OMG : चंडीगढ़ से मेरठ के बीच चलती ट्रेन से 400 टन क्लिंकर चाेरी

Highlights

  • चंडीगढ़ से मेरठ के लिए रवाना हुई थी ट्रेन
  • मेरठ से ट्रकों से दादरी ले जाया गया माल
  • रास्ते में गायब हाे गया 400 टन क्लिंकर

By: shivmani tyagi

Published: 13 Nov 2020, 04:51 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मेरठ (meerut news ) अभी तक आपने फिल्मों में ही चलती ट्रेनों से बड़ी-बड़ी चोरियां होती हुई देखी होंगी लेकिन यह मामला मेरठ में सामने आया है। चंडीगढ़ ( Chandigarh ) से मेरठ के लिए सॉलिड मैटेरियल क्लिंकर को लेकर ट्रेन ( running train ) रवाना हुई लेकिन बीच में ही करीब 400 टन क्लिंकर गायब हो गया। इससे भी अधिक हैरान कर देने वाली बात यह है कि इस चोरी की इस घटना काे जीआरपी ( GRP ) और आरपीएफ ( rpf ) दर्ज करने काे तैयार नहीं है। सीमेंट कंपनी के अधिकारी जीआरपी और आरपीएफ थानों के चक्कर लगा रहे हैं लेकिन पुलिस उनकी कोई सुनवाई नहीं कर रही।

यह भी पढ़ें: शादी का झांसा देकर कई वर्षों तक शादीशुदा युवक करता रहा रेप

यह पूरा मामला मेरठ का है। सीमेंट ( cement ) बनाने में काम आने वाला सॉलिड मैटीरियल जिसे क्लिंकर कहते हैं उसकी करीब 3100 टन की खेप चंडीगढ़ से मेरठ लाई जा रही थी। चंडीगढ़ से रवाना होने के बाद ट्रेन मेरठ रुकी और यहां से ट्रक में भरकर यह सारा क्लिंकर दादरी स्थित प्लांट पर पहुंचाया गया। जब चंडीगढ़ से चलने वाले क्लिंकर और दादरी प्लांट पर पहुंचने वाले क्लिंकर की तुलना की गई तो पता चला कि 400 टन क्लिंकर गायब है। इतनी बड़ी चोरी सामने आने पर कंपनी के अधिकारी हैरान रह गए। उन्होंने जीआरपी और आरपीएफ पुलिस को इस घटना की सूचना दी लेकिन अभी तक पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया।

यह भी पढ़ें: धरतेरस पर बाजारों में हुई धनवर्षा, लोगों ने जमकर की खरीदारी, देखें वीडियो-

जब जीआरपी और आरपीएफ थाने में सीमेंट कंपनी के अधिकारियों की कोई सुनवाई नहीं हुई तो वह मेरठ एसपी क्राइम राम अर्ज से मिले। उन्होंने बताया कि सीमेंट बनाने के लिए क्लिंकर की आवश्यकता होती है जिसकी खदान होती है। इस इन खदानों से यूनिट तक क्लिंकर लाया जाता है। इसी क्रम में चंडीगढ़ से 3111 टन की एक खेप मालगाड़ी से 28 अक्टूबर को मेरठ पहुंचाई गई थी। क्लिंकर की यह रेक परतापुर क्षेत्र स्थित मोहिउद्दीनपुर में उतारी गई। यहां से ट्रकों में भरकर इस सारे क्लिंकर को ग्रेटर नोएडा स्थित दादरी प्लांट ले जाया गया। जब प्लांट में पहुंचे क्लिंकर का वजन किया गया तो पता चला कि करीब 400 ट्रक क्लिंकर कम था।

यह भी पढ़ें: स्टांप खरीद में हेराफेरी करने वालों पर जिलाधिकारी ने लगाया एक करोड़ रुपए का जुर्माना

उन्होंने बताया कि औसतन एक ट्रक में 20 टन माल आता है। इस प्रकार करीब 20 ट्रक क्लिंकर कर गायब हो गया है। सीमेंट कंपनी के अधिकारियों ने आशंका जताई है कि माल चलती ट्रेन में रास्ते में कहीं गायब हुआ है। आशंका यह भी जताई है कि इसमें रेलवे कर्मचारियों के अलावा ट्रांसपोर्ट कंपनी भी शक के घेरे में है क्योंकि आशंका यह भी जताई जा रही है कि ट्रेन से पूरा माल उतरा हो लेकिन जब उसे ट्रकों के माध्यम से दादरी ले जाया गया तो इस दौरान वह रास्ते में कम हो गया हो। अब पुलिस इस मामले की जांच की जुट गई है।
meerut news ,

Show More
shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned