scriptPatriotic songs resonated in the dargah | एक हजार साल पुरानी दरगाह में सजी सूफियों की महफिल तो गूंजे देशभक्ति के तराने | Patrika News

एक हजार साल पुरानी दरगाह में सजी सूफियों की महफिल तो गूंजे देशभक्ति के तराने

मेरठ में बाले मिया की एक हजार पुरानी दरगाह में सूफियाना अंदाज में देशभक्ति के तराने गूंजे तो चंद कदम की दूरी पर स्थित चंडी मंदिर में भी घंटे बजने लगे। देश के कोने-कोने से आए सूफियों ने अपने अंदाज में बहु-धार्मिक और सांस्कृतिक रूप से विविध देश में शांति और सदभाव बनाए रखने का पैगाम दिया।

मेरठ

Published: October 29, 2021 09:26:57 pm

मेरठ. सूफीज्म का मतलब है हकीकत का सलाम और मोहब्बत का पैगाम, ये बात एक हजार साल पुरानी बाले मियां की मजार के सज्जादनशी कारी अशरफ ने कही। सूफियों के इस कार्यक्रम के दौरान सभी ने हिंदू-मुस्लिम भाईचारें और देश की एकता की बातें कहीं। साथ ही जिन मुस्लिम लोगों ने देश को स्वतंत्र कराने के लिए अपना बलिदान दिया उनके बारे में भी सूफियाना अंदाज में बताया। कार्यक्रम के दौरान कारी अशरफ ने कहा कि हमारे बुजुर्गों ने यही काम किया है उन्होंने खुद कम खाया और दूसरों को अधिक खिलाया। इसके साथ ही कहा कि हमारें यहां कोई जाति, धर्म भेदभाव नहीं होता।
suffi.jpg
यह भी पढ़ें

गजब! गाय के गोबर से हर दिन 300 यूनिट बिजली बना रहे इंजीनियर

बता दें कि बाले मिया की मजार मेरठ में स्थित है। इसके करीब एक हजार साल पुरानी बाले मिया की मजार पर कार्यक्रम हुआ। जिसमें एक तरफ चंडी देवी का मंदिर है तो दूसरी तरफ ये मजार है। इसके साथ ही कार्यक्रम के दौरान कारी अशरफ ने कहा कि सबसे अच्छी तरह से पेश आओ, झुक के मिलने में सरबलंदी है, सारी दुनिया-ए-औलादे आदम,सारी दुनिया में भाईबंदी है। उन्होंने कहा कि कोई एक शक्सियत है, उसके हम मानने वाले हैं, उसके बाद हमें वापस चले जाना है।
उन्होंने बताया कि बाले मियां हिंदुस्तान में सन् 1034 में आए थे। उनकी जिंदगी का एक ही मकसद था कि ये आपसी झगड़े, भेदभाव, जाति-धर्म, ऊंच-नीच की कोई बात नहीं है। कोई एक हमें पैदा करने वाला है, सबके के साथ प्यार, मोहब्बत, भाईचारे से रहना है। एक-दूसरे की तकलीफ और खुशी में शामिल होना है। इसी मिशन को लेकर वो हिंदुस्तान में आए थे। उनके इस मिशन को कुछ लोगों ने पंसद जो उनके अनुयायी हो गए और जिन्होंने उन्हें पसंद नहीं किया, उन्होंने उनके साथ झगड़े किया और उनकी शहादत हो गई। एक हजार साल होने पर भी लोगों के दिलों में उनके लिए वहीं जज्बा और प्यार है।
इसके साथ ही सूफी राशिद ने कहा कि हमारे सूफीज्म में कोई भेदभाव, ऊंच-नीच और जाति-धर्म नहीं होता है। हम लोग तरह-तरह से लोगों की मदद कर रहे है। कोई बीमार है, कोई भूखा है। बहरहाल, सब लोग लोगों की मदद किसी न किसी तरीके से कर रहे हैं। सूफी दिलबर ने कहा कि हम आतंकवाद के खिलाफ, आतंकियों के खिलाफ, आतंकवाद की बात करने वालों के सख्त खिलाफ है। हम उन्हें पसंद नहीं करते हैं। हमारे किसी भी ऐसे आदमी से ताल्लुक नहीं है। जो आतंकवादी श्रेणी से जुड़ा हुआ हो।
कार्यक्रम के मौके पर दिल्ली हजरत निजामुदीन औलिया से सूफी मोहम्मद अहमद, हजरत निजामुद्दीन औलिया से सूफी अहसान जो वहां सूफी गायक और कव्वाली कहते हैं, दरगाह कालियर से सूफी अजीम, दरगाह बाले मिया से सूफी दिलबर, दरगाह बाले मिया से सूफी कबीर और दरगाह अजमेर शरीफ में उर्स के दौरान कव्वाली और सूफी गायक सूफी राशिद मौजूद रहे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

India-Central Asia Summit: सुरक्षा और स्थिरता के लिए सहयोग जरूरी, भारत-मध्य एशिया समिट में बोले पीएम मोदीAir India : 69 साल बाद फिर TATA के हाथ में एयर इंडिया की कमानयूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रUP Election 2022: भाजपा सरकार ने नौजवानों को सिर्फ लाठीचार्ज और बेरोजगारी का अभिशाप दिया है: अखिलेश यादवतमिलनाडु सरकार का बड़ा फैसला, खत्म होगा नाईट कर्फ्यू और 1 फरवरी से खुलेंगे सभी स्कूल और कॉलेजपीएम नरेंद्र मोदी कल करेंगे नेशनल कैडेट कॉर्प्स की रैली को संभोधित, दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में होगा कार्यक्रम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.