scriptयूपी विधानमंडल मानसून सत्र के पहले दिन 25 मिनट तक चला सदन, शोक प्रस्ताव के बाद मंगलवार 11 बजे तक के लिए स्थगित | UP Legislature Monsoon Session first day Postponed till 11 am Tuesday after condolence motion | Patrika News
लखनऊ

यूपी विधानमंडल मानसून सत्र के पहले दिन 25 मिनट तक चला सदन, शोक प्रस्ताव के बाद मंगलवार 11 बजे तक के लिए स्थगित

Monsoon Session first day उत्तर प्रदेश विधानमंडल मानसून सत्र के पहले दिन की कार्यवाही लखीमपुर खीरी के गोला गोकर्ण से भाजपा के विधायक अरविंद गिरि के निधन पर शोक प्रस्ताव के बाद मंगलवार 11 बजे तक के लिए स्थगित हो गया। इस शोक प्रस्ताव में भाजपा के साथ बसपा, कांग्रेस तथा अन्य दल के नेताओं ने हिस्सा लिया। इस शोक प्रस्ताव में सदन में समाजवादी पार्टी का कोई भी सदस्य नहीं था।
 
 

लखनऊSep 19, 2022 / 04:30 pm

Sanjay Kumar Srivastava

यूपी विधानमंडल मानसून सत्र के पहले दिन 25 मिनट तक चला सदन, शोक प्रस्ताव के बाद मंगलवार 11 बजे तक के लिए स्थगित

यूपी विधानमंडल मानसून सत्र के पहले दिन 25 मिनट तक चला सदन, शोक प्रस्ताव के बाद मंगलवार 11 बजे तक के लिए स्थगित

उत्तर प्रदेश विधानमंडल मानसून सत्र के पहले दिन की कार्यवाही लखीमपुर खीरी के गोला गोकर्ण से भाजपा के विधायक अरविंद गिरि के निधन पर शोक प्रस्ताव के बाद मंगलवार 11 बजे तक के लिए स्थगित हो गया। इस शोक प्रस्ताव में भाजपा के साथ बसपा, कांग्रेस तथा अन्य दल के नेताओं ने हिस्सा लिया। इस शोक प्रस्ताव में सदन में समाजवादी पार्टी का कोई भी सदस्य नहीं था। यहां तक सदन में प्रगपतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के मुखिया व सपा विधायक शिवपाल सिंह यादव भी नहीं पहुंचे। यह पूरी कार्यवाही सिर्फ 25 मिनट चली। वहीं सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने इस दौश्रान अपने 110 विधायकों संग पैदल मार्च किया हैं। पुलिस के रोकने पर अखिलेश यादव, विधायकों संग धरने पर बैठ गए। कुछ देर पुलिस और सपाइयों में तकरार हुई। इसके बाद अखिलेश यादव अपने विधायकों और कार्यकर्ताओं के बाद सपा दफ्तर वापस लौट गए। जिस पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपनी नाराजगी जताते हुए कहाकि, समाजवादी पार्टी से ये उम्मीद करना कि वह किसी नियम को मानें, किसी शिष्टाचार को मानें ये कपोल कल्पना ही कही जा सकती है। सदन शुरू हो ही रहा है आप सभी देख लेंगे।
सभी को मिल रहा है योजनाओं का लाभ

इस अवसर पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, प्रदेश में कहीं पर भी अराजकता के लिए कोई जगह नहीं है। 25 करोड़ लोगों के हितों के लिए डबल इंजन की सरकार बिना भेदभाव के कार्य कर रही है। डबल इंजन की सरकार समाज के अंतिम पायदान पर बैठे व्यक्ति को शासन की योजानाओं का लाभ पहुंचा रही है।
यह भी पढ़े – यूपी विधानमंडल मानसून सत्र सोमवार से, एक दिन महिलाएं चलाएंगी सदन

पैदल मार्च पर भड़के सीएम योगी

अखिलेश पैदल के पैदल मार्च पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, किसी भी दल को, व्यक्ति को, लोकतांत्रिक तरीके से अपनी बात रखने में कहीं कोई बुराई नहीं है। नियमानुसार अगर उन्होंने कोई परमिशन मांगी होगी तो पुलिस उन्हें सही मार्ग देगी और परमिशन भी देगी। लेकिन ये जिम्मेदार संगठनों, दलों का नैतिक दायित्व बनता है कि अपने किसी भी आंदोलन, प्रदर्शन के लिए उन्हें अनुमति मांगनी चाहिए और बिना लोक व्यवस्था को भंग किए उस कार्यक्रम को निर्विघ्न संपन्न कराने का दायित्व प्रशासन का है। सीएम योगी ने कहाकि, अगर परमिशन मांगी होगी तो प्रशासन उन्हें सुगम मार्ग जरूर उपलब्ध कराएगा।
यह भी पढ़े – UP Vidhanmandal Monsoon Session : अखिलेश यादव के पैदल मार्च पर भड़के सीएम योगी कहा, नियम नहीं मानती सपा

मार्च से कोई फायदा नहीं – ब्रजेश पाठक

डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने भी अखिलेश पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी का अब यूपी से कोई लेना.देना नहीं है। जनता ने उन्हें 4 चुनावों में नकार दिया है। उन्होंने गुंडों का मनोरंजन किया है, उनके मार्च से उनका यहां कोई फायदा नहीं होगा।
सपा अब बेरोजगार है – केशव प्रसाद मौर्य

सपा के पैदल मार्च पर तंज कसते हुए डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि, सपा के विरोध का आम लोगों के फायदे से कोई लेना-देना नहीं है। अगर वे इस पर चर्चा करना चाहते हैं तो वे इसे विधानसभा में करने के लिए स्वतंत्र हैं। हमारी सरकार चर्चा के लिए तैयार है। सपा अब बेरोजगार है उनके पास करने के लिए कुछ नहीं है। इस तरह का विरोध केवल लोगों के लिए समस्या पैदा करेगा।
मॉनसून सत्र का पहला दिन, सपा का हंगामा

उत्तर प्रदेश विधानमंडल के मॉनसून सत्र का आज पहला दिन था। विपक्षी दल समाजवादी पार्टी सुप्रीमो अखिलेश यादव ने ऐलान किया था कि, वह पैदल मार्च करते हुए विधानसभा की कार्यवाही में हिस्सा लेने पहुंचेंगे। अखिलेश के इस ऐलान के बाद से ही सपा दफ्तर से लेकर विधानसभवन तक बैरिकेडिंग के साथ भारी संख्या में फोर्स की तैनाती कर दी गई। सुबह अखिलेश सपा के 110 विधायकों और विधानपरिषद सदस्यों के साथ पैदल मार्च पर निकले तो उन्हें विक्रमादित्य मार्ग पर ही रोक लिया गया। इसके बाद सपा सदस्य वहीं सड़क पर धरने पर बैठ गए। इस दौरान अखिलेश यादव के नेतृत्व में सपा विधायकों ने सड़क पर ही सदन की कार्यवाही शुरू कर दी। दिवंगत विधायक अरविन्द गिरी को श्रद्धांजलि अर्पित की गयी। उन्होंने कहा कि आगे की रणनीति बैठकर बनाएंगे।

Hindi News/ Lucknow / यूपी विधानमंडल मानसून सत्र के पहले दिन 25 मिनट तक चला सदन, शोक प्रस्ताव के बाद मंगलवार 11 बजे तक के लिए स्थगित

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो