शर्मनाक: बेटी पैदा होने पर नवजात को जमीन पर फेंक पत्नी को घर से निकाला

Highlights

- मेरठ के थाना लिसाड़ी गेट स्थित जाकिर काॅलोनी का मामला
- बेटी पैदा होने से नाखुश पति ने पत्नी और ससुरालियों के साथ की मारपीट
- शादी के बाद से ही कर रहा 50 हजार और बाइक की डिमांड

By: lokesh verma

Published: 06 Sep 2020, 12:07 PM IST

मेरठ. एक ओर जहां बेटी के पैदा होने पर सरकार तरह-तरह की योजनाओं से उनके माता-पिता की झोलियां भर रही है। वहीं, दूसरी ओर समाज में ऐसे लोग भी हैं जो कि बेटी को अब भी अभिशाप समझ रहे हैं। ऐसा ही एक मामला थाना लिसाड़ी गेट क्षेत्र का सामने आया है। जहां एक महिला ने बेटी को जन्म दिया तो उसका पति आगबबूला हो उठा। उसने नवजात को उठाकर जमीन में फेंक दिया। इतना ही नहीं बेटी पैदा होने से गुस्साएं युवक ने अपनी पत्नी और ससुरालियों के साथ भी मारपीट की।

यह भी पढ़ें- युवती से छेडछाड़ के आरोपियों को पंचायत ने सुनाई थप्पड़ मारने की सजा, जानिये पूरा मामला

दरअसल, मामला लिसाड़ी गेट क्षेत्र के जाकिर कॉलोनी गली नंबर-22 का है। जहां की रहने वाली उज़मा का निकाह थाना नौचंदी क्षेत्र के शास्त्रीनगर सेक्टर-13 के रहने वाले परवेज़ के साथ हुआ था। निकाह के बाद से ही परवेज अपनी पत्नी उजमा पर बाइक और 50 हजार रुपए लाने का दबाव बना रहा था। इसको लेकर आए दिन पति परवेज उजमा के साथ मारपीट किया करता था।

उजमा का आरोप है कि पति परवेज ने बेटी पैदा होने के बाद उसको घर से निकाल दिया और बेटी को अपनाने से साफ इनकार कर दिया। पीड़ित उजमा ने आरोप लगाया कि पति परवेज, देवर और सास ने मायके पहुंचकर उसको और परिवार के लोगों को मारा। इतना ही नहीं उसके पति ने नवजात बेटी केा भी उठाकर जमीन पर फेंक दिया। पीड़िता ने कहा कि उसकी बेटी ऑपरेशन से हुई है। उसके बावजूद भी पति व देवर ने उसको जमकर पीटा। मारपीट में महिला और उसका भाई भी घायल हो गया। वहीं आरोपी पति व ससुराल पक्ष के लोग मारपीट के बाद मौके से फरार हो गए। इस संबंध में पीड़ित महिला के परिजनों ने थाने में तहरीर दी है। एसओ प्रशांत कपिल ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है।

यह भी पढ़ें- निर्वस्त्र होकर वीडियो कॉल के जरिये करता था गंदी बात, मोबाइल में मिले 500 लड़कियों के नंबर

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned