सीएम योगी आदित्यनाथ आज मेरठ के उद्यमियों से होंगे रूबरू

Highlights

- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सामने आज अपनी समस्याएं रखेंगे मेरठ के उद्यमी

- मेरठ में लंबित प्रस्तावों पर करेंगे चर्चा

- उद्यमियों के लिए बनाई गई योजनाओं की लेंगे जानकारी

By: lokesh verma

Published: 21 Sep 2020, 10:57 AM IST

मेरठ. दो दिन पहले मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस वे को लेकर अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग उसके बाद आज उद्यमियों से वार्ता। सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मेरठ को लेकर काफी गंभीर हैं। मेरठ के साथ ही उनका ध्यान पश्चिम उत्तर प्रदेश के विकास पर भी लगातार बना हुआ है। इसी कारण वे लगातार यहां की समस्याओं से रूबरू होकर उनका समाधान करने के लिए प्रयासरत हैं। सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मेरठ के उद्यमियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बैठक करेंगे और यहां पर संचालित हो रही योजनाओं की जानकारी लेंगे। मुख्यमंत्री की बैठक से पहले डीएम के बालाजी ने बातचीत कर उद्यमियों की समस्याओं को जाना था। उन्होंने विकास के लंबित प्रस्तावों पर विस्तार से चर्चा की थी।

यह भी पढ़ें- जब पुलिस ने नहीं सुनी फरियाद ताे थाने में फूल लेकर पहुंची महिलाएं, एक दूसरे का मुंह देखते रह गए पुलिसकर्मी

बैठक में उद्यमियों ने कहा कि व्यापारी हित में जारी शासनादेशों का पालन नहीं हो रहा है। लघु उद्योग भारती के जिलाध्यक्ष राजकुमार शर्मा ने नए औद्योगिक क्षेत्र को विकसित किए जाने का मुद्दा उठाया। विश्वकर्मा इंडस्ट्री एस्टेट के निदेशक कमल ठाकुर ने कहा कि जिस तरह से सरकारी उपक्रमों, योजनाओं के लिए जमीन अधिग्रहण किए जाने की नीति है, वैसी ही उद्यमियों के लिए भी नीति है। जहां जटिलताएं हैं। वहां सरलीकरण किया जाए। उन्होंने कहा कि एमडीए शासनादेश का पालन नहीं कर रहा। निर्मित भूभाग पर शुल्क लेने के बजाए पूरे परिसर की गणना करके शुल्क वसूली करने में जुटा है।

बैठक में डीएम और सीडीओ के साथ उपायुक्त उद्योग वीके कौशल, सहायक आयुक्त उद्योग शैलेंद्र सिंह मौजूद रहे। वहीं, आईआईए के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अतुल भूषण गुप्ता, राकेश रस्तोगी, विश्वकर्मा इंडस्ट्रीयल एस्टेट के निदेशक कमल ठाकुर, लघु उद्योग भारती के जिलाध्यक्ष राजकुमार शर्मा, पंकज जैन, वेस्टर्न यूपी चैंबर ऑफ कॉमर्स से अध्यक्ष रामकुमार गुप्ता आदि उद्यमी शामिल हुए। आज सीएम और उद्यमियों की बैठक में जो मुददे प्रमुखता से उठाए जाएंगे उनमें मेरठ में नया औद्योगिक क्षेत्र जल्द विकसित किया जाए। मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस-वे के दोनों तरफ औद्योगिक क्षेत्र विकसित किया जाना। पूरे प्रदेश में सिर्फ मेरठ में ही एमडीए इम्पैक्ट फीस की वसूली क्यो कर रहा है? मेरठ से दिल्ली और अन्य शहरों की कनेक्विटी का मामला। मालवाहक ट्रेनों के लिए बन रहे गलियारे-ट्रैक का काम तेजी से पूरा होने आदि हैं।

यह भी पढ़ें- कोरोना मरीजों के ठीक हाेने का ग्राफ बढ़ा, 24 घंटे में 286 स्वस्थ हुए 125 नए मामले

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned