लेते हैं। सीएम योगी ने अपने कार्यकाल में यूपी को अपराध मुक्त बनाते पर पूरा जोर दिया हुआ है। अक्सर वो मंच से अपराधियों को खुली चुनौती देते देख जाते हैं। जिसकी वजह से कई बार सीएम योगी को जान से मारने की धमकी भी मिल चुकी है। ऐसे में उनकी सुरक्षा अहम है और प्रधानमंत्री मोदी के बाद सबसे मजबूत सुरक्षा उन्हें ही दी गई है।
अभेद है सीएम योगी की सुरक्षा

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के चारों तरफ चौकन्ने, मुस्तैद और बाज की तरह उनकी सुरक्षा पर ब्लैककैट कमांडो की नजरें होती हैं। बदन पर काली वर्दी, चीते की तरह तेज चाल और मुस्तैदी ऐसी की पलक झपकते ही सीएम पर किसी भी तरह खतरे का काम कमांडो तमाम कर दे। सीएम की सुरक्षा एक ऐसी अभेद किला है जिसके आस-पास भी अगर दुश्मन ने अपनी आखें टेढ़ी तो समझो अपनी मौत को दावत दे दिया। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ की सुरक्षा ऐसा कवच है जिसका मुकाबला करना अच्छे-अच्छों की बस की बात नहीं है। एक-दो नहीं बल्कि पूरे 28 कमांडो के पास सीएम योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा का जिम्मा है।
सीएम के साथ हर वक्त तैनात रहते हैं कमांडो

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का नाम देश के सबसे लोकप्रिय नेताओं में आता है। सीएम योगी जनता के बीच रहना पसंद करते हैं। ज्यादा से ज्यादा वक़्त सार्वजनिक जगहों पर बिताने वाले सीएम योगी आदित्यनाथ को केंद्रीय गृह मंत्रालय से जेड प्लस सुरक्षा मिला है। सीएम योगी की सुरक्षा में एनएसजी के 25 से 28 स्पेशल कमांडो हर वक्त तैनात होते हैं। इसके अलावा उनकी सुरक्षा में उत्तर प्रदेश पुलिस के जवानों के साथ पीएसी के जवान भी रहते हैं।
किसे मिलती है जेड प्लस सुरक्षा

बता दें कि देश भर में सबसे महत्वपूर्ण नेता, अधिकारी और शख्सियतों की सुरक्षा को मजबूत बनाने के लिए उन्हें अलग-अलग स्तर की सुरक्षा दी जाती है। पूर्व प्रधानमंत्री और खास मंत्रियों को आम तौर पर जेड प्लस सुरक्षा दी जाती है। इसमें सुरक्षा का मजबूत घेरा बनाया जाता है। देश के एसपीजी के बाद दूसरी सबसे खास सुरक्षा जेड प्लस है।
कैसी होती है जेड प्लस सुरक्षा

जेड प्लस देश की दूसरी सबसे बड़ी सुरक्षा है। इसमें 28 सुरक्षाकर्मी तैनात होते हैं। इनमें 10 एनएसजी और एसपीजी के साथ कुछ पुलिसकर्मी भी शामिल होते हैं। इनमें आईटीबीपी और सीआरपीएफ के जवान भी सुरक्षा में तैनात होते हैं। इस सुरक्षा में पहले घेरे की जिम्मेदारी एनएसजी की होती है जबकि दूसरे घेरे में एसपीजी कमांडो तैनात होते हैं। जेड प्लस सुरक्षा में एस्कॉर्टवस और पायलट वाहन भी दिए जाते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह ने छोड़ी कांग्रेस, सोनिया गांधी को सौंपा अपना इस्तीफाRepublic Day 2022: आज होगी वीरता पुरस्कारों की घोषणा, गणतंत्र दिवस से पूर्व राजधानी बनी छावनीRepublic Day 2022: गणतंत्र दिवस से पहले दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने जारी की एडवाइजरी, घर से निकलने से पहले जरूर जान लेंDelhi: सीएम केजरीवाल का ऐलान, अब सरकारी दफ्तरों में नेताओं की जगह लगेंगी अंबेडकर और भगत सिंह की तस्वीरेंशरीयत पर हाईकोर्ट का अहम आदेश, काजी के फैसलों पर कही ये बातपुलिस को देखकर फिल्मी स्टाइल में बेरिकेट तोड़कर भागे तस्कर, जब जवानों ने की चेकिंग तो मिला डेढ़ करोड़ का गांजाCM के गृह जिले में 100 एकड़ कृषि भूमि पर अवैध प्लाटिंग, 43 को नोटिस जारी कर SDM ने मंगाए थे दस्तावेज, किसी ने जमा नहीं कियाकई टेस्ट में भी पकड़ में नहीं आता BA 2 स्ट्रेन, जानिए क्यों खतरनाक है ओमिक्रान का ये सब वेरिएंट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.