Sawan 2018: यह है रावण की ससुराल, इस मंदिर में हुई थी रावण और मंदोदरी की पहली मुलाकात

Sawan 2018: यह है रावण की ससुराल, इस मंदिर में हुई थी रावण और मंदोदरी की पहली मुलाकात

sharad asthana | Publish: Aug, 06 2018 04:30:19 PM (IST) Meerut, Uttar Pradesh, India

मेरठ के श्री बिल्वेश्वर शिव मंदिर में भगवान भोलेनाथ ने दिए थे रानी मंदोदरी को दर्शन

मेरठ। यूं तो मेरठ शहर में सिद्धपीठ और शिव मंदिरों का अपना एक अलग ही इतिहास है, लेकिन शहर के सदर क्षेत्र स्थित श्री बिल्वेश्वर शिव मंदिर की अपनी अलग ही मान्यता है। बताया जाता है कि त्रेता युग में रावण की पत्नी मंदोदरी रोज भगवान शिव की पूजा करने के लिए अपनी सखियों के साथ इस मंदिर में आती थी। भगवान भोलेनाथ ने मयदानव की पुत्री मंदोदरी की तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें इसी मंदिर में ही दर्शन दिए थे और वरदान मांगने के लिए कहा था। मंदोदरी ने भगवान भोलेनाथ से इच्छा जताई कि उनका पति धरती पर सबसे बड़ा विद्वान और शक्तिशाली हो। बताया जाता है क‍ि इसके फलस्‍वरूप इसी मंदिर में रावण से मंदोदरी की पहली मुलाकात हुई थी, जिसके बाद दोनों की शादी हुई। तभी से इस मंदिर को भोलेनाथ का आशीर्वाद प्राप्त है।

यह भी देखें: इस मंदिर में पहली बार हुई थी मंदोदरी की रावण से मुलाकात

Meerut Mandir

सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद होती है पूरी

मंदिर के पुजारी पंडित हरीशचन्द्र जोशी ने बताया कि मान्यता है कि जो कोई भी सच्चे मन से भोलेनाथ की पूजा करता है, उसकी हर मनोकामना पूरी होती है। महाशिवरात्रि और शिवरात्रि पर प्रति वर्ष लाखों कांवड़िए मंदिर के शिवलिंग पर जल चढ़ाते हैं। हर सोमवार को सैकड़ों धर्मप्रेमी मनोकामनाओं को लेकर मंदिर आते हैं। जब भक्त की मनोकामना पूरी हो जाती है तो वह शिव-पार्वती की पोषाक चढ़ाने के बाद भंडारे का आयोजन करता है।

यह भी पढ़ें: सावन शिवरात्रि 2018: इस बार बन रहा है बेहद शुभ संयोग, इस शुभ मुहूर्त में करें जलाभिषेक

मयदानव ने कराया था भंडारा

पुराणों के अनुसार, मेरठ का प्राचीन नाम मयदानव का खेड़ा था और वह राक्षसपुरा का राजा था। मेरठ मयदानव की राजधानी थी। मयदानव की एक पुत्री थी, जिसका नाम मंदोदरी था। उसके नाम से ही इस नगर का नाम मयराष्ट्र पड़ा था। मंदोदरी शिव की बहुत बड़ी भक्त थी। मंदोदरी ने अपने पिता से श्री बिल्वेश्वर शिव मंदिर में भंडारा कराने की बात कही थी। मयदानव ने लोगों को मंदिर में आमंत्रित कर भंडारे का आयोजन किया था।

यह भी पढ़ें: Sawan 2018: भगवान शिव का ऐसे करेंगे अभिषेक तो हो जाएगी शादी

Meerut Mandir

ऐसे प्रसन्‍न हुए भगवान भोलेनाथ

ऐसी मान्यता है कि इस मंदिर को भोलेनाथ का आशीर्वाद प्राप्त है। जो कोई भी भक्त मंदिर में सच्चे मन और श्रद्धा से भगवान शिव की अराधना करता है और 40 दिन तक शिवलिंग के पास दीपक जलाता है, उसकी मनोकामना पूरी होती है। मंदोदरी ने भी 40 दिन तक इस मंदिर में दीप जलाकर भगवान को प्रसन्न किया था।

यह भी पढ़ें: श्रावण मास पर विशेष- इस स्‍वयंभू शिवलिंग पर रावण ने चढ़ाया था अपना पहला सिर

Meerut Mandir

151 वर्ष पुराना गुरुकुल

दो हजार गज जमीन में फैले श्री बिल्वेश्वर शिव मंदिर परिसर में करीब 151 वर्ष पुराना गुरुकुल है। गुरुकुल का नाम भी श्री बिल्वेश्वर संस्कृत महाविद्यालय है। उसमें लगभग 70 बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। मंदिर के पुजारी पंडित हरीश चन्द्र जोशी ने बताया कि वह 29 वर्ष से इस मंदिर में हैं। श्री बिल्वेश्वर शिव मंदिर मेरठ का पहला शिव मंदिर है।

देखें वीडियो: योगी के बाद अधिकारियों की पत्नियाें ने की शिवभक्तों पर पुष्पवर्षा

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned