New Delhi से New York और London से Europe तक क्यों फैल रही है चांदी की चमक?

  • भारत में बीते दो दिनों में 7 हजार रुपए से ज्यादा बढ़ चुके हैं Silver Price, 6 फीसदी के इजाफे के साथ कीमत 61 हजार रुपए के पार
  • दीपावली से पहले Silver Price Record 75 हजार के स्तर को तोडऩे के आसार, जानिए इसकी अहम वजह
  • भारत के वायदा बाजार में Gold Price पहली बार हुई 50 हजार रुपए के पार, 500 रुपए से ज्यादा का इजाफा

By: Saurabh Sharma

Updated: 22 Jul 2020, 01:56 PM IST

नई दिल्ली। भारत समेत दुनियाभर के बाजारों में चांदी की कीमत ( Silver Price ) में जोरदार तेजी देखने को मिल रही है। कोरोना वायरस ( Coronavirus Era ) के दौरान चांदी में इजाफा ( Silver Price Rise ) देखने को मिल रहा है। अगर बात भारत की करें तो दो दिनों में चांदी की कीमत में 7 हजार रुपए प्रति किलोग्राम से ज्यादा की बढ़ोतरी देखने को मिल चुकी है। वहीं न्यूयॉर्क ( New York ), लंदन ( London ) और यूरोप ( Europe ) में भी चांदी के दाम में 6 फीसदी का इजाफा देखने को मिल रहा है। जानकारों की मानें तो चांदी के दाम में दीपावली से पहले तक अपने उच्चतम स्तर 75 हजार प्रति किलोग्राम को भी पार कर सकता है। सवाल तो ये हैं कि आखिर चांदी की कीमत में पंख लगाए किसने? किन कारणों से चांदी के दाम इतने उछल रहे हैं। पढि़ए पत्रिका की स्पेशल रिपोर्ट...

यह भी पढ़ेंः- Silver में निवेश करने वालों को हुई 'चांदी', एक हफ्ते में दिन 7 हजार रुपए तक बढ़े दाम

भारत में चांदी की कीमत में जबरदस्त तेजी
शुरुआत भारत से करें तो भारतीय वायदा बाजार में चांदी की कीमत में 6 फीसदी से ज्यादा की तेजी दिखाई दे रही है। दोपहर 12 बजकर 20 मिनट पर चांदी की कीमत 3673 रुपए की तेजी के साथ 61015 रुपए प्रति किलोग्राम पर कारोबार कर रही है। जबकि कारोबारी सत्र के दौरान चांदी की कीमत 61280 रुपए के स्तर पर पहुंची थी। दो दिनों में चांदी की कीमत में 7 हजार रुपए प्रति किलोग्राम से ज्यादा की तेजी देखने को मिल चुकी है। अगर बात अप्रैल से करें तो चांदी की कीमत में 50 फीसदी से ज्यादा का इजाफा हो चुका हैै। अप्रैल के महीने के चांदी के औसतन दाम 41390 रुपए प्रति किलोग्राम थे। वहीं बात मार्च से करें तो इस महीने में चांदी का उच्चतम स्तर 47870 रुपए प्रति किलोग्राम था। कोरोना वायरस लॉकडाउन के बाद दाम 33580 रुपए प्रति किलोग्राम के न्यूनतम स्तर पर आ गया। जिसके बाद अब तक चांदी के दाम में 95 फीसदी से ज्यादा का इजाफा देखने को मिल चुका है।

यह भी पढ़ेंः- आज इन Shares में है आपके पास कमाई करने का मौका, कर सकते हैं निवेश

अप्रैल से अब तक कुछ इस तरह से बढ़े हैं दाम
अगर अप्रैल के महीने से करें तो पूर्ण लॉकडाउन की शुरुआत हो चुकी थी। जिसकी वजह से चांदी की कीमत में 3.71 फीसदी का इजाफा देखने को मिला है। मई में चांदी की कीमत में और ज्यादा उछाल देखने को मिला। आंकड़ों के अनुसार मई के महीने में चांदी 22.27 फीसदी उछली। उस महीने सोने की कीमत में सोने की कीमत में तेज उछाल देखने को मिला था। कई निवेशकों की जब से बाहर होने के कारण चांदी की ओर रुख किया था। जून के महीने में अनलॉक 1 की शुरुआत हुई और भारत समेत दुनियाभर के शेयर बाजारों में तेजी का रुख रहा। वहीं दूसरी ओर रुपए के मुकाबले डॉलर के तेज रहने के कारण चांदी में ज्यादा इजाफा देखने को नहीं मिला।या कहें कि 0.50 फीसदी की तेजी के साथ सपाट रहा। बात जुलाई की करें तो अब तक चांदी की कीमतों में 22 फीसदी की तेजी देखने को मिल चुकी है। जानकारों की मानें तो जुलाई के महीने के आंकड़ें में इजाफा देखने को मिल सकता है।

photo_2020-07-22_13-37-21.jpg

विदेशी बाजारों में चांदी की कीमत में इजाफा
सिर्फ भारतीय बाजारों में ही नहीं बल्कि विदेशी बाजारों में भी सोने के दाम में इजाफा देखने को मिला है। मौजूदा समय में कॉमेक्स बाजार में चांदी 6 फीसदी की तेजी के साथ करीब 22.84 डॉलर प्रति ओंस पर है। वहीं लंदन के बाजारों में भी चांदी 5.36 फीसदी की बढ़त के साथ 17.63 पाउंड प्रति ओंस पर कारोबार कर रही है। वहीं दूसरी ओर यूरोपीय बाजारों में चांदी की कीमत 5 फीसदी की बढ़त के साथ 19.42 यूरो प्रति ओंस पर कारोबार कर रही है। जानकारों की मानें तो विदेशों में कोरोना वायरस की संख्या और मौतों की वजह से 250 से ज्यादा सिल्वर माइनिंग ठप हो गई हैं। जिसकी वजह से विदेशी बाजारों में चांदी की कीमत में जबरदस्त इजाफा देखने को मिला है। जिसका असर भारत में भी देखने को मिल रहा है।

यह भी पढ़ेंः- Yes Bank Fraud Case: Rana Kapoor को PMLA Court से बड़ा झटका, नहीं मिली जमानत

चांदी की कीमतों में बढ़ोतरी की असल वजहें
- जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के अनुसार दुनियाभर में 14.5 मिलियन कोरोना केसों में इजाफा हुआ है और 6 लाख लोगों की मौत हुई है।
- एसएंडपी की रिपोर्ट के अनुसार दुनियाभर की 275 सिल्वर माइिनंग ठप हो गई हैं।
- लैटिन अमरीका दुनिया में सबसे ज्यादा चांदी प्रोड्यूस करता है, जहां की स्थिति बेहद खराब हो चुकी है। मैक्सिको कोरोना के मामले में इटली को पछाड़ चुका है।
- दुनियाभर की इकोनॉमी क्राइसिस में चल रही है। अमरीका और चीन के बीच भी टेंशन बढ़ रहा है। ऐसे में चांदी की ओर से निवेशकों का रुझान हैै।
- आने वाले दिनों में न्यूयॉर्क में चांदी की कीमत 20.77 डॉलर प्रति ओंस तक जा सकती है।
- गोल्ड सिल्वर रेश्यो में करेक्शन देखने को मिल रहा है। फरवरी में यह रेश्यो 90 के स्तर तक आ गया था।
- वैश्विक स्तर पर चांदी की ईटीएफ होल्डिंग में 21 फीसदी का इजाफा देखने को मिला है।
- सोलर पैनल, और दूसरी मैन्युफैक्चरिंग डिमांड आने की वजह से चांदी की कीमतों में तेजी देखने को मिल रही है।
- सिटी ग्रुप की रिपोर्ट के अनुसार दिसंबर 2020 तक चांदी की कीमत 25 डॉलर प्रति ओंस जा सकती है।
- मॉर्गन स्टानले के अनुसार चांदी की कीमतों में और इजाफा देखने को मिल सकता है।
- गोल्डमैन शैक्स का कहना है कि चांदी की डिमांड में लगातार इजाफा क्योंकि सोना अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गया है।

यह भी पढ़ेंः- RIL का धमाल, 2000 रुपए के स्तर पर आया Share, Share Market की तेजी पर लगा ब्रेक

दीपावली से पहले टूट सकता है 75 हजार का रिकॉर्ड
केडिया एडवाइजरी के डायरेक्टर अजय केडिया के अनुसार दुनियाभर की माइनिंग में काम ठप होने की वजह से चांदी की कीमतों में जबरदस्त तेजी आई है। यह तेजी आने वाले दिनों में भी बने रहने की संभावना है। इसका कारण है ग्लोबल डिमांड बढऩा। कोरोना वायरस की वजह से माइनिंग में प्रोडक्शन कम हो रहा है और डिमांड बढ़ रही है। ऐसे में चांदी के दाम में और इजाफा देखने को मिलेगा। उन्होंने कहा कि अगर ग्लोबल और स्थानीय सेंटीमेंट चांदी को लेकर ऐसे ही रहे तो दीपावली से पहले चांदी के दाम 75 हजार के स्तर को पार कर सकते हैं, जो अबब तक का रिकॉर्ड स्तर है।

यह भी पढ़ेंः- दुनिया के टॉप 5 अरबपतियों में शामिल हुए Mukesh Ambani, जानिए 24 घंटे में Net Worth में कितना हुआ इजाफा

भारत में बढ़ती रिचुअल्स डिमांड
वहीं दूसरी ओर भारत में इंडस्ट्रीयल डिमांड के साथ रिचुअल्स डिमांड में भी बदलाव देखने को मिला है। जियका असर आने वाले दिनों में काफी देखने को मिल सकता है। एजेंल ग्रुप के डिप्टी वाइस प्रेसीडेंट कमोडिटी एंड रिसर्च अनुज गुप्ता के अनुसार हाल के दिनों में कोरोना वायरस के दिनों के देश की आम जनता के व्यवहार में बदलाव देखने को मिला है। खासकर शादियों में 50 लोगों की गैदरिंग की वजह से चांदी के वेडिंग कार्ड और चांदी के मोमेंटो देने का चल न बढ़ गया है। उन्होंने आगे कहा कि आने वाले फेस्टिव सीजन खासकर दीपावली पर मिठाई, ड्राइफ्रूट और बाकी खाने-पीने के गिफ्ट पैक आइटम्स की डिमांड काफी कम होगी। उनकी जगह जगह चांदी के गिफ्ट आइटम्स और ड्यूरेबल्स की डिमांड होने के कारण कीमतों में इजाफा होने के चांस हैं।

सोना पहली बार 50 हजार रुपए के पार
वहीं दूसरी ओर सोने की कीमत ने भी वायदा बाजार में 50 हजार रुपए प्रति दस ग्राम का नया रिकॉर्ड बनाया। एमसीएक्स पर सोने के अगस्त वायदा अनुबंध में पिछले सत्र से 513 रुपए यानी 1.04 फीसदी की तेजी के साथ 50,040 रुपए प्रति 10 ग्राम पर कारोबार चल रहा था, जबकि इससे पहले सोने का भाव एमसीएक्स पर 50,085 रुपए प्रति 10 ग्राम तक उछला, जोकि सोने के भाव का एक नया रिकॉर्ड उंचा स्तर है। वहीं बात न्यूयॉर्क के कॉमेक्स बाजार की करें तो कॉमेक्स पर सोने के अगस्त वायदा अनुबंध में पिछले सत्र से 16.25 डॉलर यानी 0.88 फीसदी की तेजी के साथ 1860.15 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था, जबकि इससे पहले सोने का भाव कारोबार के दौरान 1866.75 डॉलर प्रति औंस तक उछला।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned