डेंटल क्लिनिक के अंदर डॉक्टर कर रहा था ऐसा काम, हुआ खुलासा तो हैरान रह गए सभी, देखें वीडियो

Rahul Chauhan | Updated: 14 Jun 2019, 04:10:49 PM (IST) Meerut, Meerut, Uttar Pradesh, India

-भ्रूण जांच पर अंकुश लगाने का प्रशिक्षण देने के लिए हरियाणा से एक टीम मेरठ पहुंची थी

-टीम को मुखबिर से लगातार एक स्थानीय डॉक्टर द्वारा भ्रूण जांच कराने की बात कही जा रही थी

-डॉक्टर की क्लिनिक से कई गर्भवती महिलाओं के अल्ट्रासाउंड भी बरामद किए गए हैं

मेरठ। सरकार की लाख कोशिशों के बाद भी प्रदेश में भ्रूण जांच का गोरखधंधा थमने का नाम नहीं ले रहा है। सब कुछ जानते हुए भी स्थानीय अधिकारी इससे अंजान बने रहते हैं। ताजा मामला मेरठ के थाना मेडिकल इलाके के तेजगढ़ी चौराहे के पास एक डेंटल क्लिनिक का है। जहां डेंटल क्लीनिक की आड़ में गर्भवती महिलाओं से मोटी रकम ऐंठकर भ्रूण जांच कराने के नाम पर उनका अल्ट्रासाउंड कराया जाता था।

यह भी पढ़ें : तीन तलाक बिल की मुख्य याचिकाकर्ता ने कहा, सरकार को इसमें जोड़ना चाहिए एक और सुझाव

जानकारी के अनुसार, भ्रूण जांच पर अंकुश लगाने का प्रशिक्षण देने के लिए हरियाणा से एक टीम मेरठ पहुंची थी। टीम को मुखबिर से लगातार एक स्थानीय डॉक्टर द्वारा भ्रूण जांच कराने की बात कही जा रही थी। टीम ने पहले तो मेरठ में के कलेक्ट्रेट में भ्रूण जांच पर अंकुश लगाने का प्रेजेंटेशन दिया और फिर स्थानीय अधिकारियों को साथ लेकर उसी डॉक्टर को निशाना बनाया और क्लीनिक पर छापेमारी करते हुए डेंटिस्ट समेत दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया। डॉक्टर की क्लिनिक से कई गर्भवती महिलाओं के अल्ट्रासाउंड भी बरामद किए गए हैं।

ऐसे हरियाणा टीम के जाल में फंसा डाक्टर मुद्गल

बता दें कि मेडिकल इलाके के तेजगढ़ी चौराहे के पास मुद्गल डेंटल क्लिनिक के नाम से डॉ. वैभव मुद्गल का क्लीनिक है। हरियाणा की टीम को 3 महीने से मुखबिरों द्वारा सूचना मिल रही थी कि डॉ. वैभव अपने साथियों के साथ मिलकर भ्रूण जांच का गोरखधंधा चलाता है। जब आज हरियाणा की टीम मेरठ पहुंची तो टीम ने सिटी मजिस्ट्रेट की अनुमति के बाद डॉक्टर का राजफाश करने के लिए अपना जाल बुना।

उन्होंने एक गर्भवती महिला के साथ अपनी टीम की एक महिला सदस्य को भेजा और तेजगढ़ी चौराहे पर फुरकान नाम के एक दलाल से मिले जो महिला सदस्य को अपने साथ डॉक्टर मुद्गल के क्लीनिक पर ले गया। वहां महिला से जांच के नाम पर 17 हजार रुपये जमा कराए और डॉ. दीपमाला के लेटर पैड पर अल्ट्रासाउंड के लिए परामर्श दिया।

 

उसके बाद दलाल दोनों महिलाओं को लेकर हीरालाल डायग्नोस्टिक सेंटर पहुंचा। जहां उनसे फॉर्म भी भरवाया गया। फॉर्म भरता देख टीम समझ गए कि यहां पर इस तरह का गलत काम नहीं हो रहा है, बल्कि डॉ. वैभव ही कुछ लोगों के साथ मिलकर भ्रूण परीक्षण करने के नाम पर उनसे मोटी रकम ऐंठता है।

यह भी पढ़ें : चक्रवाती तूफान 'वायु' से दिल्ली-NCR के लोगों को मिल रही राहत, जानिए कैसे

मेरठ की टीम पर उठ रहे सवाल

टीम ने वैभव मुद्गल सहित दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। टीम को क्लिनिक से कई महिलाओं के अल्ट्रासाउंड सहित शुभकामना क्लीनिक की डॉक्टर दीपमाला के लेटर पैड भी मिले हैं। जिन पर डॉ. वैभव फर्जी तरीके से महिलाओं को अल्ट्रासाउंड का परामर्श देता है। सवाल यही है कि हर बार हरियाणा की टीम ही क्यों मेरठ के इन काले कारोबारियों का खुलासा करके उन्हें गिरफ्तार करती है। मेरठ की टीम आखिर सब कुछ जानने के बाद भी क्यों कुछ नहीं करती है। एसीएमओ डॉक्टर प्रवीण गौतम ने बताया कि उनको इसकी जानकारी तीन-चार महीने से थी। वह पूरे मामले की मॉनिटरिंग कर रहे थे। इसके बाद ही छापेमारी की कार्यवाही की गई है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned