मोदी सरकार के 50 दिन, 5 ट्रिलियन डाॅलर की इकोनाॅमी पर सवार, डूबा शेयर बाजार

मोदी सरकार के 50 दिन, 5 ट्रिलियन डाॅलर की इकोनाॅमी पर सवार, डूबा शेयर बाजार

Saurabh Sharma | Publish: Jul, 20 2019 01:19:56 PM (IST) | Updated: Jul, 22 2019 01:08:03 PM (IST) बाजार

30 May 2019 को Narendra Modi ने अपने दूसरे कार्यकाल के लिए पीएम पद की शपथ ली थी, उसके बाद से अब तक 50 दिन पूरे हो चुके हैं और Share Market में Investors को 9 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान हो चुका है।

नई दिल्ली। केंद्र में नरेंद्र मोदी ( Narendra Modi ) के दूसरे कार्यकाल की सरकार को 50 दिन पूरे हो चुके हैं। शेयर बाजार ( share market ) के लिहाज से ये 50 दिन ज्यादा अच्छे नहीं रहे हैं। मार्केट एक्सपर्ट पिछले साल अक्टूबर-नवंबर में अनुमान लगा रहे थे कि कि अगर देश में मोदी सरकार ( Modi govt ) रिपीट होती है तो सेंसेक्स ( sensex ) 44 हजार अंकों को पार कर जाएगा। मौजूदा समय में सेंसेक्स के नंबर्स कुछ और बयां कर रहे हैं। मौजूदा समय में सेंसेक्स 38000 के लेवल पर दम तोड़ चुका है। मार्केट कैप ( Market capitalisation ) के लिहाज से देखें तो निवेशकों को 9 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। इन 50 दिनों में बैंकिंग से लेकर ऑटो और कैपिटल गुड्स सेक्टर तक सब धराशायी हा चुके हैं। अब देश के अगले पांच साल में 5 ट्रिलियन डाॅलर की इकोनाॅमी बनने पर भी सवाल खड़ा हो गया है। का देखिए हमारी स्पेशल रिपोर्ट.....

निवेशकों को 9 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा का नुकसान
शुक्रवार को सेंसेक्स और निफ्टी में काफी गिरावट देखने को मिली है। वहीं 50 दिनों का ट्रैक देखें तो सेंसेक्स में 29 मई से 19 जुलाई तक 1165 अंकों की गिरावट आ चुकी है। यही हाल कुछ निफ्टी का भी देखने को मिला है। निफ्टी 50 समान अवधि में 442 अंक नीचे आ चुके है। निवेशकों के नुकसान की बात करें तो बीएसई मार्केट कैप के लिहाज से बड़ा नुकसान है। 29 मई को बीएसई का मार्केट कैप 1,54,58,305.78 करोड़ रुपए था। जबकि 19 जुलाई को सेंसेक्स गिरा तो मार्केट कैप 1,45,38,709.12 पर था। यानि दोनों दिनों के अंतर को देखा जाए तो 9.19 लाख करोड़ रुपए का है। जो इंवेस्टर्स का नुकसान है। खास बात ये है 2 लाख करोड़ रुपए का नुकसान सिर्फ 19 जुलाई का ही है।

यह भी पढ़ेंः- जियो और रिटेल ने कराई मुकेश अंबानी को कमाई, पहली तिमाही के रेवेन्यू में हुआ 22 फीसदी का इजाफा

50 दिनों में सेंसेक्स और निफ्टी की स्थिति

दिनांक सेंसेक्स (अंकों में) निफ्टी (अंकों में) बीएसई मार्केट कैप (करोड़ रुपए में)
29 मई 39,502.05 11,861.10 1,54,58,305.78
19 जुलाई 38,337.01 11,419.25 1,45,38,709.12
गिरावट 1165 442 9.19 लाख


बैंकिंग, ऑटो और कैपिटल गुड्स सब सेक्टर धड़ाम

अगर सेक्टोरल इंडेक्स की बात करें तो 50 दिनों के लिहाज से सभी सेक्टर धराशायी हैं। बैंक निफ्टी 29 मई से 19 जुलाई तक 1525 अंक नीचे जा चुका है। वहीं बैंक एक्सचेंज 1722.32 अंक लुढ़का है। सबसे ज्यादा नुकसान ऑटो सेक्टर को हुआ है। ऑटो सेक्टर को समान अवधि में 2428 अंकों की पटखनी खानी पड़ी है। कैपिटल गुड्स सेक्टर में 1881.65 अंकों की बिकवाली हुई और कंज्यूमर ड्यूरेबल्स 1685 अंकों की गिरावट पर रहा। इसके अलावा फार्मा और मेटल क्रमश: 540.16 और 675 अंकों की गिरावट पर आ चुके हैं। आईटी सेक्टर इन 50 दिनों में सपाट ही दिखाई दिया है।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diesel Price Today: लगातार दूसरे दिन पेट्रोल और डीजल के दाम में स्थिर, आज इतने चुकाने होंगे दाम

50 दिनों में सेक्टर्स में गिरावट

सेक्टर्स 29 मई की क्लोजिंग (अकों में) 19 जुलाई की क्लोजिंग (अकों में) गिरावट (अकों में)
बैंक निफ्टी 31295 29,770.35 1525
बीएसई ऑटो 18689.50 16261.50 2428
बैंक एक्स 35186.36 33,464.04 1722.32
ऑयल एवं गैस 15469.96 13,905.95 1564.01
फार्मा 13312.60 12,772.44 540.16
मेटल 10,914.50 10,239.65 675
कैपिटल गुड्स 19,908.57 18026.92 1881.65
कंज्यूमर ड्यूरेबल्स 24,612.90 22927.82 1685
एफएमसीजी 11,629.24 11087.43 541.81


44 हजार रुपए का सपना धराशाई

मार्केट एक्सपर्ट और तमाम जानकारों ने प्रिडिक्ट किया था कि अगर देश में मोदी सरकार एक बार फिर से मैजोरिटी के साथ आती है तो जुलाई 2019 तक सेंसेक्स 44 हजार को पार कर सकता है। यहां तक निफ्टी 50 के 15 हजार के पार होने का अनुमान लगाया गया था। मौजूदा स्थिति किसी से छिपी नहीं है। शुक्रवार को सेंसेक्स और निफ्टी 60 दिनों के निचले स्तर पर पहुंच गए हैं। जानकारों की मानें तो सेंसेक्स और निफ्टी दोनों उबरने में थोड़ा वक्त लग सकता है। क्योंकि कई सेक्टर्स गिरावट पर हैं। मिडकैप और स्मॉलकैप कंपनियों में भी काफी निराशा छाई हुई है। ऐसे में सेंसेक्स और अपने पीक पर पहुंचने वक्त लग सकता है।

यह भी पढ़ेंः- Amazon Prime Day पर लोगों ने उठाया बड़ा फायदा, 6500 में रुपए में खरीदें 9 लाख रुपए के प्रीमीयम कैमरा लेंस

बजट और ग्लोबल स्लो डाउन सबसे बड़ी वजह
केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया का कहना है कि यह बात पूरी तरह से सही है कि सेंसेक्स और निफ्टी को जिस उंचाई पर होना चाहिए था वो वहां नहीं है। सभी को उम्मीद थी कि मजबूत सरकार के आने के बाद बाजार उठेगा, लेकिन पिछले 50 दिनों में जिस तरह से मार्केट रहा उसके कई डॉमेस्टिक और ग्लोबल कारण हैं। बजट में जिस तरह से लोगों को घोषणाओं की उम्मीद थी वो नहीं हुई। जिससे निवेशक काफी निराश दिखाई दे रहे हैं। साथ एफपीआई पर टैक्स भी बड़ा कारण है। पिछले दिनों में एफपीआई में बड़ी बिकवाली देखने को मिली है। वहीं तमाम इंटरनेशनल इकोनॉमिक एजेंसीज ने ग्लोबल स्लोडाउन के संकेत दिए थे। जिसका असर देखने को मिल रहा है।

यह भी पढ़ेंः- बैक खातों से 1 करोड़ से ज्यादा का कैश निकालने पर कटेगा TDS, वित्त विधेयक में सरकार ने किया बदलाव

यह भी बने कारण
वहीं एंजेल ब्रोकिंग रिसर्च एंड कमोडिटीज के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट अनुज गुप्ता ने कहा कि मौजूदा समय में करंट अकाउंट डेफिसिट और पेट्रोल डीजल की कीमतों में वृद्घि हुई है। जिसकी वजह से मार्केट में गिरावट देखने को मिल रही है। एफआईएस में जिस तरह की बिकवाली देखने को मिली है वो भी बड़ा रीजन माना जा रहा है। इसके अलावा यूएस ने फेवर्ड नेशन दर्जा खत्म करने का भी असर बाजार में देखने को मिल रहा है। अजुज ने आगे बताया कि इकोनॉमिक ग्रोथ के नंबर्स भी पिछले महीनों खास नहीं रहे हैं। ऐसे में बाजार का गिरना लगातार जारी है।

यह भी पढ़ेंः- आधार कानून तोड़ने पर लगेगा एक करोड़ रुपए का जुर्माना, जांच अधिकारी होंगे नियुक्त

5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी बनने पर भी संशय
देश की नरेंद्र मोदी सरकार ने बजट में दावा किया है कि अगले पांच सालों में भारत 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बन जाएगा। अब इसमें भी सवालिया निशान खड़े हो गए हैं। जानकारों की मानें तो मौजूदा समय में देश की विकास दर चल रही है वो 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी बनने की ओर इशारा नहीं कर रही है। वहीं दुनिया की इकोनॉमी में भी स्लोडाउन जारी है। इस माहौल में भारत की विकास दर बाकी देशों से बेहतर हो संभव है, लेकिन देश की इकोनॉमी को 5 ट्रिलियन तक लेकर जाए, इसमें थोड़े सवाल जरूर खड़े हो रहे हैं।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned