script5 years of demonetisation what has changed in indian economy | Demonetisation: जहन में जिंदा हैं बैंक के बाहर लगी लंबी कतारें, बढ़ गया डिजिटल लेनदेन | Patrika News

Demonetisation: जहन में जिंदा हैं बैंक के बाहर लगी लंबी कतारें, बढ़ गया डिजिटल लेनदेन

Demonetisation: आज से पांच साल पहले यानी 8 नवम्बर 2016 को आखिर कौन भारतीय भूल सकता है। जब पीएम मोदी ने रात को 8 बजे मन की बात में 500 और एक हजार के नोटों के चलन पर रोक लगाने की घोषणा की। उनकी इस घोषणा से आम से लेकर खास तक कि जिंदगी पर फर्क पड़ा। लोग रात रात भर बैंक के बाहर लाइन लगाकर नोट जमा करते दिखई दिए। मेरठ के बैंकों का भी बुरा हाल था। कई जगह तो पुलिस ने लाठियां तक फटकारी।

मेरठ

Published: November 08, 2021 02:15:21 pm

Demonetisation: आज आठ नवंबर है। पांच साल पहले यानी 2016 में आज ही के दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रात आठ बजे देश को संबोधित करके 500 व 1000 रुपये के नोटों को अवैध घोषित कर दिया था। यह फैसला जिस वक्त लिया गया, उस वक्त चलन में मौजूद करेंसी का 86 फीसदी हिस्सा इन्हीं दोनों नोटों का था।
atm.jpg
यह भी पढ़ें

UP Election 2022: ऐप के माध्यम से घर बैठे वोटर लिस्ट में चेक करें अपना नाम, इस नंबर पर फोन कर ले सकते हैं मदद

उस दौरान मेरठ सहित प्रदेश बैंकों के बाहर लोगों की लंबी-लंबी कतारें आज तक जेहन में जिंदा हैं। इन पांच साल के दौरान नोटबंदी की वजह से देश की अर्थव्यवस्था में बड़ा बदलाव आया है। सीसीएसयू की प्रोफेसर डॉक्टर अनुपमा का मानना है कि नोट बंदी से कई लोगों की जिंदगी में बड़ा बदलाव आया है।
वहीं मेरठ कॉलेज के प्रोफेसर डॉक्टर सतीश का कहना है कि नोटबंदी को डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के रूप में प्रचारित किया गया, लेकिन मूल नीति में लक्ष्य एकदम अलग थे। नोटबंदी के दौरान सबसे बड़ा वादा सिस्टम में मौजूद बेहिसाब नगदी पर रोक लगाने का किया गया था और यह पैसा सीधे बैंक में जमा कराने के निर्देश दिए गए थे।
पीएम मोदी ने अपने भाषण में पॉलिसी का जिक्र करते हुए कहा था कि करोड़ों रुपये सरकारी अधिकारियों के बिस्तरों या बैगों में भरे होने की खबरों से कौन-सा ईमानदार नागरिक दुखी नहीं होगा? जिन लोगों के पास बेहिसाब पैसा है, उन्हें मजबूरी में इसे घोषित करना पड़ेगा, जिससे गैर-कानूनी लेन-देन से छुटकारा मिल जाएगा। उन्होंने कहा कि उस दौरान काफी लोगों ने नोटबंदी के इस फैसले को भ्रष्टाचार पर सर्जिकल स्ट्राइक भी कहा था।
डॉक्टर सतीश कहते हैं कि नोटबंदी को डिजिटल ट्रांजेक्शन में तेजी आने की बड़ी वजह माना जाता है। काफी लोग नोटबंदी के फैसले को इसी तर्क से साबित करने की कोशिश करते हैं, जबकि मूल नीति में इसका कोई जिक्र ही नहीं था। मूल नीति में कहा गया था कि इस कदम से भारतीय अर्थव्यवस्था में कैश फ्लो घट जाएगा। उन्होंने बताया कि बेहिसाब पैसा ही भ्रष्टाचार की असल वजह है।
भ्रष्ट तरीकों से पैसा कमाने से मुद्रास्फीति बेहद खराब स्थिति में पहुंच गई है। गरीब इस आग से झुलस रहा है। इससे सीधे तौर पर मध्यम और निचले वर्ग की खरीदारी की क्षमता प्रभावित होती है। आपने खुद महसूस किया होगा कि जब आप जमीन या मकान खरीदते हैं तो चेक से पैसा देने की जगह कैश की मांग की जाती है।
नोट बंदी के बाद मेरठ में पकड़ी गई कई करोड़ की करेंसी

नोट बंदी हुई तो सबसे अधिक परेशानी दो नंबर के धंधेबाजों को हुई। मेरठ में कई बार करोडों की करेंसी पकड़ी गई। जो आज भी थानों के माल खाने में पड़ी सड़ रही है। ये अलग बात है कि ऐसे कारोबारियों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई जिनके पास से ये इलीगल टेंडर पकड़े गए।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Republic Day 2022 LIVE : गणतंत्र दिवस से पूर्व राजधानी छावनी में तब्दील, हॉटस्पॉट्स पर रहेगी खास नजरRepublic Day 2022: 939 वीरों को मिलेंगे गैलेंट्री अवॉर्ड, सबसे ज्यादा मेडल जम्मू-कश्मीर पुलिस कोBudget 2022: कोरोना काल में दूसरी बार बजट पेश करेंगी निर्मला सीतारमण, जानिए तारीख और समयशरीयत पर हाईकोर्ट का अहम आदेश, काजी के फैसलों पर कही ये बातUP Assembly Elections 2022 : हेमा, जया, स्मृति और राजबब्बर रिझाएंगें मतदाताओं को, स्टार प्रचारकों की लिस्ट में हैं शामिलमुजफ्फरनगर सदर सीट : मुस्लिम बहुल सीट पर एक भी दल ने नहीं उतारा अल्पसंख्यक प्रत्याशीUttar Pradesh Assembly Elections 2022: सुभासपा अध्यक्ष कहां से लड़ेंगे चुनाव, ये अभी तक रहस्यWeather Update: राजस्थान में 26 व 27 जनवरी को अति शीतलहर का अलर्ट, 31 तक आसमान साफ
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.