विदेशी निवेशकों ने 23 जुलाई तक भारतीय बाजारों से निकाले 5,689 करोड़ रुपए, ये है वजह

 

कच्चे तेल की कीमतों में उछाल और अमरीकी डॉलर के मजबूत होने से विदेशी निवेशक निकट भविष्य में जोखिम नहीं उठाना चाहते हैं।

By: Dhirendra

Updated: 25 Jul 2021, 08:06 PM IST

नई दिल्ली। घरेलू और बाहरी उतार-चढ़ाव को देखते हुए विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ( Foreign Portfolio Investors ) ने जुलाई में अब तक भारतीय शेयर बाजारों से 5,689 करोड़ रुपए निकाले हैं। माना जा रहा है कि विदेशी निवेशकों ने विभिन्न घरेलू और वैश्विक कारकों को ध्यान में रखते हुए यह कदम उठाया है। फिलहाल इसे विदेशी निवेशकों की ओर से सतर्कता भरा कदम माना जा रहा है।

Read More: टाटा की ट्रेंट लिमिटेड ने 1 लाख के बना दिए 87 लाख रुपए, ये रहा तरीका

जोखिम मोल नहीं लेना चाहते एफपीआई

ताजा डिपॉजिटरी के आंकड़ों के मुताबिक विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने 1 से 23 जुलाई के दौरान शेयरों से 5,689.23 करोड़ रुपए की निकासी की है। इस दौरान उन्होंने ऋण या बॉन्ड बाजार में 3,190.76 करोड़ रुपए डाले। इस तरह उनकी शुद्ध निकासी 2,498.47 करोड़ रुपए रही। एफपीआई के इस रुख पर मॉर्निंगस्टार इंडिया के एसोसिएट निदेशक और प्रबंधक शोध हिमांशु श्रीवास्तव का कहना है कि मूल्यांकन में बढ़ोतरी, कच्चे तेल की कीमतों में उछाल और अमरीकी डॉलर के मजबूत होने से विदेशी निवेशक निकट भविष्य में जोखिम उठाने से बच रहे हैं।

बिकवाली पर जोर

वहीं ग्रो के सह-संस्थापक और मुख्य परिचालन अधिकारी ( सीओओ ) हर्ष जैन के मुताबिक सेंसेक्स और निफ्टी इस समय सर्वकालिक उच्चस्तर पर हैं। इस वजह से विदेशी निवेशक निवेश में सतर्कता बरत रहे हैं। जबकि जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वीके विजयकुमार का इस बारे में कहना है कि पिछले छह कारोबारी सत्रों में नकद बाजार में FPI ने लगातार बिकवाली की है।

Read More: SBI में सेलरी अकाउंट के हैं कई फायदे, 30 लाख का इंश्योरेंस सहित इन सुविधाओं का भी उठा सकते हैं लाभ

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned